Friday, May 14, 2021
Home विचार मीडिया हलचल पालघर साधु लिंचिंग: हिंदुओं को 'आतंकी' कहने वाले अनुराग और लिबरल गैंग अब पढ़ा...

पालघर साधु लिंचिंग: हिंदुओं को ‘आतंकी’ कहने वाले अनुराग और लिबरल गैंग अब पढ़ा रहे इंसानियत का पाठ

जिस भीड़ ने साधुओं पर हमला किया, उनमें से एक का नाम शोएब भी कहा जा रहा है। जिसके अपराध को छिपाने के लिए शायद अनुराग कश्यप ऐंड गैंग एक अलग नैरेटिव गढ़ रहे हैं। जो लोग वीडियो में शोएब के होने की बात को खुलकर बोल रहे, उनके ख़िलाफ़ एक्शन लेने की माँग कर रहे हैं।

पालघर में साधुओं पर नरभक्षियों की तरह प्रहार करने वाली भीड़ के ख़िलाफ़ गुस्सा रह-रहकर उमड़ता है। समझना मुश्किल हो जाता है कि आखिर समाज किस तरफ जा रहा है। एक ओर तो मौलाना साद को डिफेंड करने के लिए फेक न्यूज तक चलाने से किसी को कोई गुरेज नहीं होता, मगर दूसरी ओर साधुओं की हत्या कर दी जाती है और उनके पक्ष में बोलने से सब सेकुलरवादी परहेज करने लगते हैं। 

इस दौरान जो खुद को सोशल मीडिया पर बैलेंस होकर पेश करना चाहते हैं, वो इस घटना पर कम्यूनल एंगल न ढूँढने की गुहार लगाते हैं और जो कट्टरपंथी पहले से ही अपने चेहरे से सेक्युलर मुखौटे को उतारकर फेंक चुके हैं, वो या तो इस घटना पर चुप रहते हैं या फिर इसे एक अतिवाद के ख़िलाफ़ प्रतिक्रिया मात्र बताते हैं।

अनुराग कश्यप, स्वरा भास्कर जैसे लोग बॉलीवुड के कुछ ऐसे नाम हैं जिन्हें सीएए/एनआरसी के ख़िलाफ़ प्रदर्शनों में बढ़-चढ़कर भाग लेते देखा गया। इन्होंने इस बीच न बिलकुल एकतरफा होकर एक निराधार माँग को वाजिब ठहराने के लिए लड़ाई लड़ी। बल्कि समाज में ऐसे दर्शाया कि देश का बहुसंख्यक अब अल्पसंख्यकों पर हावी हो गया है। अनुराग कश्यप ने तो उस दौरान गृहमंत्री के लिए यहाँ तक कहा कि इतिहास थूकेगा इस जानवर पर।  

मगर, जब महाराष्ट्र के पालघर में साधुओं पर हमला हुआ तो, वही अनुराग कश्यप के सुर पूरी घटना पर बदल गए और वे आक्रोश दिखाने वाले लोगों को समझाते नजर आए कि इस खबर में हिंदू मुस्लिम एंगल न ढूँढा जाए बल्कि उस माहौल को दोष दिया जाए जिसके कारण ये घटना घटी।

अब ये लिखने की बात नहीं है कि अनुराग कश्यप जैसे लोग इन घटनाओं के पीछे किसे जिम्मेदार मानते हैं। वे साल 2014 बाद से देश के माहौल को क्यों साम्प्रदायिक बताते हैं। मगर ये जरूर गौर करने की बात है कि जिस भीड़ ने साधुओं पर हमला किया उनमें से एक नाम शोएब भी कहा जा रहा है। जिसके अपराध को छिपाने के लिए शायद आज अनुराग कश्यप एक अलग नैरेटिव गढ़ रहे हैं और जो लोग वीडियो में शोएब के होने की बात को खुलकर बोल रहे। उनके ख़िलाफ़ एक्शन लेने की माँग कर रहे हैं। 

यहाँ ऐसा नहीं है कि सेकुलर-सेकुलर का खेल खेलते अनुराग कश्यप ने हमेशा इस लीक को फॉलो किया हो और हमेशा हिंदू-मुस्लिम का एंगल उभारने पर लोगों को टोका हो। साल 2017 का उनका ट्वीट बताता है कि किस तरह वे हिंदुओं को अतिवादी और आतंकवादी तक कहते नजर आए थे।

उस दौरान शायद उन्हें यही लगता होगा कि उनके गैंग द्वारा समाज में फैलाया जहर अंतिम सत्य होगा और जिन लोगों को वो बचाने निकलेंगे वो हमेशा आस्तीन में रहकर डसने का काम करेंगे। न कभी इनकी सच्चाई सामने आएगी और न कभी उनके पूरे अजेंडा को कोई तोड़ पाएगा।

मगर आज जब धीरे-धीरे इन लोगों का प्रोपगेंडा दम तोड़ने लगा है और खुलेआम साधुओं को मारने की खबरें मीडिया में आने लगी है, तो ये भाषाई स्तर का खेल खेलकर नया तिलिस्म रचने की फिराक में हैं और लोगों को इंसानियत का पाठ पढ़ा रहे हैं क्योंकि इस बार मरने वालों में भगवा वेशधारी साधू हैं।

गौर रखिए कि स्वरा भास्कर जो समुदाय विशेष से संबंधित हर मुद्दे पर भावुक हो उठती हैं। उनकी आवाज में भारीपन दिखने लगता है, वे समय निकालकर प्रदर्शन में शाामिल होती हैं, वो इस खबर पर पूरी तरह मूक बनी बैठी हैं। उन्हें शायद मालूम भी नहीं है कि पालघर में साधुओं को उनके पोसे नरभक्षियों ने नोच लिया है।

इसके अलावा उनके गिरोह के लोग जो इस घटना पर मुँह खोल रहे हैं, वो अपने कड़ी निंदा में पालघर घटना को मात्र एक घटना की तरह पेश कर रहे है। उनके लिए मारे गए साधू मात्र आम व्यक्ति है, जिनको एक भीड़ ने लिंच कर दिया है। इन लोगों के पास न ही साधुओं को साधू कहने का समय है और न ही मॉब की हकीकत पर कुछ बोलने का। इन्हें न शिवसेना की नाकामयाबी पर बोलना है और न एनसीपी पर जिसके सदस्य खुद इस घटना के दौरान वहाँ मौजूद थे

गौरतलब है कि बॉलीवुड का पूरा ये धड़ा केवल सोशल मीडिया के जरिए अपने इस अजेंडे को नहीं चलाता। इसके लिए इन्हें मीडिया गिरोह के लोगों का समर्थन प्राप्त होता है। हम कह सकते हैं कि समाज में फर्जी न्यूज फैलाने और बहुसंख्यकों के ख़िलाफ़ माहौल बनाने की प्रक्रिया में ये दो क्षेत्रों के बुद्धिजीवी एक दूसरे के परिपूरक होते हैं। इसलिए इसे भी समझिए जिस समय बॉलीवुड में अनुराग समेत कई लोग या तो इसपर चुप थे या फिर खुद को बैलेंस कर रहे थे उस समय किस तरह मीडिया गिरोह के लोग इस घटना पर चुप्पी साधकर मखौल उड़ा रहे थे।

गौर करिए जब कल ये खबर चारों ओर फैल चुकी थी उस समय मीडिया गिरोह के दिग्गज सोशल मीडिया पर क्या शेयर कर रहे थे। सिद्धार्थ वरदराजन, मीडिया गिरोह के वरिष्ठ पत्रकार और झूठ बनाने की फैक्ट्री ‘द लायर’ के मालिक, जिस समय ये घटना चारों ओर फैल चुकी थी उस समय वर्धराजन तबलीगी जमात से लेकर होशियारपुर के मुस्लिमों की परेशानी उजागर करने में लगे थे। 

उनके ख़िलाफ़ हो रहे शोषण का मुद्दा उठा रहे थे। यूपी पुलिस के ख़िलाफ बोल रहे थे। लेकिन एक बार भी उन्होंने इस घटना पर बोलना उचित नहीं समझा। हाँ आज जरूर उन्होंने इस मामले पर ट्वीट किया। मगर अपने अजेंडे के अनुसार खबर को एंगल देकर, जिसमें उन्होंने आरोप लगाया कि भाजपा लीडर इस खबर को साम्प्रदायिक रंग दे रहे हैं।

इसी प्रकार राणा अयूब भी इस घटना के सुर्खियों में आने के बाद भी चुप्पी साधे बैठी रहीं। उन्होंने अपनी टाइमलाइन पर कश्मीर का मुद्दा उठाया। न्यूज़ीलैंड की सबसे प्रभावी लीडर के बारे में बताया। रमजान की खुशबू को महसूस किया। साथ ही मुस्लिमों के ख़िलाफ़ फैलाई जा रही नफरत के ख़िलाफ़ नैतिकता पर सवाल उठाया। मगर मजाल इस ‘जागरूक पत्रकार’ ने इस मुद्दे पर एक बार भी कोई बात की हो। इनके अलावा एक आरजे फहाद भी है जो इस घटना पर बोलते हैं लेकिन इसके पीछे मुस्लिमों की मॉब लिंचिंग को कारण बताते हैं।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

1971 में भारतीय नौसेना, 2021 में इजरायली सेना: ट्रिक वही-नतीजे भी वैसे, हमास ने ‘Metro’ में खुद भेज दिए शिकार

इजरायल ने एक ऐसी रणनीतिक युद्धकला का प्रदर्शन किया है, जिसने 1971 में भारत और पाकिस्तान के बीच हुए युद्ध की ताजा कर दी है।

20 साल से जर्जर था अंग्रेजों के जमाने का अस्पताल: RSS स्वयंसेवकों ने 200 बेड वाले COVID सेंटर में बदला

कभी एशिया के सबसे बड़े अस्पतालों में था BGML। लेकिन बीते दो दशक से बदहाली में था। आरएसएस की मदद से इसे नया जीवन दिया गया है।

₹995 में Sputnik V, पहली डोज रेड्डीज लैब वाले दीपक सपरा को: जानिए, भारत में कोरोना के कौन से 8 टीके

जानिए, भारत को किन 8 कोरोना वैक्सीन से उम्मीद है। वे अभी किस स्टेज में हैं और कहाँ बन रही हैं।

3500 गाँव-40000 हिंदू पीड़ित, तालाबों में डाले जहर, अब हो रही जबरन वसूली: बंगाल हिंसा पर VHP का चौंकाने वाला दावा

वीएचपी ने कहा है कि ज्यादातार पीड़ित SC/ST हैं। कई जगहों पर हिंदुओं से आधार, वोटर और राशन कार्ड समेत कई दस्तावेज छीन लिए गए हैं।

दिल्ली: केजरीवाल सरकार ने फ्री वैक्सीनेशन के लिए दिए ₹50 करोड़, पर महज तीन महीने में विज्ञापनों पर खर्च कर डाले ₹150 करोड़

दिल्ली में कोरोना के फ्री वैक्सीनेशन के लिए केजरीवाल सरकार ने दिए 50 करोड़ रुपए, पर प्रचार पर खर्च किए 150 करोड़ रुपए

महाराष्ट्र: 1814 अस्पतालों का ऑडिट, हर जगह ऑक्सीजन सेफ्टी भगवान भरोसे, ट्रांसफॉर्मर के पास स्टोर किए जा रहे सिलेंडर

नासिक के अस्पताल में हादसे के बाद महाराष्ट्र के अस्पतालों में ऑडिट के निर्देश तो दे दिए गए, लेकिन लगता नहीं कि इससे अस्पतालों ने कुछ सीखा है।

प्रचलित ख़बरें

हिरोइन है, फलस्तीन के समर्थन में नारे लगा रही थीं… इजरायली पुलिस ने टाँग में मारी गोली

इजरायल और फलस्तीन के बीच चल रहे संघर्ष में एक हिरोइन जख्मी हो गईं। उनका नाम है मैसा अब्द इलाहदी।

1600 रॉकेट-600 टारगेट: हमास का युद्ध विराम प्रस्ताव ठुकरा बोला इजरायल- अब तक जो न किया वो करेंगे

संघर्ष शुरू होने के बाद से इजरायल पर 1600 से ज्यादा रॉकेट दागे जा चुके हैं। जवाब में गाजा में उसने करीब 600 ठिकानों को निशाना बनाया है।

फिलिस्तीनी आतंकी ठिकाने का 14 मंजिला बिल्डिंग तबाह, ईद से पहले इजरायली रक्षा मंत्री ने कहा – ‘पूरी तरह शांत कर देंगे’

इजरायली प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतन्याहू ने कहा, “ये केवल शुरुआत है। हम उन्हें ऐसे मारेंगे, जैसा उन्होंने सपने में भी न सोचा हो।”

‘मर जाओ थंडर वुमन’… इजराइल के समर्थन पर गैल गैडोट पर टूटे कट्टरपंथी, ‘शाहीन बाग की दादी’ के लिए कभी चढ़ाया था सिर पर

इजराइल-हमास और फिलिस्तीनी इस्लामी जिहादियों में जारी लड़ाई के बीच हॉलीवुड में "थंडर वुमन" के नाम से जानी जाने वाली अभिनेत्री गैल गैडोट पर...

इजरायल पर हमास के जिहादी हमले के बीच भारतीय ‘लिबरल’ फिलिस्तीन के समर्थन में कूदे, ट्विटर पर छिड़ा ‘युद्ध’

अब जब इजरायल राष्ट्रीय संकट का सामना कर रहा है तो जहाँ भारतीयों की तरफ से इजरायल के साथ खड़े होने के मैसेज सामने आ रहे हैं, वहीं कुछ विपक्ष और वामपंथी ने फिलिस्तीन के साथ एक अलग रास्ता चुना है।

गाजा पर गिराए 1000 बम, 160 विमानों ने 150 टारगेट पर दागे 450 मिसाइल: बोले नेतन्याहू- हमास को बहुत भारी कीमत चुकानी पड़ेगी

फलस्तीन के साथ हवाई संघर्ष के बीच इजरायल जमीनी लड़ाई की भी तैयारी कर रहा है। हथियारबंद टुकड़ियों के साथ 9000 रिजर्व सैनिकों की तैनाती।
- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,357FansLike
93,847FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe