Monday, July 22, 2024
Homeदेश-समाजपादरी के रेप और टॉर्चर से परेशान महिला ने खाई 40 से ज्यादा नींद...

पादरी के रेप और टॉर्चर से परेशान महिला ने खाई 40 से ज्यादा नींद की गोलियाँ, अस्पताल में जिंदगी-मौत के बीच झूल रही; तमिलनाडु की घटना

इस घटना के बाद कई लोगों ने महिला के समर्थन में आवाज उठाई है। उन्होंने यौन उत्पीड़न के खिलाफ कार्रवाई करने और पीड़ितों को न्याय दिलाने की माँग की है। एक महिला कार्यकर्ता ने कहा, "यह बहुत ही दुखद घटना है। यह याद दिलाता है कि यौन उत्पीड़न एक गंभीर समस्या है। हमें इस समस्या के खिलाफ आवाज उठाने और पीड़ितों को न्याय दिलाने के लिए काम करने की जरूरत है।"

तमिलनाडु के तिरुनेलवेली में एक महिला ने नींद की 40 गोलियाँ खाकर आत्महत्या का प्रयास किया है। महिला ने पादरी के यौन शोषण और प्रताड़ना से तंग आकर ये कदम उठाया है। आरोपित पादरी का नाम जगन (39) है, जो स्थानीय चर्च में पादरी है। उसका महिला से संपर्क चर्च में प्रार्थना के लिए आने-जाने के दौरान हुआ था।

महिला की हालत नाजुक

पुलिस के अनुसार, 40 वर्षीय महिला एक प्रार्थना सभा में शामिल हुई थी, जहाँ उसका पादरी जगन ने यौन उत्पीड़न किया। उत्पीड़न से दुखी होकर महिला ने आत्महत्या का प्रयास किया। महिला को बेहोशी की हालत में परिजनों ने तिरुनेलवेली सरकारी मेडिकल कॉलेज अस्पताल में भर्ती कराया है। उसे आईसीयू में भर्ती कराया गया है और उसकी हालत नाजुक बताई जा रही है।

आरोपित पादरी जगन पुलिस की गिरफ्त से बाहर

महिला के परिजनों ने पुलिस को शिकायत दर्ज करा दी है। शिकायत के आधार पर पुलिस ने जगन के खिलाफ आत्महत्या के लिए उकसाने का मामला दर्ज कर लिया है। पुलिस मामले की जाँच कर रही है। पुलिस ने पादरी द्वारा यौन उत्पीड़न की इस घटना को गंभीर बताया है। फिलहाल पादरी की तलाश की जा रही है।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘कोई भी कार्रवाई हो तो हमारे पास आइए’: हाईकोर्ट ने 6 संपत्तियों को लेकर वक्फ बोर्ड को दी राहत, सेन्ट्रल विस्टा के तहत इन्हें...

दिसंबर 2021 में सॉलिसिटर जनरल तुषार मेहता ने हाईकोर्ट को आश्वासन दिया था कि वक्फ बोर्ड की संपत्तियों को कोई नुकसान नहीं पहुँचाया जाएगा।

‘कागज़ पर नहीं, UCC को जमीन पर उतारिए’: हाईकोर्ट ने ‘तीन तलाक’ को बताया अंधविश्वास, कहा – ऐसी रूढ़िवादी प्रथाओं पर लगे लगाम

मध्य प्रदेश हाई कोर्ट ने कहा है कि समान नागरिक संहिता (UCC) को कागजों की जगह अब जमीन पर उतारने की जरूरत है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -