Saturday, July 20, 2024
Homeदेश-समाजक्या DU क्या कनॉट प्लेस, बारिश का मौसम शुरू होते ही झील बनी दिल्ली:...

क्या DU क्या कनॉट प्लेस, बारिश का मौसम शुरू होते ही झील बनी दिल्ली: लोगों के निशाने पर CM केजरीवाल, कहा – शहर को वेनिस बना दिया

दिल्ली विश्वविद्यालय में भी स्थिति अच्छी नहीं है। वहाँ नॉर्थ कैम्पस में जल जमाव देखने को मिला।

दिल्ली में पहली ही बड़ी बारिश में सड़कों और गली-मुहल्लों का बुरा हाल हो गया है। लोग सोशल मीडिया पर तस्वीरें और वीडियो शेयर कर के बता रहे हैं कि कैसे देश की राजधानी में इतने खराब हालात हैं। मथुरा रोड पर सरिता विहार स्थित अपोलो हॉस्पिटल के पास भारी जल जमाव हो गया है। वहाँ गाड़ियाँ रेंगती हुई नजर आईं। सेन्ट्रल दिल्ली के हाई प्रोफ़ाइल इलाका कनॉट प्लेस का भी बुरा हाल है। वहाँ तो कई दुकानों में ही बारिश का पानी घुस गया है।

‘कनॉट प्लेस मार्किट एसोसिएशन’ ने इसे लेकर आपत्ति भी जताई है। दिल्ली विश्वविद्यालय में भी स्थिति अच्छी नहीं है। वहाँ नॉर्थ कैम्पस में जल जमाव देखने को मिला। पानी में वॉलीबॉल देखते हुए छात्रों का वीडियो भी सामने आया है। सदर बाजार की दुकानों में भी बारिश का पानी घुस गया। ट्रैफिक पुलिस ने जानकारी दी है कि ISBT कश्मीरी गेट से लेकर राज घाट तक का यातायात बाधित हो गया है। कारण – हनुमान मंदिर, यमुना बाजार और निगम बोध घाट के पास जल भराव हो गया है।

दिल्ली में अगले 4 दिनों तक बारिश का अलर्ट है, ऐसे में इन सड़कों का हाल और भी बुरा हो सकता है। पत्रकार शिवम प्रताप सिंह ने दक्षिणी-पूर्वी दिल्ली के भोगल का वीडियो शेयर करते हुए लिखा कि ये वही दिल्ली है, जिसे लंदन बनाने का वादे किए गए थे। वहाँ ऑटो और कारों को पानी में फँसे हुए देखा जा सकता है। एक व्यक्ति ने सफदरगंज का वीडियो शेयर करते हुए लिखा कि सड़क नाला बन गया है। वीडियो में घोड़े को ताँगे को खींच कर ले जाते हुए देखा जा सकता है, जबकि गाड़ियाँ फँसी हुई थीं।

कुछ लोगों ने तंज कसते हुए दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल को धन्यवाद दिया और कहा कि दिल्ली को वेनिस बनाने के लिए धन्यवाद। वहीं कुछ ने दिल्ली को झीलों का शहर करार दिया। कनॉट प्लेस में जहाँ पार्किंग में लगीं गाड़ियों को पानी में डूबे हुए देखा जा सकता है। कश्मीरी गेट स्थित ऑटो स्पेयर पार्ट्स के बाजार में भी पानी घुस गया और वहाँ स्थिति तालाब की तरह नजर आई। बता दें कि AAP सरकार ने दिल्ली को लन्दन बनाने के वादे किए थे, जिसे याद कर लोग नाराजगी जता रहे हैं।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

फैक्ट चेक’ की आड़ लेकर भारत में ‘प्रोपेगेंडा’ फैलाने की तैयारी कर रहा अमेरिका, 1.67 करोड़ रुपए ‘फूँक’ तैयार कर रहा ‘सोशल मीडिया इन्फ्लूएंसर्स’...

अमेरिका कथित 'फैक्ट चेकर्स' की फौज को तैयार करने की योजना को चतुराई से 'डिजिटल लिटरेसी' का नाम दे रहा है, लेकिन इनका काम होगा भारत में अमेरिकी नरेटिव को बढ़ावा देना।

मुस्लिम फल विक्रेताओं एवं काँवड़ियों वाले विवाद में ‘थूक’ व ‘हलाल’ के अलावा एक और पहलू: समझिए सच्चर कमिटी की रिपोर्ट और असंगठित क्षेत्र...

काँवड़ियों के पास ये विकल्प क्यों नहीं होना चाहिए, अगर वो सिर्फ हिन्दू विक्रेताओं से ही सामान खरीदना चाहते हैं तो? मुस्लिम भी तो लेते हैं हलाल?

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -