Tuesday, June 22, 2021
Home विचार राजनैतिक मुद्दे 2500 'हिंदू' गाँवों का नाम बदल इस्लामीकरण: 'दुर्गा' इंदिरा थीं तब PM, CM के...

2500 ‘हिंदू’ गाँवों का नाम बदल इस्लामीकरण: ‘दुर्गा’ इंदिरा थीं तब PM, CM के लिए हिंदू थे ‘भारत सरकार के मुखबिर’

साल 1980, शेख अब्दुल्ला की सरकार। इसी साल 2500 गाँवों के नाम (जो हिंदी या संस्कृत शब्दों से प्रेरित थे) बदलकर इस्लामी नामकरण की शुरुआत की गई। अपनी आत्मकथा आतिश-ए-चिनार में कश्मीरी पंडितों को 'भारत सरकार का मुखबिर' कहा था शेख अब्दुल्ला ने।

तीन दशकों से कश्मीर घाटी में कश्मीरी पंडितों पर अत्याचार होता रहा है। हाल ही में तीन आंतकियों द्वारा दक्षिणी कश्मीर के त्राल में नगर पार्षद बीजेपी नेता राकेश पंडिता की हत्या कर दी गई। राकेश पंडिता की हत्या कर आतंकी संगठनों ने इशारा किया है कि उन्हें आज भी कश्मीरी पंडितों की घाटी में वापिसी खटकती है। यही कारण है कि वे फिर आतंकवाद की जड़ें मजबूत करने की नाकाम कोशिश में जुटे हुए हैं। दरअसल, घाटी में आतंकवाद के चलते राकेश पंडिता का परिवार 1990 में पलायन के बाद जम्मू आ गया था। 2020 में यानी 30 साल बाद राकेश पंडिता फिर से त्राल लौटे, जहाँ उन्होंने और उनकी पत्नी ने बीजेपी की टिकट पर स्थानीय निकाय का चुनाव लड़ा और दोनों जीत भी गए थे।

कश्मीरी पंडित समुदाय के कई लोग राजनीतिक दलों से जुड़कर घाटी में सक्रिय

इसी तरह कश्मीरी पंडित समुदाय के कई लोग विभिन्न राजनीतिक दलों से जुड़कर घाटी में सक्रिय हैं। यही कारण है कि आतंकवादियों के गढ़ में हिंदुओं की मौजूदगी उन्हें नागवार गुजरती आई है। इससे पूर्व भी ये आतंकी कई कश्मीरी पंडित नेताओं को मौत के घाट उतार चुके हैं। पिछले वर्ष जून में इसी तरह सरपंच अजय पंडिता की अनंतनाग में हत्या की गई थी। अजय पंडिता और राकेश पंडिता दोनों ही जाने-माने चेहरे थे, जो कश्मीरियों को ​वापस लाने के कार्य में लगे हुए थे। वहीं, सरकार की तरफ से भी पुरजोर प्रयास किए जा रहे हैं कि किसी भी तरह कश्मीरियों को वापस लाया जा सके। इसी बीच राकेश पंडिता की मौत के बाद एक बार फिर कश्मीरी पंडितों की सुरक्षा संदेह के घेरे में है। आखिर कब तक ‘कश्मीरी पंडित’ इसी तरह अपनी जान गँवाते रहेंगे? आखिर कब तक वह आतंकियों की गोलियों का निशाना बनते रहेंगे।

31 वर्ष पूर्व कश्मीरी पंडितों पर हुए नरसंहार की यादें ताजा

इस घटना ने कश्मीर घाटी में कश्मीरी पंडितों पर हुए नरसंहार की यादें ताजा कर दी हैं। कश्मीरी पंडित, जिन्हें कश्मीरी ब्राह्मण और कश्मीरी हिंदू भी कहा जाता है, उन्होंने घाटी में 31 वर्ष पूर्व हुए नरसंहार में अपने परिजनों को खोया है, उनके जख्म अभी भी नहीं भरे हैं। वह सालों से न्याय के लिए बाट जोह रहे हैं। मानवाधिकार संगठन जो जम्मू-कश्मीर में कुछ दिनों के लिए इंटरनेट बंद होने पर छाती पीटने लगता है, वह भी 31 सालों से विस्थापन का दर्द झेल रहे कश्मीरी पंडितों के मुद्दे पर चुप ही रहा है।

कश्मीरी पंडितों कश्मीर छोड़ो या फिर इस्लाम अपनाओ

19 जनवरी 1990 – कश्मीर के लिए यह तारीख बेहद महत्वपूर्ण है। इसी दिन कश्मीरी पंडितों पर नरसंहार कर उन्हें उनकी ही सरजमीं छोड़ने के लिए मजबूर किया गया था। 19 जनवरी शुक्रवार की सुबह डल झील पर शिकारा का संगीत नहीं, मुस्लिम कट्टरपंथियों का शोर सुनाई पड़ रहा था। हिंदुओं के घरों की दीवारों पर धमकी भरे पोस्टर लगा दिए गए थे। कश्मीर के कोने-कोने में मस्जिदों से फरमान जारी किए जा रहे थे। फरमान कश्मीर में रहने वाले गैर-मुस्लिमों के खिलाफ था। फरमान था कश्मीरी पंडितों कश्मीर छोड़ो या अंजाम भुगतो या फिर इस्लाम अपनाओ।

भारत के इतिहास में सबसे बड़ा नरसंहार और पलायन

वो रात कश्मीरी पं​ड़ितों के लिए किसी बुरे सपने से कम नहीं थी। रात को हजारों कश्मीरी पंडितों का कत्ल कर दिया गया था। राजनीतिक प्रतिद्वंद्विता, कट्टरपंथी इस्लामवादी और उग्रवादी विद्रोह के बीच घाटी में अल्पसंख्यक हिंदू समुदाय कश्मीरी पंडितों का यह भारत के इतिहास में सबसे बड़ा नरसंहार और पलायन था। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, हथियार लहराती हुई भीड़ अल्लाहु अकबर के नारे लगाते हुए अचानक कश्मीरी पंडितों के घरों में दाखिल हो जाती और उन्हें धमकाती थी। मुस्लिम कट्टरपंथियों ने गैर-मुस्लिमों के लिए ऐसी स्थिति पैदा कर दी थी, जिसमें उनके पास दो ही विकल्प थे – या तो कश्मीर छोड़ो या फिर दुनिया।

कश्मीरी पंडित नीरजा साधु का कहना है, ”19 जनवरी को मैंने या मेरे परिवार ने ये नहीं सोचा कि हमेशा के लिए हम यहाँ से चले जाएँगे, क्योंकि उससे पहले दिसंबर में मेरे पिताजी को धमकी भरे फोन आ रहे थे। उनसे ये बोला गया था कि आप जॉब छोड़कर चले जाएँ यहाँ से, नहीं तो आपका घर जलाएँगे। आपकी बेटी को घर से ले जाएँगे। आपके पूरे परिवार को जला देंगे।”

103 मंदिरों, धर्मशालाओं और आश्रमों को तोड़ दिया गया

एक रिपोर्ट के मुताबिक सिर्फ 19 जनवरी 1990 को ही लाखों कश्मीरी पंडितों ने मजबूरन घाटी छोड़ दी। घाटी में उस वक्त कश्मीरी पंडितों की आबादी लगभग 5 लाख के करीब थी, लेकिन कश्मीर को इस्लामिक स्टेट बनाने की मजहबी सोच की वजह से साल 1990 के अंत तक 95 प्रतिशत कश्मीरी पंडित अपना घर-बार छोड़ कर वहाँ से चले गए। इसी दौरान कश्मीरी पंडितों से जुड़े 150 शैक्षिक संस्थानों को आग लगा दी गई थी। 103 मंदिरों, धर्मशालाओं और आश्रमों को तोड़ दिया गया था। कश्मीरी पंडितों की हजारों दुकानों और फैक्ट्रियों को लूट लिया गया था। हजारों कश्मीरी पंडितों की खेती योग्य जमीन छीनकर उन्हें भगा दिया गया था। कश्मीरी पंडितों के घर जलाने की 20 हजार से ज्यादा घटनाएँ सामने आईं और 1100 से ज्यादा कश्मीरी पंडितों को बेहद निर्मम तरीके से मार डाला गया।

गौरतलब है कि कश्मीरी नेता शेख अब्दुल्ला और भारत की पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गाँधी के बीच 1975 में एक समझौता हुआ था। कश्मीरियों की युवा पीढ़ी में कम ही लोगों यह बात जानते होंगे कि 1975 के समझौते के बाद शेख कॉन्ग्रेस के समर्थन से राज्य के मुख्यमंत्री बने थे। हालाँकि, उस समय राज्य विधानसभा में उनकी पार्टी का एक भी विधायक नहीं था। उस दौरान पाकिस्तान समर्थक जमात-ए-इस्लामी और जम्मू एवं कश्मीर लिबरेशन फ्रंट (जेकेएलएफ) अब्दुल्ला के इस समझौते के विरोध में थे। बस यहीं से विद्रोह की चिंगारी उठी, जिसने भविष्य की आग में कई मासूमों का आशियाना तबाह कर डाला।

2500 गाँवों के नाम बदलकर इस्लामीकरण की नींव

1980 में अब्दुल्ला ने खुद कश्मीर का इस्लामीकरण करना शुरू कर दिया था। उनकी सरकार ने लगभग 2500 गाँवों के नाम (जो हिंदी या संस्कृत शब्दों से प्रेरित थे) बदलकर इस्लामी नामकरण की शुरुआत की थी। इसके अलावा अपनी आत्मकथा आतिश-ए-चिनार (Atish-e-Chinar) में उन्होंने कश्मीरी पंडितों को ‘मुखबिर’ के रूप में इंगित किया, जिसका अर्थ है ‘भारत सरकार के मुखबिर’।

1987 के राज्य विधानसभा चुनाव में कथित धांधली के बाद कश्मीर में भय का माहौल पैदा हो गया था, जिसने जमात-ए-इस्लामी के फ्रंटलाइन कार्यकर्ताओं के मुस्लिम यूनाइटेड फ्रंट (MUF) को जन्म दिया। उन्होंने अपने इस्लामिक आंदोलनों में इस्लाम धर्म का प्रचार किया, जिसमें पाकिस्तान की इंटर-सर्विसेज इंटेलिजेंस (ISI) सक्रिय रूप से शामिल हो गई। बाद में हिजबुल-मुजाहिदीन नाम के एक आतंकवादी समूह को प्रायोजित किया जाने लगा।

तभी जेकेएलएफ ने आईएसआई के समर्थन से हथियारों के साथ विद्रोह करना शुरू कर दिया। उसी समय उन्होंने कलाश्निकोव राइफल (AK-47) का इस्तेमाल करना शुरू कर किया। इसके अलावा उन्होंने कश्मीरी पंडितों के खिलाफ बड़े स्तर पर दुष्प्रचार किया और देशद्रोह का अभियान चलाया।

यह सर्वविदित है कि 14 सितंबर 1989 को बीजेपी के पूर्व प्रदेश अध्यक्ष टिका लाल टप्पू की हत्या से कश्मीर में शुरू हुआ आतंक का दौर समय के साथ-साथ और वीभत्स होता गया। टप्पू की हत्या के तीन हफ्ते बाद जम्मू-कश्मीर लिबरेशन फ्रंट के नेता मकबूल बट की मौत की सजा सुनाने वाले सेवानिवृत्त सत्र न्यायाधीश नीलकंठ गंजू की हत्या कर दी गई। फिर 13 फरवरी को श्रीनगर दूरदर्शन केन्द्र के निदेशक लासा कौल की निर्मम हत्या के साथ ही आतंक अपने चरम पर पहुँच गया था। उस समय आतंकवादियों के निशाने पर सिर्फ और सिर्फ कश्मीरी पंडित ही थे। इसके चलते 19 जनवरी, 1990 को लगभग तीन लाख कश्मीरी पंडितों को अपना सब कुछ छोड़कर घाटी से बाहर जाने को विवश होना पड़ा।

बहरहाल, आतंकवादियों की नई पौध को भी कश्मीरी पंडित खटकते हैं। कश्मीर में अन्य जगहों के मुकाबले त्राल में आतंकियों का कहीं बड़ा गढ़ है। 31 साल पहले कश्मीरी पंडितों पर जो अत्याचार हुआ, उस समय की सरकार कट्टरपंथियों के आगे तमाशबीन बनी रही। आखिर क्यों और ​कब त​क अपने ही घरों से कश्मीरी पंडितों को भागने के लिए मजबूर होना पड़ेगा?

कश्मीर में अब कोई और कश्मीरी पंडित न मारा जाए, इसके लिए घाटी को आतंकवाद की जंजीरों से मुक्त कराना बेहद जरूरी हो गया है। मोदी सरकार ने जम्मू-कश्मीर में अनुच्छेद 370 और उसकी धारा 35 ए को समाप्त करके उससे विशेष राज्य का दर्जा छीनकर आतंकवादियों के साथ वहाँ के उग्रवादी संगठनों की कमर पहले ही तोड़ दी है। ऐसे में अब वक्त आ गया है, जब आतंकवाद को एक और ऐसी डोज दी जाए, जिससे उनकी आने वाली नई पीढ़ियाँ भी इस रास्ते पर जाने से पहले तौबा-तौबा करने लगें।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

भारत ने कोरोना संकटकाल में कैसे किया चुनौतियों का सामना, किन सुधारों पर दिया जोर: पढ़िए PM मोदी का ब्लॉग

भारतीय सार्वजनिक वित्त में सुधार के लिए हल्का धक्का देने वाली कहानी है। इस कहानी के मायने यह हैं कि राज्यों को अतिरिक्त धन प्राप्त करने के लिए प्रगतिशील नीतियों को अपनाने के लिए प्रोत्साहित करना है।

पल्स पोलियो से टीके को पिटवा दिया अब कॉन्ग्रेस के कोयला स्कैम से पिटेगी मोदी की ईमानदारी: रवीश कुमार

ये व्यक्ति एक ऐसा फूफा है जो किसी और के विवाह में स्वादिष्ट भोजन खाकर यह कहने में जरा भी नहीं हिचकेगा कि; भोजन तो बड़ा स्वादिष्ट था लेकिन अगर नमक अधिक हो जाता तो खराब हो जाता। हाँ, अगर विवाह राहुल गाँधी का हुआ तो...

TMC के गुंडों ने किया गैंगरेप, कहा- तेरी काली माँ न*गी है, तुझे भी न*गा करेंगे, चाकू से स्तन पर हमला: पीड़ित महिलाओं की...

"उस्मान ने मेरा रेप किया। मैं उससे दया की भीख माँगती रही कि मैं तुम्हारी माँ जैसी हूँ मेरे साथ ऐसा मत करो, लेकिन मेरी चीख-पुकार उसके बहरे कानों तक नहीं पहुँची। वह मेरा बलात्कार करता रहा। उस दिन एक मुस्लिम गुंडे ने एक हिंदू महिला का सम्मान लूट लिया।"

‘भारत ने किया कश्मीर पर कब्जा, इस्लाम ने दिखाई सही राह’: TISS में प्रकाशित हुए कई विवादित पेपर, फण्ड रोकने की माँग

पेपर में लिखा गया, "...अल्लाह के शरण में जाना मेरे मन को शांत करता है और साथ ही मुझे एक समझ देता है कि चीजों के होने का उद्देश्य क्या था जो मुझे कहीं और से नहीं पता चलता।"

‘नंदलाला की #$ गई क्या’- रैपर MC कोड के बाद अब मफ़ाद ने हिन्दुओं की आस्था को पहुँचाई चोट, भगवान कृष्ण को दी गालियाँ

रैपर ने अगली पंक्ति में धार्मिक भावनाओं को ठेस पहुँचाने के लिए बेहद आपत्तिजनक शब्दों का प्रयोग किया जैसे, "मर गया तेरा नंदलाल नटखट, अब गोपियाँ भागेंगी छोड़के पनघट।"

मॉरीशस के थे तुलसी, कहते थे सब रामायण गुरु: नहीं रहे भारत के ‘सांस्कृतिक दूत’ राजेंद्र अरुण

1973 में 'विश्व पत्रकारिता सम्मेलन' में वो मॉरीशस गए और वहाँ के तत्कालीन राष्ट्रपति शिवसागर रामगुलाम हिंदी भाषा को लेकर उनके प्रेम से खासे प्रभावित हुए। वहाँ की सरकार ने उनसे वहीं रहने का अनुरोध किया।

प्रचलित ख़बरें

टीनएज में सेक्स, पोर्न, शराब, वन नाइट स्टैंड, प्रेग्नेंसी… अनुराग कश्यप ने बेटी को कहा- जैसी तुम्हारी मर्जी

ब्वॉयफ्रेंड के साथ सोने के सवाल पर अनुराग ने कहा, "यह तुम्हारा अपना डिसीजन है कि तुम किसके साथ रहती हो। मैं केवल इतना चाहता हूँ कि तुम सेफ रहो।"

‘एक दिन में मात्र 86 लाख लोगों को वैक्सीन, बेहद खराब!’: रवीश कुमार के लिए पानी पर चलने वाले कुत्ते की कहानी

'पोलियो रविवार' के दिन मोदी सरकार ने 9.1 करोड़ बच्चों को वैक्सीन लगाई। रवीश 2012 के रिकॉर्ड की बात कर रहे। 1950 में पहला पोलियो वैक्सीन आया, 62 साल बाद बने रिकॉर्ड की तुलना 6 महीने बाद बने रिकॉर्ड से?

‘तुम्हारे शरीर के छेद में कैसे प्लग लगाना है, मुझे पता है’: पूर्व महिला प्रोफेसर का यौन शोषण, OpIndia की खबर पर एक्शन में...

कॉलेज के सेक्रेटरी अल्बर्ट विलियम्स ने उन पर शिकायत वापस लेने का दबाव बनाया। जोसेफिन के खिलाफ 60 आरोप लगा कर इसकी प्रति कॉलेज में बँटवाई गई। एंटोनी राजराजन के खिलाफ कार्रवाई की बजाए उन्हें बचाने में लगा रहा कॉलेज प्रबंधन।

वो ब्राह्मण राजा, जिनका सिर कलम कर दिया गया: जिन मुस्लिमों को शरण दी, उन्होंने ही अरब से युद्ध में दिया धोखा

राजा दाहिर ने जब कई दिनों तक शरण देने की एवज में खलीफा के उन दुश्मनों से मदद माँगी, तो उन्होंने कहा, "हम आपके आभारी हैं, लेकिन हम इस्लाम की फौज के खिलाफ तलवार नहीं उठा सकते। हम जा रहे हैं।"

हिंदू से धर्मान्तरण कर बना मोहम्मद उमर गौतम, चला रहा था दिल्ली के जामिया से मुस्लिम बनाने का रैकेट: कई बड़े खुलासे

उमर गौतम द्वारा स्थापित इस्लामिक दावा सेंटर में ही गैर मुस्लिमों का धर्मान्तरण कराया जाता था। मोहम्मद उमर अपने चार मंजिला घर को ही ऑफिस बना रखा था, जिसे एटीएस ने सील कर दिया है।

TMC के गुंडों ने किया गैंगरेप, कहा- तेरी काली माँ न*गी है, तुझे भी न*गा करेंगे, चाकू से स्तन पर हमला: पीड़ित महिलाओं की...

"उस्मान ने मेरा रेप किया। मैं उससे दया की भीख माँगती रही कि मैं तुम्हारी माँ जैसी हूँ मेरे साथ ऐसा मत करो, लेकिन मेरी चीख-पुकार उसके बहरे कानों तक नहीं पहुँची। वह मेरा बलात्कार करता रहा। उस दिन एक मुस्लिम गुंडे ने एक हिंदू महिला का सम्मान लूट लिया।"
- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
105,471FollowersFollow
392,000SubscribersSubscribe