Tuesday, July 23, 2024
Homeदेश-समाजकन्हैया लाल का गला काटने में 2 पाकिस्तानी भी शामिल: NIA की चार्जशीट में...

कन्हैया लाल का गला काटने में 2 पाकिस्तानी भी शामिल: NIA की चार्जशीट में 11 नाम, बताया- आतंकी मॉड्यूल की तरह कर रहे थे काम

NIA ने बताया है कि आरोपित आतंकी मॉड्यूल की तरह काम कर रहे थे। देश भर में आतंक फैलाना चाहते थे। इसलिए वीडियो बनाया गया था।

कन्हैया लाल की हत्या में राष्ट्रीय जाँच एजेंसी (NIA) ने चार्जशीट दाखिल कर दी है। जयपुर की स्पेशल कोर्ट में दायर चार्जशीट में 11 नाम हैं। इनमें दो पाकिस्तानी भी हैं। नुपूर शर्मा का समर्थन करने के कारण उदयपुर में 28 जून 2022 को मोहम्मद रियाज और गौस मोहम्मद ने दुकान में घुसकर कन्हैया लाल का गला रेत दिया था।

चार्जशीट में रियाज और गौस मोहम्मद के अलावा मोहसिन खान, आसिफ हुसैन, मोहम्मद मोहसिन, वसीम अली, फरहाद मोहम्मद शेख, मोहम्मद जावेद, मुस्लिम खान के नाम हैं। पाकिस्तान के सलमान और अबू इब्राहिम को भी आरोपित बनाया गया है। दोनों कराची के रहने वाले हैं। NIA ने बताया है कि आरोपित आतंकी मॉड्यूल की तरह काम कर रहे थे। देश भर में आतंक फैलाना चाहते थे। इसलिए वीडियो बनाया गया था।

रिपोर्ट्स के मुताबिक चार्जशीट के मुताबिक सोशल मीडिया पर कन्हैया लाल के पोस्ट शेयर करने की वजह से उसकी हत्या की साजिश रची गई। हत्यारे कट्टर और भड़काऊ ऑडियो, वीडियो और मैसेज से प्रेरणा ले रहे थे। सुनियोजित तरीके से कन्हैया लाल की हत्या के लिए चाकू और हथियारों की व्यवस्था की गई। हत्या के बाद धमकी भरा वीडियो जारी किया गया था।

हाल ही में आई एक रिपोर्ट से पता चला था कि उदयपुर की जिस गली में कन्हैया लाल का गला काटा गया था, वो अब भी सुनसान है। घरवाले न्याय की आस लिए बैठे हैं। उनके बेटे ने कसम खा रखी है कि जब तक हत्यारों को फाँसी नहीं होगी वह जूते-चप्पल नहीं पहनेगा। हत्यारों के दावत-ए-इस्लामी से कनेक्शन भी सामने आए थे। यह बात भी सामने आई थी कि गौस मोहम्मद और मोहम्मद रियाज अजमेर दरगाह के गौहर चिश्ती के संपर्क में भी था।

गौरतलब है कि इससे पहले एनआईए ने उमेश कोल्हे की हत्या मामले में चार्जशीट दायर की थी। महाराष्ट्र के अमरावती में उनकी भी हत्या कन्हैया लाल की तरह नुपूर शर्मा का समर्थन करने के कारण की गई थी। 16 दिसंबर को दाखिल इस चार्जशीट में 11 आरोपित बनाए गए हैं। इनका कनेक्शन कट्टरपंथी तबलीगी जमात से बताया गया है। यह बात भी सामने आई है कि कोल्हे के 16 साल पुराने दोस्त युसूफ ने ही उनकी मौत का फरमान जारी किया था। हत्या से पहले गला काटने की प्रैक्टिस भी की गई थी।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

20000 महिलाओं को रेप-मौत से बचाने के लिए जब कॉन्ग्रेसी मंत्री ने RSS से माँगी थी मदद: एक पत्र में दर्ज इतिहास, जिसे छिपा...

पत्र में कहा गया था कि आरएसएस 'फील्ड वर्क' के लिए लोगों को अत्यधिक प्रशिक्षित करेगा और संघ प्रमुख श्री गोलवरकर से परामर्श लिया जा सकता है।

कागज तो दिखाना ही पड़ेगा: अमर, अकबर या एंथनी… भोले के भक्तों को बेचना है खाना, तो जरूरी है कागज दिखाना – FSSAI अब...

सुप्रीम कोर्ट ने अपने आदेश में कहा कि कांवड़ रूट में नाम दिखने पर रोक लगाई जा रही है, लेकिन कागज दिखाने पर कोई रोक नहीं है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -