Monday, July 22, 2024
Homeदेश-समाजअखिलेश यादव थे CM, मुस्लिमों की आपत्ति के बाद कल्कि मंदिर के निर्माण पर...

अखिलेश यादव थे CM, मुस्लिमों की आपत्ति के बाद कल्कि मंदिर के निर्माण पर लगा दी रोक: हाई कोर्ट ने आदेश को बताया असंवैधानिक

श्री कल्कि नारायण मंदिर के निर्माण पर 2016 में 6 नवम्बर को अखिलेश सरकार ने रोक लगा दी थी। आज खुशी का अवसर है कि माननीय हाई कोर्ट ने श्री कल्कि धाम मंदिर के निर्माण पर लगे रोक को हटा दिया है।"

उत्तर प्रदेश के संभल में कल्कि धाम मंदिर के निर्माण का रास्ता साफ हो गया है। इलाहाबाद हाई कोर्ट ने निर्माण पर लगी रोक को असंवैधानिक बताया है। मुस्लिमों की आपत्ति के 2016 में निर्माण पर जिलाधिकारी ने रोक लगा दी थी। उस समय उत्तर प्रदेश में अखिलेश यादव के नेतृत्व में सपा की सरकार थी।

कॉन्ग्रेस नेता और कल्कि धाम के पीठाधीश्वर आचार्य प्रमोद कृष्णम अपनी निजी जमीन पर इस मंदिर का निर्माण करवा रहे थे। लेकिन मुस्लिमों की आपत्ति के बाद संभल के तत्कालीन डीएम ने कानून-व्‍यवस्‍था बिगड़ने का हवाला देकर मंदिर निर्माण पर रोक लगा दी थी। लेकिन इलाहाबाद हाई कोर्ट ने इस रोक को गलत माना है। जस्टिस सलिल कुमार राय और जस्टिस सुरेंद्र सिंह की डिवीजन बेंच ने अब प्रमोद कृष्‍णम को जिला पंचायत में मंदिर का नक्‍शा जमा करवाने का आदेश दिया है। साथ ही मंदिर निर्माण के लिए जिला पंचायत से अनुमति लेने को भी कहा है।

इलाहाबाद हाईकोर्ट ने संविधान के अनुच्छेद 25 और 26 का हवाला देते हुए कहा है कि निजी जमीन पर मंदिर निर्माण संविधान के मूल अधिकारों में शामिल है। ऐसे में दूसरे समुदाय (मुस्लिम) की काल्पनिक आपत्ति के आधार पर निर्माण को नहीं रोका जा सकता।

हाई कोर्ट के फैसले पर आचार्य प्रमोद कृष्णम ने खुशी जाहिर की है। उन्होंने कहा है, “श्री कल्कि नारायण मंदिर के निर्माण पर 2016 में 6 नवम्बर को अखिलेश सरकार ने रोक लगा दी थी। आज खुशी का अवसर है कि माननीय हाई कोर्ट ने श्री कल्कि धाम मंदिर के निर्माण पर लगे रोक को हटा दिया है। मैं माननीय उच्च न्यायालय के इस फैसले का स्वागत भी करता हूँ। माननीय उच्च न्यायालय ने कहा है कि किसी भी व्यक्ति को उसके निजी भूमि पर मंदिर निर्माण से नहीं रोका जा सकता है। यदि ऐसा किया जाता है तो यह उसके संवैधानिक अधिकारों का उल्लंघन है।”

मुस्लिम समुदाय ने जताई थी मंदिर निर्माण पर आपत्ति 

बता दें कि कल्कि मंदिर का शिलान्यास 2016 में किया गया था। यह इलाका मुस्लिम बहुल है। रिपोर्ट के अनुसार निर्माण पर आपत्ति जताते हुए मुस्लिमों ने कहा था कि मंदिर निर्माण स्थल से महज डेढ़ सौ मीटर की दूरी पर मस्जिद है। ऐसे में दोनों समुदायों में आपसी विवाद और कानून-व्यवस्था को खतरा हो सकता। इसके बाद मुस्लिम किसान यूनियन के राष्ट्रीय अध्यक्ष इनामुर रहमान खान की शिकायत पर तत्कालीन डीएम ने मंदिर निर्माण पर रोक लगा दी थी। इसके बाद आचार्य प्रमोद कृष्णम ने 2017 में इस फैसले को हाई कोर्ट में चुनौती दी। याचिका में उन्होंने डीएम के आदेश को कल्पनाओं पर आधारित बताया था।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

आम सैनिकों जैसी ड्यूटी, सेम वर्दी, भारतीय सेना में शामिल हो चुके हैं 1 लाख अग्निवीर: आरक्षण और नौकरी भी

भारतीय सेना में शामिल अग्निवीरों की संख्या 1 लाख के पार हो गई है, 50 हजार अग्निवीरों की भर्ती की जा रही है।

भारत के ओलंपिक खिलाड़ियों को मिला BCCI का साथ, जय शाह ने किया ₹8.50 करोड़ मदद का ऐलान: पेरिस में पदकों का रिकॉर्ड तोड़ने...

बीसीसीआई के सचिव जय शाह ने बताया कि ओलंपिक अभियान के लिए इंडियन ओलंपिक एसोसिएशन (IOA) को बीसीसीआई 8.5 करोड़ रुपए दे रही है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -