Saturday, July 20, 2024
Homeदेश-समाजगैंगस्टर की प्रेमिका, होटल मालिक संग लिव-इन: हत्या के 11 दिन बाद नहर में...

गैंगस्टर की प्रेमिका, होटल मालिक संग लिव-इन: हत्या के 11 दिन बाद नहर में तैरती मिली मॉडल की लाश, जानिए कौन थी दिव्या पाहुजा

मॉडल दिव्या पाहूजा की हत्या के 11 दिन बाद उनका शव बरामद हो गया है। शव ठिकाने लगाने वाले बलराज गिल की निशानदेही पर उसे टोहना के नहर से बरामद किया गया है। वो बलराज गिल ही था, जिसने बीएमडब्ल्यू कार से दिव्या के शव को ठिकाने लगाया था और फिर विदेश जाने की फिराक में कोलकाता एयरपोर्ट तक पहुँच गया था। वहीं से पुलिस ने उसे गिरफ्तार किया और ट्रांजिट रिमांड पर लेकर गुरुग्राम लाई।

मॉडल दिव्या पाहूजा की हत्या के 11 दिन बाद उनका शव बरामद हो गया है। शव ठिकाने लगाने वाले बलराज गिल की निशानदेही पर उसे टोहना के नहर से बरामद किया गया है। वो बलराज गिल ही था, जिसने बीएमडब्ल्यू कार से दिव्या के शव को ठिकाने लगाया था और फिर विदेश जाने की फिराक में कोलकाता एयरपोर्ट तक पहुँच गया था। वहीं से पुलिस ने उसे गिरफ्तार किया और ट्रांजिट रिमांड पर लेकर गुरुग्राम लाई।

11वें दिन मिला शव, पंजाब से बहकर हरियाणा पहुँचा

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, दिव्या पाहूजा का शव बलराज गिल ने 3 जनवरी 2024 को पटियाला के पास भाखड़ा नहर में फेंका था। शव इतने दिनों तक बहता रहा और आखिरकार हरियाणा टोहना नहर तक आ गया था। पुलिस ने शव की तलाश के लिए पंजाब से हरियाणा तक उस रूट पर तफ्तीश की, जिसके बाद ही इस शव को बरामद किया गया है। पुलिस की 6 टीमें दिव्या का शव तलाश रही थीं।

कोलकाता में गिरफ्तार हुआ बलराज गिल

दिव्या पाहूजा की गुरुग्राम के ‘द सिटी पॉइंट होटल’ में 2 जनवरी 2024 की शाम को गोली मारकर हत्या कर दी गई थी। उसका बॉयफ्रेंड अभिजीत ही उस होटल का मालिक है। अभिजीत ने ही बलराज गिल को बुलाकर दिव्या के शव को ठिकाने लगाने की जिम्मेदारी सौंपी थी। मोहाली के रहने वाले बलराज ने अपने साथी रवि बंगा के साथ मिलकर शव को बीएमडब्ल्यू कार में डाला और नहर में फेंक दिया।

शव को फेंकने के बाद उन्होंने बीएमडब्ल्यू कार को पाटियाला बस स्टैंड के पास खड़ी कर वहाँ से उदयपुर फरार हो गए। उदयपुर से लौटकर दोनों ट्रेन से चंडीगढ़ से हावड़ा स्टेशन पहुँचे थे। यहाँ से दोनों अलग हो गए। बलराज विदेश भागना चाहता था। हालाँकि, पुलिस ने उसे कलकत्ता एयरपोर्ट से गिरफ्तार हो गया। वहीं, रवि बंगा अभी भी फरार है। इस मामले में अभिजीत और मेघा पहले ही गिरफ्तार हो चुके हैं।

हाल ही में जेल से छूटी थी दिव्या पाहूजा

दिव्या पाहूजा गुरुग्राम में मॉडल थी। वो एक गैंगस्टर संदीप गडोली से संपर्क में आ गई थी। दोनों मुंबई में थे, तभी साल 2016 में संदीप गाडोली का एनकाउंटर हो गया था। गैंगस्टर संदीप दिल्ली एनसीआर में बहुत सारे गैर-कानूनी कामों में जुटा हुआ था। वो अवैध शराब, वसूली और सट्टेबाजी जैसे काम करता था। उस पर पुलिस ने ईनाम भी रखा था। संदीप गडोली तक पुलिस दिव्या पाहूजा के जरिए ही पहुँची थी।

जानकारी के मुताबिक, इस मामले में कोर्ट के हस्तक्षेप के बाद एनकाउंटर करने वाले पुलिस वालों के साथ ही दिव्या को भी गिरफ्तार कर लिया था। दिव्या 6 माह पहले 25 जुलाई को ही जेल से छूटी थी। इसके बाद वह जेल में बंद गैंगस्टर बिंदर गुर्जर के संपर्क में आई। बिंदर गुर्जर के कहने पर दिव्या होटल मालिक अभिजीत से मिली और फिर अभिजीत के साथ साथ लिव इन में रहने लगी।

पुलिस से पूछताछ में अभिजीत ने स्वीकार की है कि वह 27 वर्षीय दिव्या के साथ रिलेशनशिप में था। दोनों के बीच संबंध भी बने थे। इस दौरान दिव्या ने अभिजीत के साथ अंतरंग पलों का वीडियो बना लिया था और पैसों के लिए उसे ब्लैकमेल करती थी। इस ब्लैकमेल से तंग आकर अभिजीत ने होटल के कमरे में गोली मारकर उसकी हत्या कर दी थी।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

फैक्ट चेक’ की आड़ लेकर भारत में ‘प्रोपेगेंडा’ फैलाने की तैयारी कर रहा अमेरिका, 1.67 करोड़ रुपए ‘फूँक’ तैयार कर रहा ‘सोशल मीडिया इन्फ्लूएंसर्स’...

अमेरिका कथित 'फैक्ट चेकर्स' की फौज को तैयार करने की योजना को चतुराई से 'डिजिटल लिटरेसी' का नाम दे रहा है, लेकिन इनका काम होगा भारत में अमेरिकी नरेटिव को बढ़ावा देना।

मुस्लिम फल विक्रेताओं एवं काँवड़ियों वाले विवाद में ‘थूक’ व ‘हलाल’ के अलावा एक और पहलू: समझिए सच्चर कमिटी की रिपोर्ट और असंगठित क्षेत्र...

काँवड़ियों के पास ये विकल्प क्यों नहीं होना चाहिए, अगर वो सिर्फ हिन्दू विक्रेताओं से ही सामान खरीदना चाहते हैं तो? मुस्लिम भी तो लेते हैं हलाल?

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -