Tuesday, July 27, 2021
Homeदेश-समाजVideo: 'हिन्दुस्तान तो फासिस्ट है, ये हमारे लिए लानत है' - JNU में फिर...

Video: ‘हिन्दुस्तान तो फासिस्ट है, ये हमारे लिए लानत है’ – JNU में फिर शुरू हुआ ‘आजादी गैंग’ का खेल

JNU में आधी रात के अंधेरे में एक युवक काफी लोगों को इकट्ठा करके देश विरोधी बयान देता है और वहाँ मौजूद लोग भी उसका साथ देते हैं। आजादी-आजादी के नारे लगाते हैं।

अनुच्छेद-370 के ‘पॉवर’ के खत्म होने और उसके साथ 35-A खत्म होते ही देश भर में जश्न का माहौल है। लोग इसे ‘एक देश एक संंविधान’ बता रहे हैं, तो वहीं कुछ विपक्षी दलों द्वारा इसका विरोध भी किया जा रहा है। इसी बीच एक बार फिर से जेनयू से देश विरोधी नारों और ‘आजादी की गूँज’ सुनाई पड़ रही है। सोमवार (अगस्त 5, 2019) को राज्यसभा से विधेयक पारित होने के बाद आधी रात के अंधेरे में एक युवक काफी लोगों को इकट्ठा करके देश विरोधी बयान देता है और वहाँ मौजूद लोग भी उसका साथ देते हैं। आजादी-आजादी के नारे लगाते हैं।

ऊपर के वीडियो में आप देख सकते हैं कि एक युवक वहाँ उपस्थित लोगों से कहता है, “आप लोग डरिए मत, ये हम कह रहे हैं, इससे आपका कोई लेना-देना नहीं है। मैं यहाँ उपस्थित तमाम लोगों से कहना चाहता हूँ कि अगर आपके मकान पर मैं जाकर कब्जा कर लूँ, तो ये जुल्म होगा और ये जुल्म कश्मीरी बर्दाश्त नहीं करेगा। जब उसका कल्चर नहीं रहेगा, उसका तहजीब नहीं रहेगा, तो वो खुद को दुनिया के सामने क्या बताएगा? उसका क्या अस्तित्व रहेगा? वो दुनिया को क्या बतलाएगा कि मैं कौन हूँ? हिन्दुस्तान तो फासिस्ट है… ये हमारे लिए एक लानत है और मैं इस लानत को स्वीकार नहीं करूँगा।”

आगे उसने हिन्दुस्तान के तमाम बादशाऊर लोगों को संबोधित करते हुए कहा कि जिनकी खोपड़ी में दिमाग है, वो अपने इलाके के तमाम लीडर को कहें कि वो कश्मीर के साथ खड़े हो जाएँ। अगर वो खड़ा नहीं होगा कश्मीर को खो देगा और उसे खोना सबके लिए शर्मनाक होगा। इसके साथ ही वो बार-बार ‘370 वापस लाओ’ के नारे लगाता है और कहता है कि उसे ‘आजादी चाहिए- इस पार भी और उस पार भी।’

गौरतलब है कि इससे पहले भी जेएनयू ऐसे ही कारणों के कारण 3 साल पहले भी सुर्खियों को हिस्सा बना था। जब 9 फरवरी 2016 को वहाँ जेएनयू छात्र संघ के अध्यक्ष कन्हैया कुमार समेत अन्य छात्र नेताओं ने संसद हमले के दोषी अफजल गुरू को फाँसी पर लटकाए जाने के विरोध में कार्यक्रम आयोजित किया था। इस दौरान एबीवीपी (अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद) ने आरोप लगाया था कि यहाँ ‘भारत तेरे टुकड़े होंगे’ और आतंकी ‘अफजल तेरे कातिल जिंदा हैं’, जैसे नारे लगे। जिसके बाद इस मामले पर बाकायदा कार्रवाई हुई। अभी फिलहाल इस मामले में दिल्ली की एक कोर्ट में सुनवाई चल रही है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘कारगिल कमेटी’ पर कॉन्ग्रेस की कुण्डली: लोकतंत्र की सुरक्षा के लिए राष्ट्रीय सुरक्षा राजनीतिक दृष्टिकोण का न हो मोहताज

हमें ध्यान में रखना होगा कि जिस लोकतंत्र पर हम गर्व करते हैं उसकी सुरक्षा तभी तक संभव है जबतक राष्ट्रीय सुरक्षा का विषय किसी राजनीतिक दृष्टिकोण का मोहताज नहीं है।

असम-मिजोरम बॉर्डर पर भड़की हिंसा, असम के 6 पुलिसकर्मियों की मौत: हस्तक्षेप के दोनों राज्‍यों के CM ने गृहमंत्री से लगाई गुहार

असम के मुख्यमंत्री हिमंत बिस्वा सरमा ने ट्वीट कर बताया कि असम-मिज़ोरम सीमा पर तनाव में असम पुलिस के 6 जवानों की जान चली गई है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
111,361FollowersFollow
393,000SubscribersSubscribe