Wednesday, July 24, 2024
Homeदेश-समाजCAA के समर्थन में बड़ी रैली करने वाले थे हिंदूवादी नेता रंजीत बच्चन, इसलिए...

CAA के समर्थन में बड़ी रैली करने वाले थे हिंदूवादी नेता रंजीत बच्चन, इसलिए हुई हत्या: पत्नी कालिंदी

बच्चन की हत्या रविवार को तब की गई जब वे मॉर्निंग वाक के लिए निकले थे। लखनऊ के हजरतगंज इलाक़े में बदमाशों ने उनके सिर में गोली मार दी थी। जाँच में पुलिस की 8 टीमें लगी हुई हैं। पुलिस ने दो संदिग्धों का सीसीटीवी फुटेज भी जारी किया है।

विश्व हिन्दू महासभा के अध्यक्ष रंजीत बच्चन की हत्या के मामले में नया खुलासा हुआ है। उनकी पत्नी कालिंदी ने आरोप लगाया है कि उनके पति की हत्या सीएए का समर्थन करने के कारण हुई है। हालाँकि, पुलिस को इस मामले में अब तक कोई सुराग नहीं मिल पाया है और न ही अपराधियों का पता चल सका है। इस बीच रंजीत की पत्नी के बयान से नया खुलासा हुआ है कि वो सीएए के समर्थन में भव्य साइकिल यात्रा की तैयारी में लगे थे। बता दें कि कालिंदी ख़ुद लिम्का बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड होल्डर साइक्लिस्ट हैं और उन्होंने अपने पति रंजीत के साथ 1.32 लाख किलोमीटर की यात्रा तय की थी।

कालिंदी ने ये बातें ‘नवभारत टाइम्स’ से बातचीत के दौरान कही। एनबीटी की वेबसाइट पर प्रकाशित ख़बर के अनुसार, कालिंदी ने बताया कि रंजीत जल्द ही नागरिकता संशोधन क़ानून के समर्थन में एक भव्य आयोजन करने वाले थे। वे पूरे उत्तर प्रदेश में साइकिल से घूम कर सीएए के प्रति जागरूकता फैलाने की तैयारी में लगे हुए थे। वो सीएए को लेकर चल रहे अफवाहों और झूठ के भ्रमजाल से परेशान थे। कालिंदी ने आशंका जताई कि उनके पति की हत्या के पीछे सीएए का समर्थन भी हो सकता है।

रंजीत सोशल मीडिया में भी सीएए को लेकर लोगों का भ्रम दूर करने के लिए पोस्ट्स डालते रहते थे। कालिंदी ने इस दौरान मीडिया में चल रही उन बातों से भी इनकार किया, जिनमें कहा जा रहा है कि उनके घर में घरेलू विवाद चल रहा था। उन्होंने उन मीडिया ख़बरों को भी नकार दिया, जिनमें रंजीत की तीन शादियाँ होने की बातें कही जा रही थी। रंजीत की दूसरी पत्नी स्मृति वर्मा लखनऊ के विकासनगर की रहने वाली है। कालिंदी ने बताया कि रंजीत उनके साथ ही रहते थे लकिन कभी-कभी स्मृति से मिलने भी जाते थे।

कालिंदी ने बताया कि शुरुआत में उन्होंने उन चीजों का विरोध किया था और हर औरत ऐसा ही करती। हालाँकि, उन्होंने बताया कि अब ऐसी कोई बात नहीं थी और सभी हँसी-ख़ुशी रह रहे थे। कालिंदी ने बताया कि उन्होंने रंजीत और स्मृति के रिश्ते को स्वीकार कर लिया था। रंजीत की पहली शादी मार्च 2014 में हुई थी और दूसरी शादी अप्रैल 2015 में हुई थी।

हत्या की जाँच कर रही पुलिस ने दो संदिग्धों का सीसीटीवी फुटेज भी जारी किया है। आरोपितों के संबंध में कोई भी जानकारी देने पर 50,000 रुपए का इनाम दिए जाने की घोषणा की गई है। जाँच में पुलिस की 8 टीमें लगी हुई हैं। लापरवाही के आरोप में 4 पुलिसकर्मी सस्पेंड भी किए जा चुके हैं। बच्चन की हत्या रविवार (फरवरी 2, 2020) को तब की गई जब वे मॉर्निंग वाक के लिए निकले थे। लखनऊ के हजरतगंज इलाक़े में बदमाशों ने उनके सिर में गोली मार दी थी।

विश्व हिंदू महासभा अध्यक्ष रंजीत के हत्यारे शॉल ओढ़े CCTV में कैद! पुलिस ने रखा है ₹50000 का इनाम

CAA के समर्थन में हिंदूवादी नेता रंजीत बच्चन ने की थी रैली, 1 दिन पहले ही मनाया था जन्मदिन

लखनऊ के हजरतगंज में विश्व हिंदू महासभा के अध्यक्ष की हत्या, सिर में गोली मार बाइक सवार फरार

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘एंजेल टैक्स’ खत्म होने का श्रेय लूट रहे P चिदंबरम, भूल गए कौन लेकर आया था: जानिए क्या है ये, कैसे 1.27 लाख StartUps...

P चिदंबरम ने इसके खत्म होने का श्रेय तो ले लिया, लेकिन वो इस दौरान ये बताना भूल गए कि आखिर ये 'एंजेल टैक्स' लेकर कौन आया था। चलिए 12 साल पीछे।

पत्रकार प्रदीप भंडारी बने BJP के राष्ट्रीय प्रवक्ता: ‘जन की बात’ के जरिए दिखा चुके हैं राजनीतिक समझ, रिपोर्टिंग से हिला दी थी उद्धव...

उन्होंने कर्नाटक स्थित 'मणिपाल इंस्टिट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी' (MIT) से इलेक्ट्रॉनिक एवं कम्युनिकेशंस में इंजीनियरिंग कर रखा है। स्कूल में पढ़ाया भी।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -