Wednesday, October 20, 2021
Homeदेश-समाज'करोड़ों के घपले, मनी लॉन्ड्रिंग में शामिल थे पिता, वे चाहते थे स्वामी नित्यानंद...

‘करोड़ों के घपले, मनी लॉन्ड्रिंग में शामिल थे पिता, वे चाहते थे स्वामी नित्यानंद के खिलाफ करूँ षड़यंत्र’

"नित्यानंद आश्रम से ग्रैजुएशन करने के बाद मुझे (आश्रम) प्रशासन में काम दे दिया गया। मैंने उस दौरान यह पाया कि जहाँ कहीं मेरे पिता शामिल थे, वहाँ कई सारे सामानों और चीज़ों की खरीददारी में गड़बड़ी थी।"

आध्यात्मिक गुरु स्वामी नित्यानंद के खिलाफ लगे दो लड़कियों को अगवा करने और गायब कर देने के आरोप में नया मोड़ आया है। जिन दो बहनों के अपहरण और उन्हें जबरन आश्रम में रखने का आरोप स्वामी नित्यानंद पर है, उनमें से एक ने आगे आकर एक वीडियो मैसेज में नित्यानंद को क्लीन चिट दी है और अपने पिता पर ही उनके खिलाफ साज़िश करने का आरोप लगाया है

टाइम्स ऑफ़ इंडिया में छपी खबर के मुताबिक सामने आने वाली लड़की ‘गायब’ बताई जा रहीं दोनों बहनों में बड़ी है। 21 वर्षीया लड़की ने बताया है कि उसने अपने पिता द्वारा नित्यानंद आश्रम में की जा रही आर्थिक अनियमिताओं का खुलासा कर दिया था। इसके बाद से उसके पिता, जो तमिलनाडु के निवासी इस रिपोर्ट में बताए गए हैं, ने उस पर दबाव बनाना शुरू कर दिया था कि वह आश्रम छोड़ दे और अपने पिता के साथ मिलकर नित्यानंद के साथ साज़िश करे।

“नित्यानंद आश्रम से ग्रैजुएशन करने के बाद मुझे (आश्रम) प्रशासन में काम दे दिया गया। मैंने उस दौरान यह पाया कि जहाँ कहीं मेरे पिता शामिल थे, वहाँ कई सारे सामानों और चीज़ों की खरीददारी में गड़बड़ी थी।” गौरतलब है कि इन दोनों के पिता ने नित्यानंद पर आरोप लगाया था कि उन्होंने दोनों बहनों को जबरन अपने आश्रम में कैद कर के रखा था।

अपने पिता पर गंभीर आरोपों की लम्बी फेहरिस्त जारी रखते हुए उसने यह भी कहा कि वे अपने सहयोगियों को टेंडर जारी होने के पहले से तय राशि बता देते थे और उनके सहयोगी उससे सस्ते दाम लगाकर टेंडर पा लेते थे। इसके बाद चाहे वे जैसी भी गुणवत्ता का सामान दें, आश्रम खरीद लेता था। इसके अलावा कथित तौर पर लड़की के पिता ने एक बिल्डिंग बनाने में भी ₹12 करोड़ का घोटाला घटिया क्वालिटी के सामान के इस्तेमाल से किया था। यही नहीं, उसने अपने पिता पर इन अनियमितताओं के बदले एक टैबलेट कम्प्यूटर रिश्वत में पाने का आरोप भी लगाया है।

“मुझे यह जानकार बहुत आश्चर्य हुआ कि मेरे पिता मनी-लॉन्ड्रिंग में भी शामिल थे, बावजूद इसके कि स्वामीजी हमारे 6 सदस्यों के परिवार की आर्थिक सहायता करते थे।” उसने यह भी कहा कि उसके पिता ने पहले उसी पर दबाव डाला कि वह स्वामी नित्यानंद के खिलाफ बलात्कार का नकली आरोप लगाए, लेकिन उसने मना कर दिया। उसके बाद ही पिता ने खुद नित्यानंद पर आरोप लगाए।

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

रीब्रांडिग के लिए नाम बदलने की तैयारी कर रहा है Facebook: गूगल, पेप्सी, टिंडर जैसी कंपनियाँ भी कर चुकी हैं ये काम

फेसबुक का नाम बदलने को लेकर मार्क जुकरबर्ग 28 अक्टूबर को कंपनी की सालाना कनेक्ट कॉन्फ्रेंस में बात कर सकते हैं।

अब टेरर फंडिंग में पकड़ा गया तारिक अहमद डार, 2005 के दिल्ली ब्लास्ट में भी हुआ था गिरफ्तार: 2017 में तिहाड़ से छूटा था

अब जब तारिक अहमद डार फिर से NIA की गिरफ्त में आया है तो उसकी नई-पुरानी कड़ियों को जोड़ते हुए एक बार फिर से न्याय की आस जगी है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
130,228FollowersFollow
411,000SubscribersSubscribe