Tuesday, July 14, 2020
Home विचार राजनैतिक मुद्दे वर्तमान राजनीति को सर्कस कहने वाले चिदंबरम ख़ुद की ‘जोकर’ वाली भूमिका पर क्या...

वर्तमान राजनीति को सर्कस कहने वाले चिदंबरम ख़ुद की ‘जोकर’ वाली भूमिका पर क्या कहेंगे

सच तो यह है कि मोदी सरकार जब से सत्ता में आई है, तब से गाँधी परिवार और उनके प्रियजनों का सुख-चैन-नींद सब स्वाहा हो गया है। इसी का परिणाम है पी चिदंबरम का यह आर्टिकल जिसमें उनकी बेचैनी स्पष्ट नज़र आ रही है।

ये भी पढ़ें

लोकसभा चुनाव सिर पर हैं और कॉन्ग्रेसी खेमे की हताशा और निराशा बेक़ाबू होती जा रही है। अपने ‘बिगड़े’ मानसिक संतुलन के चलते कब कौन क्या कह दें कुछ पता नहीं। ऐसी ही एक हरक़त कॉन्ग्रेस के पूर्व वित्त मंत्री पी. चिदंबरम ने अपने एक आर्टिकल के माध्यम से की। अपने इस आर्टिकल में उन्होंने बीजेपी को घेरते हुए कई मुद्दों को शामिल किया।

शुरुआत करते हैं उन मुद्दों से जिन्हें इस आर्टिकल के ज़रिए पीएम मोदी की छवि को धूमिल करने का प्रयास किया गया। चिंदंबरम ने पहला वार ‘चौकीदार’ शब्द पर किया और कहा कि चौकीदार होना सम्मानजनक काम है जो कई शताब्दियों से चला आ रहा है। चौकीदारों के लिए दिन-रात सब एक समान होते हैं।

चौकीदार प्रधानमंत्री की चौकीदारी, बन गया वो दर्द जिसका कोई इलाज नहीं

अपने लेख में उन्होंने पीएम मोदी पर निशाना साधते हुए उनके द्वारा चौकीदार शब्द के इस्तेमाल का मखौल उड़ाया। उनके इस प्रकार मखौल उड़ाने को मैं उनका दर्द कहूँगी। कारण स्पष्ट है क्योंकि देश के इसी चौकीदार की चौकीदारी का नतीजा था कि एयरसेल-मैक्सिस डील में पिता-पुत्र (पी चिदंबरम और कार्ति चिदंबरम) के घोटालों का पर्दाफ़ाश हुआ। आरोप यह है कि पिता-बेटे ने यह घोटाला तब किया था, जब यूपीए सरकार में वित्त मंत्री थे सीनियर चिदंबरम। उन पर आरोप लगा था कि उन्होंने पद पर रहते हुए ग़लत तरीक़े से विदेशी निवेश को मंज़ूरी दी थी। उन्हें केवल 600 करोड़ रुपए तक के निवेश की मंज़ूरी का अधिकार था लेकिन उन्होंने 3500 करोड़ रुपए के निवेश को मंज़ूरी दी, जो बाद में घोटाले के रूप में उजागर हुई।

बता दें कि इस घोटाले का संबंध 2007 से है, जब कार्ति चिदंबरम ने अपने पिता के ज़रिए INX मीडिया को विदेशी निवेश बोर्ड से विदेशी निवेश की मंज़ूरी दिलाई थी। ऐसा करने से INX मीडिया को 305 करोड़ रुपए का विदेशी निवेश प्राप्त हुआ था। इस कड़ी में इस बात का ख़ुलासा भी हुआ था कि कार्ति ने ही INX मीडिया के प्रमोटर इंद्राणी मुखर्जी और पीटर मुखर्जी से पी. चिदंबरम की मुलाक़ात करवाई थी।

इसके अलावा चिदंबरम की पत्नी नलिनी चिदंबरम के तार शारदा चिटफंड घोटाले से भी जुड़े पाए गए हैं। इसके लिए उनके ख़िलाफ़ सीबीआई ने चार्जशीट दाखिल की थी। सीबीआई का कहना था कि शारदा चिटफंड घोटाले में नलिनी चिदंबरम ने साल 2010 से 2012 के बीच 1.4 करोड़ रुपए लिए थे।

यूपीए सरकार में चौकीदार तो कोई था नहीं इसलिए उस समय के ‘चोरों’ को आज का पीएम रूपी चौकीदार तो खलेगा ही।

सर्कस और राजनीति को जोड़ना कितना न्यायसंगत

कॉन्ग्रेस की चिड़चिड़ाहट का कारण केवल और केवल पीएम मोदी हैं। यह चिड़चिड़ाहट और बौखलाहट किसी न किसी रूप में सामने आती रहती है। इस बार यह झुंझलाहट पी. चिदंबरम के रूप में सामने है। अपने आर्टिकल में उन्होंने बीजेपी की ख़िलाफ़त में वर्तमान शासन व्यवस्था को सर्कस का नाम दे डाला और कहा कि रिंगमास्टर (पीएम मोदी) हैं लेकिन शेर और बाघ तो हैं ही नहीं। रिंगमास्टर अपने चाबुक का इस्तेमाल केवल मेमनों और खरगोश पर कर रहा है। चिदंबरम की यह टिप्पणी बेहुदगी का प्रमाण है।

यूपीए की सरकार में कितने बाघ और चीते थे? इस बात का अंदाज़ा तो इसी बात से लग जाता है जब 2013 में कॉन्ग्रेस के राहुल गाँधी ने एक प्रेस कॉन्फ़्रेंस में दागियों के चुनाव लड़ने संबंधी सरकारी अध्यादेश को सरासर बकवास करार दिया था और कह दिया था कि ऐसे अध्यादेश को फाड़कर फेंक देना चाहिए। जबकि यह अध्यादेश संसद में पास किया गया था और राहुल तब सिर्फ़ एक सांसद थे। इस बयान के बाद कई केंद्रीय मंत्रियों ने राहुल के ही सुर में सुर मिलाए थे, जबकि पहले वो पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह के पाले में थे।

मनमोहन सिंह का नाम आते ही एक बात और याद आ जाती है, जब उन्होंने स्वीकारा था कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी उनसे अधिक सक्षम सेल्समैन, इवेंट मैनेजर और कम्यूनिकेटर हैं। सिंह द्वारा इस बात को सहर्ष स्वीकार कर लेना कॉन्ग्रेस पार्टी को उनकी नाक़ामयाबियों का दर्शन कराना था। हालाँकि यह सर्वविदित है कि बतौर प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह अपनी एक शांतचित्त और मौन धारण की छवि के लिए विख्यात थे। लंबे समय से प्रधानमंत्री पद पर रहने के बावजूद कुछ न कह पाना या हर मसले पर गाँधी परिवार का मुँह ताकना कितना कष्टकारी रहा होगा, इस बात का अंदाज़ा तो सत्ता से हटने के बाद उनके दिए गए इसी बयान से लगाया जा सकता है।

रोज़गार के नाम पर केंद्र को घेरने से पहले अपने समय को याद कर लेते तो यह सवाल ही न उठाते

अपने आर्टिकल में पी. चिदंबरम ने रोज़गार की बात उठाई जैसे उनके समय में रोज़गार का अंबार लगा हो। मोदी शासनकाल में कहीं भी रोज़गार को लेकर छंटनी का शोर नहीं सुना गया। कहीं नौकरी के लिए धरना-प्रदर्शन देखने को नहीं मिला जबकि यूपीए शासनकाल में एयर इंडिया के कर्मचारियों को हड़ताल करने तक की नौबत आ गई थी। इसी कड़ी में एयर लाइन के प्रबंधक ने 71 पायलटों को बर्खास्त कर दिया था जिसके बाद एयर इंडिया के पायलट भूख हड़ताल पर भी बैठ गए थे। तब देश के वित्त मंत्री  चिदंबरम साहब का ध्यान इस ओर नहीं था क्योंकि उस समय वो ख़ुद पैसा बनाने में व्यस्त थे।

यूपीए की विफलताओं के तमाम कारणों में बेरोज़गारी सबसे अहम मुद्दा था, जिसके ख़िलाफ़ विरोध प्रदर्शन भी हुए। इसमें तत्कालीन सरकार (2011) को चेतावनी भरे लफ़्जों में कहा गया था कि अगर सरकार ने रोजगार नीति में सुधार नहीं किया तो भारत में मिश्र और लीबिया जैसे हालात पैदा हो सकते हैं।

किसानों को बरगलाना बंद करें, असलियत को स्वीकारें

पी. चिदंबरम ने अपने आर्टिकल के अंत में किसानों को टारगेट करके लिखा कि क्या केवल शेख़ी बघारने से किसानों की आय दोगुनी होगी। साथ ही किसानों की कर्ज़माफ़ी को भी मुद्दा बनाया। अब उन्हें कौन समझाए कि मध्य प्रदेश में कॉन्ग्रेस की सरकार बनने के बाद किसानों की कर्ज़माफ़ी की घोषणा की गई। एमपी सरकार द्वारा की गई किसानों की कर्ज़माफ़ी की घोषणा किसी मज़ाक से कम नहीं थी, जब इस बात का ख़ुलासा हुआ कि कर्जमाफ़ी के नाम पर किसानों को मात्र 13 रुपए और 15 रुपए के चेक थमाए गए, इस पर शिवपाल नामक एक किसान ने कहा था, “सरकार कर्ज़ माफ़ कर रही है तो मेरा पूरा कर्ज़ माफ़ होना चाहिए, 13 रुपए की तो हम बीड़ी पी जाते हैं।” इसके अलावा कर्ज़माफ़ी के नाम पर फ़र्ज़ी पतों और मृतकों के नाम पर भी कर्ज़माफ़ी का ख़ुलासा हुआ। इससे आहत होकर किसानों ने सामूहिक आत्महत्या करने तक की चेतावनी दे दी थी।

चिदंबरम जी, मैं आपको बताना चाहुँगी कि वर्तमान सरकार ने किसानों के लिए जो किया, वो पहले की सरकारों ने कभी नहीं किया। इसका सबूत आप उन योजनाओं के ज़रिए से जान सकते हैं, जिनके माध्यम से मोदी सरकार ने गाँवों की न सिर्फ़ तस्वीर बदल दी बल्कि आम जन-जीवन की बुनियाद को भी मज़बूत किया।

आज का भारत नया भारत है, जिसमें ग्रामीण और शहरी दोनों का विकास शामिल है। आज जो तस्वीर भारत की है, उसमें भारत का सशक्त रूप उभर कर दुनिया के सामने है। वो अलग बात है कि जिसकी आदत ही बिना सिर-पैर की बात करना हो तो उसे कुछ नहीं दिखाई देगा। सच तो यह है कि मोदी सरकार जब से सत्ता में आई तब से गाँधी परिवार और उनके प्रियजनों का सुख-चैन-नींद सब स्वाहा हो गया है। इसी का परिणाम है पी. चिदंबरम का यह आर्टिकल, जिसमें उनकी बेचैनी स्पष्ट नज़र आ रही है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ख़ास ख़बरें

सचिन पायलट डिप्टी CM और PCC प्रेसिडेंट पद से बर्खास्त, गहलोत खेमे के विधायकों ने की थी कार्रवाई की माँग

जयपुर के फेयरमोंट होटल में चल रही कॉन्ग्रेस विधायक दल (CLP) की बैठक में उपस्थित 102 विधायकों ने माँग की है कि सचिन पायलट को पार्टी से हटा दिया जाना चाहिए।

रात में प्रियंका गाँधी के 4 कॉल, चिदंबरम भी रहे तैनात: सचिन पायलट नहीं उठा रहे अन्य कॉन्ग्रेसी नेताओं के फोन

प्रियंका गाँधी और चिदंबरम ने कई बार बात की। दूसरी बार कॉन्ग्रेस की बैठक हुई ही इसीलिए क्योंकि सचिन पायलट को पार्टी जाने नहीं देना चाहती है।

6 मारे गए, 4 गिरफ्तार: विकास दुबे के घर से मिले पुलिस से लूटे हथियार, 11 आरोपित अभी भी फरार

एडीजी (लॉ एंड आर्डर) प्रशांत कुमार ने बताया कि विकास दुबे के घर से पुलिस से लूटी गई एके-47 राइफल और 17 कारतूस बरामद किए गए।

‘प्वाइंट ब्लैंक रेंज’ से गोली, पोस्टमॉर्टम के दौरान डॉक्टर भी दंग: PM रिपोर्ट से विकास दुबे की हैवानियत सामने

विकास दुबे के साथ हुए एनकाउंटर के पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट के मुताबिक, CO देवेंद्र मिश्रा को 4 गोली मारी, जिनमें से 1 सिर में, एक छाती में और 2 पेट में लगी।

UP के बाद अब MP में चला बुल्डोजर: बच्चियों संग रेप आरोपित प्यारे मियाँ का मैरिज हॉल ध्वस्त

पत्रकार प्यारे मियाँ फिलहाल फरार है। उस पर 30,000 रुपए की इनामी राशि रखी गई है। साथ ही भोपाल स्थित उसके मैरिज हॉल को ध्वस्त कर दिया गया।

‘मानव हथियार’ की तरह दंगाइयों का किया प्रयोग: ताहिर हुसैन को बेल नहीं देने से पहले जज ने दिए 6 महत्वपूर्ण बयान

कोर्ट ने कहा कि इस मामले के गवाह उसी इलाके के हैं, जहाँ ताहिर रहता हैं। ऐसे में मुमकिन है अगर ताहिर बेल पर छूटे तो वह उन्हें धमकाए।

प्रचलित ख़बरें

सचिन पायलट डिप्टी CM और PCC प्रेसिडेंट पद से बर्खास्त, गहलोत खेमे के विधायकों ने की थी कार्रवाई की माँग

जयपुर के फेयरमोंट होटल में चल रही कॉन्ग्रेस विधायक दल (CLP) की बैठक में उपस्थित 102 विधायकों ने माँग की है कि सचिन पायलट को पार्टी से हटा दिया जाना चाहिए।

रात में प्रियंका गाँधी के 4 कॉल, चिदंबरम भी रहे तैनात: सचिन पायलट नहीं उठा रहे अन्य कॉन्ग्रेसी नेताओं के फोन

प्रियंका गाँधी और चिदंबरम ने कई बार बात की। दूसरी बार कॉन्ग्रेस की बैठक हुई ही इसीलिए क्योंकि सचिन पायलट को पार्टी जाने नहीं देना चाहती है।

हेट स्पीच मामले में कपिल मिश्रा समेत इन BJP नेताओं को मिली राहत, पुलिस ने कहा- दंगे भड़काने के नहीं मिले कोई सबूत

हलफनामे में कहा गया कि दिल्ली पुलिस इन नेताओं के भाषणों की पड़ताल कर रही हैं। अगर दंगों से जुड़े किसी भी नेक्सस का खुलासा इसके पीछे होता है तो......

कब्र से निकाल कर फेंका नवजात बच्ची का शव, बांग्लादेश में अहमदियों को बताया ‘काफिर’

हमदिया मुस्लिम जमात की स्थानीय इकाई अध्यक्ष एसएम इब्राहिम लगातार अलग-अलग मस्जिदों के मौलवियों को इसके लिए जिम्मेदार बता रहे हैं।

6 मारे गए, 4 गिरफ्तार: विकास दुबे के घर से मिले पुलिस से लूटे हथियार, 11 आरोपित अभी भी फरार

एडीजी (लॉ एंड आर्डर) प्रशांत कुमार ने बताया कि विकास दुबे के घर से पुलिस से लूटी गई एके-47 राइफल और 17 कारतूस बरामद किए गए।

आजीवन कारावास वाले कैदी सहित अर्बन नक्सलियों को जेल से छोड़ो, उनको महामारी हो जाएगी: CPI (M)

अपनी माँग में CPI (M) ने अर्बन नक्सलियों को ‘मानवाधिकार कार्यकर्ता’ बताते हुए हर व्यक्ति के स्वास्थ्य पर गंभीरता से चिंता जताई है।

रफीक ने किया दलित लड़की का रेप, उसके परिवार ने बनाया गर्भपात का दबाव: परेशान हो कर ली खुदकुशी

लखीमपुर खीरी पुलिस का इस संबंध में कहना है कि उन्होंने इस मामले में FIR दर्ज कर ली थी और आरोपित युवक भी 7 जुलाई को गिरफ्तार हो गया था।

‘प्वाइंट ब्लैंक रेंज’ से गोली, पोस्टमॉर्टम के दौरान डॉक्टर भी दंग: PM रिपोर्ट से विकास दुबे की हैवानियत सामने

विकास दुबे के साथ हुए एनकाउंटर के पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट के मुताबिक, CO देवेंद्र मिश्रा को 4 गोली मारी, जिनमें से 1 सिर में, एक छाती में और 2 पेट में लगी।

UP के बाद अब MP में चला बुल्डोजर: बच्चियों संग रेप आरोपित प्यारे मियाँ का मैरिज हॉल ध्वस्त

पत्रकार प्यारे मियाँ फिलहाल फरार है। उस पर 30,000 रुपए की इनामी राशि रखी गई है। साथ ही भोपाल स्थित उसके मैरिज हॉल को ध्वस्त कर दिया गया।

PTI को ₹84 करोड़ बकाया जमा कराने का नोटिस: 1984 से नहीं चुकाया किराया, प्रसार भारती से रिश्ते बिगड़े

प्रसार भारती का कहना है कि जिन शर्तों के साथ PTI को उसके नई दिल्ली स्थित दफ्तर के लिए ज़मीन मुहैया कराई गई थी, उसका उसने उल्लंघन किया है।

हमसे जुड़ें

239,243FansLike
63,488FollowersFollow
274,000SubscribersSubscribe