Tuesday, August 3, 2021
Homeविचारराजनैतिक मुद्देन अमन की खोखली बातों से बुझेगी ये आग, न जीते-जी भरेंगे घाव: बारूद...

न अमन की खोखली बातों से बुझेगी ये आग, न जीते-जी भरेंगे घाव: बारूद के ढेर को चिंगारी से बचाने की मुश्किल

ये अपराध इंसाफ मॉंगता है। उन कारणों और उन लोगों की पहचान मॉंगता है जिन्होंने इस दंगे के लिए इतनी तैयारी की थी। उन लोगों की पहचान माँगता है जिन्होंने हज़ारों की दंगाई भीड़ इकट्ठा करके दो रात तक अलग अलग मोहल्लों में छापामार दंगा करके इंसानियत को शर्मसार किया।

दंगे के तुरंत बाद अमन की बात वो करते हैं जिन्हें दंगों के अपराधों को छुपाना होता है। जिस तरह दंगे एक जघन्य अपराध हैं, ठीक उसी तरह दंगों की तैयारी करना भी। दंगों का जख्म अमन की खोखली बातों से नहीं भरता। दंगों का जख्म केवल इंसाफ से भरता है। जिसने अपना बच्चा खोया, जिसने अपना संबंधी खोया, जिसने अपने जीवन भर की कमाई खोई, जिसने अपने सारे व्यवसाय को सबेरे जला हुआ पाया, उनसे फकत अमन की बात करना बेमानी है।

ये अपराध इंसाफ मॉंगता है। उन कारणों और उन लोगों की पहचान मॉंगता है जिन्होंने इस दंगे के लिए इतनी तैयारी की थी। उन लोगों की पहचान माँगता है जिन्होंने हज़ारों की दंगाई भीड़ इकट्ठा करके दो रात तक अलग अलग मोहल्लों में छापामार दंगा करके इंसानियत को शर्मसार किया।

वजह कई हैं पर फिलहाल एक वजह साफ स्पष्ट दिख रही है। ट्रंप और विदेशी मीडिया के सामने पाक प्रायोजित हिंसा, जिसे भारत के ही कुछ लोगों ने उन लोगों से पैसा या कुछ और प्रलोभन दे कर फैलाया। हमें इस दंगे की तह में जाना ही चाहिए। इस कैंसर को खत्म करना ही चाहिए। और बंद होनी चाहिए अमन की खोखली बातें। दो महीने से ज्यादा हो गए तब तो नहीं हुआ था दिल्ली के उस हिस्से में रास्ता रोको, दिल्ली रोको आंदोलन। अचानक से सब होना ट्रंप के आते ही और वो भी इस तैयारी के साथ, बस एक ही बात बताता है कि दुश्मन किस तरह से हमारे देश के अंदर अपनी वैश्विक राजनीति हेतु सक्षम है। क्या इस खतरे के साथ हम हमेशा रहने को सक्षम हैं?
क्या अनपढ़, क्या पढ़ा-लिखा, क्या वामपंथी विचारधारा वाले अदूरदर्शी नाटककार सब सम्मिलित हैं, भारत की राजव्यवस्था को तोड़ने में और बहाना बना रहे हैं संविधान की रक्षा का।

ये जितने भी लोग संविधान की रक्षा के नाम पर आज रोड ब्लॉक करने की और आगजनी करके सरकार को सबक सिखाने की कोशिश कर रहे हैं, याद रखिएगा इनका तो घोषित छद्म उद्देश्य ही संविधान और लोकतंत्र की हत्या है। जिस भी दिन ये केंद्रीय सत्ता पर आरूढ़ हुए या क्षमतावान हुए तो इनका पहला प्रहार संविधान पर ही होगा।

दो गुट हैं, एक भारत की व्यवस्था को चीनी माओवादी बनाना चाहता है और दूसरा भारत को चूस-चूस के शरिया की ओर ले जाना चाहता है।

वैश्विक स्तर पर एक-दूसरे को फूटी आँख ना सुहाने वाले भारत के दो दुश्मन देखिए कैसे एक हुए हैं- भारत को बर्बाद करने के नाम पर। दोनो एक-दूसरे को ज्यादा चालाक समझ रहे हैं। दुनिया में कई वामपंथी विचार वाली निरंकुश सरकारें हैं। साथ ही साथ कई इस्लामी मुल्क भी। एक भी ऐसा उदाहरण नहीं मिलेगा जहाँ या तो वामपंथी मुल्क में इस्लामी राजनैतिक विचार की आज़ादी हो और ना ही एक भी ऐसा इस्लामी मुल्क जहाँ वामपंथियों को अपना दफ्तर खोलने की अनुमति हो। फिर भी भारत में इनका याराना देखिए।

मूर्खों को ये नहीं पता कि लोकतंत्र की दुहाई दे कर ये इसी लोकगणराज्य की हत्या कर अपने लोगों के लिए केवल एक देश चाहते हैं। इन्हें भारत की विविधता और बहुल सोच वाली संस्कृति से कोई सरोकार नहीं। क्या ऐसे लोग जो अपनी बात मनवाने के लिए लोकतांत्रिक प्रक्रिया को छोड़ कर सड़क जाम कर, दंगे भड़का कर समाज में भय पैदा कर सरकार को दवाब में डाल रहे हैं, क्या वे लोग भारत के लोकतांत्रिक अधिकारों के लायक भी हैं। क्या ऐसे लोग भारत के नागरिक कहलाने के काबिल हैं। सोचना होगा हमें। क्या भारत में जन्मा हर व्यक्ति जिसकी सोच अब गैर भारतीय हो गई हो, भारत की विविधता और संवैधानिक प्रक्रियाओं से इतर हो गई हो, को भारत का नागरिक कहा जा सकता है। कुछ ऐसे लोग जो रोग (rouge) हो गए हैं से नागरिकता छीन ही नहीं लेनी चाहिए।

संवैधानिक व्यवस्था में सबको विरोध का अधिकार है। लेकिन सरकार के द्वारा प्रक्रिया अंतर्गत बनाए कानून के विरोध में महीने-दो महीने रोड जाम करने का अधिकार किसी को है क्या? क्या सड़क जाम कर और दंगा भड़का कर हम किसी कानून को वापस करवा सकते हैं? बिल्कुल नहीं। अगर आप सरकार के किसी कदम से असहमत हैं तो जनजागरण कीजिए, चुनाव लड़िए, अगले चुनाव में जीत कर आइए, कानून बदल दीजिए। कोर्ट में सरकार के खिलाफ मुकदमा लड़िए। विरोध का वो तरीका और वो स्थान चुनिए जहाँ से भारत के अन्य सामान्य नागरिकों को दिक्कत नहीं हो, वैसे लोग क्यों भुगतें जो आपकी तरह नासमझ नहीं हैं या जिन्हें आपके आंदोलन से कोई सरोकार नहीं है। समाज में तनाव का माहौल बनेगा तो कहीं न कहीं फूटेगा ही।

ये आग जो भड़की है ये अमन की खोखली बातों से मुझे तो बुझती नहीं दिखती। दंगों के समय हुआ अपराध त्वरित न्याय माँगता है। कुछ लोगों ने अपने दूरगामी राजनैतिक वैश्विक और क्षेत्रीय मंसूबों के खातिर अपने ही लोगों और मोहल्ले का नुकसान कराया ही, साथ ही साथ अपने पड़ोसियों को भी ऐसा घाव दे दिया है जो शायद ही उनके जीते जी भर पाए। वो सारे मोहल्ले अब काफी लंबे समय तक दंगे के भय और अविश्वास के साथ जिएंगे। ऐसा अविश्वास जो या तो इंसाफ से खत्म होगा या इंतकाम से। सरकार के लिए बड़ी मुश्किल घड़ी है। इस बारूद के ढ़ेर को चिंगारी से कैसे बचाया जाए।

जो लोग समाज में राजनीति के इस बारूद का इस्तेमाल करते हैं, जो दंगों में आपराधिक गुटों का सहयोग लेते हैं, जो इसकी तैयारी महीनों करते हैं। पूरे के पूरे समाज को एक कानून के नाम पर झूठ बोल-बोल कर गुमराह करते हैं। गिद्धों की तरह अपनी कलम से, अपनी कला से, लाशों के बिछाए जाने की पटकथा लिखते हैं, उनलोगों के साथ क्या करना चाहिए। हम सभी के मन में ये प्रश्न हैं। क्या हमारी लोकतांत्रिक प्रक्रिया इस तरह के छद्म तरीके से लड़े जा रहे युद्ध के लिए तैयार है? क्या हमारी प्रकिया ऐसे अपराधियों को ढूंढ कर सजा देने के काबिल है?

याद रखियेगा पाकिस्तान का आईडिया सारे जहाँ से अच्छा लिखने वाले अल्लामा इकबाल ने ही दिया था। उन्होंने ही सबसे पहले कहा था भारत में एक पाक स्थान है जो कि एक धर्म विशेष के आधार पर चलता है। यानी कि भारत की बहुलता वादी सोच, बहुईश्वरवाद से भिन्न है और साथ नहीं रह सकता। नतीजा हम सब जानते हैं। ये वही सोच है जो फिर से सर उठा रही है। जाते-जाते एक बात और, अरब की क्रांति जो कि वहाँ के निरंकुश राजाओं के विरुद्ध हुई थी, अब वो विशुद्ध रूप से इस्लामी रूप ले चुकी है और ISIS को जन्म दे चुकी है। इस हेतु किसी भी आंदोलन के मूल स्वभाव और उद्देश्यों को समझे बिना उसे अपने जीवन का हिस्सा मत बनाइए। हर तरह का डिसेंट या बागी विचार जरूरी नहीं कि सही ही हो। कुछ बागी तेवर काफी खतरनाक होते हैं। जहरीले नाग की तरह, इनको मारने के बाद इनका फन भी कुचलना जरूरी होता है।

जामिया विडियो: वामपंथियों की ऐसे लीजिए कि वो ‘दुखवा मैं का से कहूँ’ मोड में आ जाएँ

‘दोनों तरफ के लोग हैं’: ‘दंगा साहित्य’ के दोगले कवियों से पूछिए कि हिन्दू ने कहाँ दंगा किया, कितने दिन किया?

शाहीन बाग की महान उपलब्धि: एक बच्चे से कट्टरपंथियों ने कलम की जगह बंदूक चलवा दी

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

Searched termsश्याम चाय वाला, श्याम सहनी, श्याम सहनी बैंक डिटेल, सुब्रमण्यम स्वामी ट्वीट, सुब्रमण्यम स्वामी ताहिर हुसैन, सुब्रमण्यम स्वामी अंकित शर्मा आईबी, दिल्ली हिंसा, शिव विहार, शिव विहार चौक, Shiv Vihar, दंगाई भीड़, दिल्ली शिव विहार, दिल्ली दंगे चश्मदीद, दिल्ली हिंसा चश्मदीद, दिल्ली हिंसा महिला, दिल्ली दंगों में कितने मरे, दिल्ली में कितने हिंदू मरे, मोहम्मद शाहरुख, जाफराबाद शाहरुख, शाहरुख फरार, ताहिर हुसैन आप, ताहिर हुसैन एफआईआर, ताहिर हुसैन अमानतुल्लाह, चांदबाग शिव मंदिर पर हमला, दिल्ली दंगा मंदिरों पर हमला, दिल्ली मंदिरों पर हमले, मंदिरों पर हमले, चांदबाग पुलिया, अरोड़ा फर्नीचर, ताहिर हुसैन के घर का तहखाना, अंकित शर्मा केजरीवाल, अंकित शर्मा ताहिर हुसैन, अंकित शर्मा का परिवार, अंकित शर्मा के पिता, अंकित शर्मा के भाई अंकुर, दिल्ली शाहदरा, शाहदरा दिलबर सिंह, उत्तराखंड दिलवर सिंह, दिल्ली हिंसा में दिलवर सिंह की हत्या, रवीश कुमार मोहम्मद शाहरुख, रवीश कुमार अनुराग मिश्रा, रतनलाल, साइलेंट मार्च, यूथ अगेंस्ट जिहादी हिंसा, दिल्ली हिंसा एनडीटीवी, एनडीटीवी श्रीनिवासन जैन, एनडीटीवी रवीश कुमार, रवीश कुमार प्राइम टाइम, रवीश कुमार दिल्ली हिंसा, दीपक चौरसिया एनडीटीवी, NDTV के पत्रकार पर हमला, दिल्ली हिंसा में कितने मरे, दिल्ली दंगों में मरे, दिल्ली कितने हिंदू मरे, दिल्ली हाईकोर्ट, जस्टिस मुरलीधर, जस्टिस मुरलीधर का तबादला, दिल्ली हाई कोर्ट जस्टिस मुरलीधर, दिल्ली हाई कोर्ट कपिल मिश्रा, दिल्ली दंगों में आप की भूमिका, आप पार्षद ताहिर हुसैन, आप नेता ताहिर हुसैन, ताहिर हुसैन वीडियो, कपिल मिश्रा ताहिर हुसैन, अंकित शर्मा का भाई, आईबी कॉन्स्टेबल की हत्या, अंकित शर्मा की हत्या, चांदबाग अंकित शर्मा की हत्या, दिल्ली हिंसा विवेक, विवेक ड्रिल मशीन से छेद, विवेक जीटीबी अस्पताल, विवेक एक्सरे, दिल्ली हिंदू युवक की हत्या, दिल्ली विनोद की हत्या, दिल्ली ब्रहम्पुरी विनोद की हत्या, दिल्ली हिंसा अमित शाह, दिल्ली हिंसा केजरीवाल, दिल्ली हिंसा उपराज्यपाल, अमित शाह हाई लेवल मीटिंग, दिल्ली पुलिस, दिल्ली पुलिस रतनलाल, हेड कांस्टेबल रतनलाल, रतनलाल का परिवार, ट्रंप का भारत दौरा, ट्रंप मोदी, बिल क्लिंटन का भारत दौरा, छत्तीसिंह पुरा नरसंहार, दिल्ली हिंसा, नॉर्थ ईस्ट दिल्ली, दिल्ली पुलिस, करावल नगर, जाफराबाद, मौजपुर, गोकलपुरी, शाहरुख, कांस्टेबल रतनलाल की मौत, दिल्ली में पथराव, दिल्ली में आगजनी, दिल्ली में फायरिंग, भजनपुरा, दिल्ली सीएए हिंसा
Ayush Anand
Advocate at Supreme Court of India. Writes on socio political and legal issues.

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘भाई (दाऊद) के घर से बात कर रहा हूँ, कराची से रॉकेट मारूँगा’: रिपोर्ट में दावा- छोटा शकील ने किया कॉल, परमबीर सिंह से...

परमबीर सिंह जब पुलिस कमिश्नर थे, जब छोटा शकील ने एक कारोबारी को फोन कर के 3 बार धमकी दी। ये मामला परमबीर सिंह पर रंगदारी माँगने के आरोपों से जुड़ा है।

टोक्यो ओलंपिक सेमीफाइनल: बेल्जियम से हारी भारतीय हॉकी टीम, 41 साल बाद सोने का ख्वाब टूटा

भारतीय हॉकी टीम का मुकाबला टोक्यो ओलंपिक के सेमीफाइनल में बेल्जियम के साथ हुआ। बेल्जियम ने भारत को 5-2 से हराया और फाइनल में पहुँच गई।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
112,708FollowersFollow
395,000SubscribersSubscribe