Tuesday, September 29, 2020
Home विचार सामाजिक मुद्दे इस 'शिकारा' का डूबना आवश्यक था, बॉलीवुड के इस्लामी आतंक प्रेम की पराकाष्ठा है...

इस ‘शिकारा’ का डूबना आवश्यक था, बॉलीवुड के इस्लामी आतंक प्रेम की पराकाष्ठा है ये

सोचिए इस पर, वरना हताश नायक की अनवरत हिलती पुतलियों में जीवित अवस्था में पीएन कौल की चमड़ी उतार कर मरने के लिए छोड़ देने की घटना भुला दी जाएगी। बर्फ़ीली वादियों में भूषण रैना के सर में रॉड घुसाने के बाद, उन्हें नग्नावस्था में पेड़ पर कील से ठोक देने की बात गायब कर दी जाएगी।

एक फिल्म बनी, पोस्टर छपे, लोगों में जिज्ञासा जगी, एक आशा बलवती हुई कि किसी ने तो अनकही कहानी (शब्दशः ‘अनटोल्ड स्टोरी’) कहने की हिम्मत की। तीस साल पूरे हुए उस नरसंहार के जिसे कश्मीरी पंडितों का पलायन बता कर सामान्य कर दिया जाता है। इस नरसंहार की बीस नृशंस कहानियों को मैंने पहले भी आप तक पहुँचाया है, और मैं चाहूँगा कि आप उन्हें फिर से एक बार दोहरा लें।

कश्मीर के हिन्दू नरसंहार की 20 नृशंस कहानियाँ जो हर हिन्दू को याद होनी चाहिए

इन्हें जानना नहीं, याद करना आवश्यक है। हमारे देश में एक विलक्षण प्रवृत्ति रही है अपने ऊपर हुए अत्याचारों और अन्यायों के दौर को ही नहीं, अत्याचारियों और आतंकियों को भी भुला देने का। ऐसा नहीं है कि हमें याद था और हम भूल गए। नहीं, ये कहानियाँ हम तक पहुँचने ही नहीं दी गईं। किसी ने ये बताया ही नहीं कि जिस नरसंहार को ‘पलायन’ कह कल सामान्यीकृत किया जाता है, उसमें हुआ क्या था?

हमें इंटरनेट के दौर में भी उन कहानियों के बाहर आने की प्रतीक्षा करनी पड़ी। 2010 वाले दशक में तो इंटरनेट आ चुका था, 2015-16 तक तो हमारे हाथों में 4G आ गया था, फिर भी हम तक वो कहानियाँ क्यों नहीं आईं! क्योंकि हम एनिवर्सरी का, सालगिरह की प्रतीक्षा करते हैं या फिर हमारे इंतजार का कारण हमारी सामूहिक विस्मृति है, जिसे तारीखों का भान सिर्फ वर्तमान को जी लेने भर के लिए ही रहता है।

हम भूल जाते हैं कि इतिहास भी कभी वर्तमान था, और आज का वर्तमान भी किसी के लिए इतिहास होगा। स्कूलों में जब आतंकवादी मुसलमान शासकों को शहंशाह और आलमगीर जैसे विशेषणों के साथ पढ़ाया गया, महान भारतीय चक्रवर्ती सम्राटों को अनुच्छेदों में समेट कर बलात्करियों और मूर्तिभंजक मुगलों के समक्ष बौना कर दिया गया, तो कश्मीरी हिन्दुओं का रक्तिम वर्तमान, जिस घाव के ऊपर अभी भी पपड़ी सूखी नहीं है, नाखून धँसाने से रिसने लगती है, उसे कैसे बताया जाता!

वो भी इस दौर में जहाँ कश्मीर को डल झील की जमी हुई बर्फ पर क्रिकेट खेलते बच्चों की सालाना तस्वीर में ही निपटा दिया जाता है। हमें तो बताया ही नहीं जाता कि फ़ेरन के नीचे की काँगड़ी में बारूद किसने रखा! हमें तो उस त्रासदी को ‘कश्मीरी पंडितों के पलायन के इतने साल’ जैसे वाक्यांशों में समेटने लायक ही जानकारी दी जाती रही है।

ये तो बताया ही नहीं गया कि मंदिरों पर लाउडस्पीकर लगा कर नमाज क्यों पढ़ रहे थे मुसलमान? ये तो कहा ही नहीं गया कि उन्हीं लाउडस्पीकरों से ‘हमें कश्मीरी हिन्दू औरतें और लड़कियाँ चाहिए’ की भी आवाज़ें आ रही थीं! आठ लाख लोगों को घर छोड़ कर निकलना पड़ा क्योंकि उनके मंदिरों में एके सैंतालीस नहीं बाँटे गए, न ही मंगलवार को पत्थरबाजी की, महिलाओं के बलात्कार की, पुरुषों की हत्या की, पड़ोसियों को आतंकियों के हवाले करने का प्रशिक्षण दिया गया था।

कश्मीरी हिन्दू बस चार सौ सालों के इस्लामी शासन में शिव, शारदा और बौद्ध दर्शन के मुख्य केन्द्रों से बलात्कारी और हिंसक मुसलमानों के ठिकाने में बदल दिए गए। तो क्या 1990 का नरसंहार और पलायन पहला था? एक पूरा इलाका इस्लामी ही नहीं बना, बल्कि मुसलमानों की जनसंख्या 96% हो गई। ऐसा सिर्फ अपने बच्चे पैदा करने से नहीं होता, बल्कि दूसरों के कत्ल, उनकी आस्था पर चोट और हिंसा से संभव होता है। वो इतिहास तो हम तक अभी भी नहीं पहुँचा है। हमें तो उस दौर के पन्ने दिखाए भी नहीं गए हैं।

बॉलीवुड के धूर्त लोग

तीस साल जब बीते, तब कहीं-कहीं चर्चा शुरू हुई। श्रद्धांजलि सभाएँ, सालाना ‘कश्मीरी पंडितों के पलायन के तीस साल’ वाले कॉपी-पेस्ट लेख और श्वेत-श्याम तस्वीरें, कुछ भाषण, कुछ बयान आदि आए और चले गए। लेकिन इसके साथ एक बात और हुई। एक पोस्टर आया जिसमें विधु विनोद चोपड़ा ने ‘कश्मीरी पंडितों के पलायन की अनकही कहानी’ पर फ़िल्म बनाने की बात की।

अपने ही घर से बेघर कश्मीरी हिन्दुओं ने सोचा कि चलो किसी को तो सुधि आई, किसी ने तो इतना सोचा। लेकिन कुछ लोग विधु विनोद चोपड़ा को लेकर सशंकित थे। ट्रेलर आया तो चोपड़ा जी की करतूत का थोड़ा भेद खुला। उसके बाद जैसे-जैसे प्रमोशन होने लगा, फिर शाहीन बाग उसमें जुड़ने लगा, फिर निर्देशक और लेख आदि जैसे-जैसे पोलिटिकली करेक्ट बातें करने लगे, सारा खेल समझ में आने लगा कि इसमें क्या हुआ होगा।

फिर भी, लोगों ने इंतजार करना बेहतर समझा। हालाँकि, रवीश कुमार जैसे प्रपंचियों ने ‘मैंने सबको सॉरी कहा’ कह कर मानवता की अप्रतिम मिसाल बन कर सामने आने की कोशिश की, और विधु विनोद चोपड़ा सहित, कई लोग जो इस फिल्म से जुड़े थे, सेकुलर बनने के रोग से ग्रस्त हुए। बातें कही जाने लगीं कि हमें नफरत नहीं फैलाना चाहिए, एक दूसरे को सॉरी बोल कर आगे बढ़ना चाहिए, दो बिछड़े दोस्तों की तरह मिलना चाहिए…

मतलब? हिन्दू किस बात के लिए मुसलमानों को सॉरी बोले? क्या वो इसलिए सॉरी बोले कि उसकी एक बेटी का रेप हुआ, दूसरी को बचा कर भाग आया? क्या पति के खून से सने चावल खाने को मजबूर बीके गंजू की पत्नी को सॉरी बोलना चाहिए कि मुसलमान आतंकियों से बचने के लिए वो चावल के कनस्तर में छुप रही थी, उन्हें खोजने में समस्या हुई होगी! क्या भूषण लाल रैना के परिवार वाले (अगर ज़िंदा हैं कहीं तो) मुसलमानों से माफी माँगे कि जब उनके सर में रॉड घुसाने के बाद, उन्हें नग्न कर के, पेड़ में कीलों से ठोका जा रहा था तब उन्होंने अपने बेजान हाथों से उन्हें दूसरी कील नहीं थमाई?

ये जो सेकुलरिज्म है, जहाँ हमें इतिहास को जीभ से चाट कर प्लेट को साफ करने की तरह बताने की कोशिश की जा रही है, वो सर्वथा गलत है, एक पाप है जो हम अपने साथ कर रहे हैं। कश्मीरी मुसलमान और वो तमाम लोग जो इस पर चुप रहते हैं, किसी भी तरह की माफी के लायक नहीं हैं। हर भारतीय हिन्दू को, और गैर-मुस्लिम अल्पसंख्यकों को कश्मीर याद रहना चाहिए।

क्या हिटलर द्वारा यहूदियों के नरसंहारों के लिए नाज़ी सैनिकों को माफ कर दिया विश्व ने? या आज भी अगर वो 94 साल का व्हीलचेयर से बँधा रैनहोल्ड हैनिंग भी हो, जो उसी ऑश्विट्ज़ मृत्यु शिविर का गार्ड था जहाँ 1,70,000 लोगों की हत्या की गई थी, उसे भी खोज कर न्यायिक प्रक्रिया से गुजार कर एक राष्ट्र उस अपराध को स्वीकार रहा है जो किसी और ने उसी सत्ता की कुर्सी पर आसीन हो कर किया था?

उन्हें माफ कैसे कर दिया जाए जिन्होंने गिरिजा टिक्कू का सामूहिक बलात्कार किया, और जीवित अवस्था में ही बढ़ई की आरी से उसे चीर दिया? और क्यों माफ कर दें? क्योंकि वो मुसलमान हैं? क्योंकि मुसलमान इस देश की दूसरी सबसे बड़ी आबादी हो कर भी अल्पसंख्यकों का दर्जा लिए पीड़ित होने का स्वाँग रचता है? क्योंकि मुसलमान जहाँ भी है, उसे वहाँ के दूसरे समुदायों ने निशाना बना रखा है?

कश्मीर के मुसलमानों ने वहाँ ख़िलाफ़त खड़ा किया हुआ था, और आज भी है। यही क्रूर सत्य है। इन दरिंदों को माफ़ करना उन तमाम मृत शरीरों को आरी से काटने जैसा है, उनके गालों को चाकू से छीलने जैसा है, नग्नावस्था में पेड़ पर कील से ठोकने जैसा है, जिनकी आत्मा शायद आज भी न्याय के लिए भटक रही होगी। इन दरिंदों को माफ़ कैसे कर दें! जिन कहानियों को सुन कर हृदय काँप उठता है, उनके हत्यारों की ‘सॉरी’ सुन कर ‘मूव ऑन’ कैसे कर जाएँ?

विधु विनोद चोपड़ा हमारे बॉलीवुड के निर्देशक हैं। उनको पैसा कमाना है। कश्मीरी हिन्दुओं की व्यथा के नाम पर प्रमोशन भी करना है, और वैलेंटाइन वीक में प्रेमी युगलों को बर्फ और वादी में सिमटते देहों का प्रेम भी दिखाना है। उन्हें यह भी दिखाना है कि कैसे हिन्दू का वो बच्चा रेडिकलाइज्ड है जो कहता है ‘मंदिर वहीं बनाएँगे’, और उन मुसलमानों को सेकुलर भी कहना है जिन्होंने मंदिरों को मस्जिद बना दिया… इतनी मेहनत की है चोपड़ा साहब ने, बधाई तो देना ही चाहिए!

पॉपुलर कल्चर में नरसंहार को प्रेम कहानी बनाने की चाह

विधु विनोद चोपड़ा की पिछली फ़िल्म ‘संजू’ थी, जिसमें संजय दत्त की ‘माँ कसम सच्ची कहानी’ बताई गई थी। बायोपिक कह कर दर्शकों के सामने एक निर्दोष इन्सान की कहानी परोसी गई, अच्छी चली फिल्म। अब किसी को उस समय के अखबारों की कवरेज, कोर्ट के केस, पुलिस का पक्ष आदि जानने की आवश्यकता नहीं, फिल्म देख लीजिए और इतिहास समझ जाइए क्योंकि ये तो बायोपिक है।

उसी तरह, यह भी एक बायोपिक है, लेकिन यहाँ किसी एक व्यक्ति की कहानी नहीं बेची जा रही, बल्कि एक समूह की है। चोपड़ा साहब कर्ता-धर्ता हैं तो आशानुरूप सच्चाई को फ़ेरन में छुपा कर, शिकारे के ऊपर बने कमरे में छुपा दिया गया और झील दिखा कर, संगीत बजा कर, कह दिया गया कि सब प्रेम है, कश्मीर में तो बस प्रेम ही था, वो तो हिन्दुओं को पता नहीं क्या सूझी कि एक रात भाग गए… मुझे लगता है इस्लामोफोबिक हैं सारे कश्मीरी हिन्दू!

ऐसा कर पाना कि इतिहास को पूरी तरह से मरोड़ कर दिखाने के बाद, उन्हीं लोगों को नीचा दिखाना जिन पर अत्याचार हुए, एक अलग स्तर का कौशल माँगता है। विधु जी में वो कौशल है, राहुल पंडिता में वो कौशल है! आश्चर्य की बात यह है कि इस त्रासदी में भी प्रेम खोज लेना, और उसे ऐसे दिखा देना कि थोड़े-बहुत दंगे भी हो गए, लाउडस्पीकर पर ऐलान भी हो गया, जलते घर भी दिखा दिए, फिर ‘कम ऑन बेबी, डॉन्ट बी मीन’ कर देना, टैलेंट तो माँगता है भाई!

पोस्टर पर लिखा है ‘द अनटोल्ड स्टोरी ऑफ कश्मीरी पंडित्स’। इसके एक-एक शब्द को ध्यान से समझिए। यह ‘एन अनटोल्ड स्टोरी’ नहीं है, जिसका मतलब होता है ‘एक अनकही कहानी’, बल्कि ‘द अनटोल्ड स्टोरी’ है, जिसका मतलब है ‘वो अनकही कहानी’। यहाँ ‘एक’ कहानी होती तो, समझ में आता कि किसी एक जोड़े की कहानी हो सकती है, लेकिन जब ‘द’ नामक आर्टिकल का प्रयोग होता है तो वो इस संदर्भ में एक पूरे घटनाक्रम, एक सामूहिक परिस्थिति, एक सार्वजिनक कहानी की बात करता है।

‘अनटोल्ड’ का अर्थ होता है ‘अनकही’, जिसे कहा नहीं गया हो। इस पोस्टर और फिल्म के संदर्भ में इसका अर्थ यह है कि वह कहानी जिसके बारे में सब जानते तो हैं, लेकिन उसे विस्तार से, एक नए माध्यम से, समुचित ट्रीटमेंट के साथ कभी प्रस्तुत नहीं किया गया हो। आप ऐसी कहानी कहने का दावा कर रहे हैं जो सबको जाननी चाहिए, लेकिन कोई जानता नहीं। कश्मीरी पंडितों के संदर्भ में, वो कहानी प्रेम की हो ही नहीं सकती, त्रासदी थी वो, त्रासदी है वो, और जितनी कोशिशें कर लो, त्रासदी ही रहेगी।

और, ये कहानी है किसकी? ‘ऑफ़ कश्मीरी पंडित्स’। यह भी एक अद्भुत बात है कि जिन लोगों को कश्मीर से भगाया गया, उन्हें सिर्फ और सिर्फ उनके धर्म के कारण भगाया गया, उन्हें भी एक जातीय नाम में बाँध कर सीमित किया जाता रहा है। क्या कश्मीरी हिन्दुओं को उनकी जाति के कारण मारा गया, बलात्कार किया गया? क्या उनके मंदिर जातियों के लिए बने थे, जिन्हें तोड़ा गया? फिर उनके इस नरसंहार और पलायन में ‘पंडित’ होने का प्रमुखता क्यों दी जाती है?

वामपंथियों का यह खेल बहुत पुराना है। अवचेतन स्तर पर यह हिन्दू समाज को बाँटने की निंजा तकनीक है। यहाँ ‘पंडित’ लगाते ही उनके साथ हुए इस नृशंसता की लिए स्वानुभूति जातिगत हो जाएगी, सीमित हो जाएगी, बँट जाएगी। ब्राह्मणों का नाम आते ही यहाँ सवर्ण-बनाम-दलित वाली चर्चा में इसे हेय दृष्टि से देखा जाएगा, और लोगों से कहा जाएगा कि जो हुआ, सही हुआ क्योंकि वो तो ब्राह्मण थे, जिन्होंने पाँच हजार सालों तक तुम्हें घोड़े में बाँध कर घसीटा है। हालाँकि, पाँच हजार साल तो छोड़िए, मुसलमान आतंकवादियों और अंग्रेज लुटेरों के आने के पहले जातिगत भेदभाव का एक जिक्र कोई दिखा दे मुझे!

शब्द बहुत मनन-चिंतन के बाद चुने जाते हैं। वामपंथी आपकी त्रासदी पर हमेशा ही हँसेंगे, और उसके लिए वो शब्द, कहानी और फिल्म गढ़े लेंगे। हिन्दू को पंडित बता कर समेट लिया जाएगा, नरसंहार की सामूहिक त्रासदी पर वैयक्तिक प्रेम कहानी को भारी बना दिया जाएगा। दो मुसलमान अदाकारों से कश्मीरी हिन्दुओं का किरदार निभाता दिखाया जाएगा जैसे ये कोई अहसान किया जा रहा हो कि वो मुसलमान हैं फिर भी देखो हिन्दू बन रहे हैं! सही बात है, विश्व शांति के लिए नोबेल पुरस्कार दे दिया जाए इन्हें क्योंकि अहसान तो है ही कि… ख़ैर, रहने दीजिए!

कश्मीरी हिन्दुओं की चेतना पर प्रहार

यह एक सामान्य घटना नहीं है। जब बलात्कारी बाबर और आतंकवादी औरंगजेब जैसों के नाम पर सड़कें और इमारतें अभी भी इस राष्ट्र की राजधानी की शोभा बढ़ा रही हैं, तो फिर कश्मीरी हिन्दुओं के नरसंहार करने वालों को भारत रत्न भी दिया जा सकता है। कश्मीर के तो वो रत्न होंगे ही। जिन लोगों ने तीस हज़ार से ज़्यादा मंदिर तोड़े, हजारों गाँवों को जलाया, लाखों हिन्दुओं को काटा, मतपरिवर्तन कराया, उनकी बच्चियों को हरम में डाला, हिन्दू शासकों की राजकुमारियों को मुसलमानों को उपहार में बँटवाया, जब हम उनका गुणगान कर सकते हैं, तो कश्मीरी मुसलमान तो उनके सामने बहुत छोटे हैं!

इसके लिए तो वाक़ई एक फिल्म काफी होती अगर इस पर चर्चा शुरू न होती, और दिव्या राजदान जैसे लोग भरे थिएटर में निर्देशक और लेखक को जलील न करते। फिल्म इतनी बर्बाद बनी है कि सारे वामपंथी और आतंकियों के हिमायती मिल कर भी शायद लागत भी वसूल न पाएँ। रविवार को हर जगह खाली थिएटर इस बात का सबूत देते हैं कि लोगों में जागरूकता बढ़ी है। और ये जागरूकता उन लोगों में बढ़ी है जो नाम देख कर सिनेमा देखते थे, और ऐसे निर्देशकों को अरबपति बनाते रहे जिन्होंने हमेशा अजेंडा ढकेला है, सिनेमा नहीं बनाया।

इस गिरोह को प्रस्तर पर पटकनी देना आवश्यक है। इन्होंने वर्तमान में तो हमेशा ही अजेंडा बेचा है, लेकिन कश्मीरी हिन्दुओं के नरसंहार में ‘मंदिर वहीं बनाएँगे’ घुसेड़ देना बताता है कि ये इतिहास का पुनर्लेखन करने की मंशा रखते हैं। बीस साल पहले ऐसा करते, तो संभव भी था। संभव वैसे ही हो जाता जैसे बॉलीवुड के कारण हर साधु को प्रथमदृष्ट्या बहुरूपिया मान लिया जाता है, हर बनिया सूदखोर हो जाता है, हर ब्राह्मण व्यभिचारी दिखने लगता है, जबकि हर अब्दुल का बाप ‘मेरा एक और भी बेटा होता तो’ वाला भावुक संवाद बोलता है, और अनाथों को पालने का जिम्मा उठाता मिलता है।

नज़र घुमा कर देखिए कि कितने प्रतिशत साधु किसी को ठगते नजर आते हैं? कितने प्रतिशत ब्राह्मण व्यभिचार या अन्य कुकर्मों में संलिप्त दिखते हैं! कितने प्रतिशत लाला किसी के माँ के कंगन लेने को आतुर रहता है? लेकिन एक ही तरह के पात्र, एक ही तरह के गलत काम करते, कई फिल्मों में आपको दिखेंगे। फिर हर ब्राह्मण शक के दायरे में आ जाता है, और हम धीरे-धीरे पूरी जाति से ही घृणा करने लगते हैं। टोलियाँ बन जाती हैं, झंडे का रंग बदल जाता है, और समाज टूटने लगता है।

वही हाल यहाँ कश्मीरी हिन्दुओं का बनाने की कोशिश हुई है। कल को कोई डायरेक्टर उठेगा और कश्मीर घाटी में किसी असलम और सलमा को हिन्दुओं से प्रताड़ित होता दिखाएगा, फिर हम मान लेंगे कि ज़रूर हिन्दुओं ने ही कुछ किया होगा, ये तो बेचारे किसी तरह बकरी पाल कर गुजर-बसर कर रहे थे। कुछ लोग सवाल पूछने लगे हैं कि ‘कुछ तो किया होगा यार, पागल थोड़े ही थे कि एक रात उठे और भगा दिया?’

फिर आप वहीं से सोचना शुरू करते हैं। आप इस्लामी उम्माह और ख़िलाफ़त के संदर्भ को भुला देते हैं, आपको यह भी याद नहीं रहता कि रोहिंग्या मुसलमानों ने म्यांमार में बौद्धों को हथियार उठाने पर मजबूर कर दिया। आप यह भूल जाते हैं कि जिन यूरोपीय देशों ने मुसलमानों को शरण दिया, वहाँ के हर शहर में आतंकी घटनाएँ निरंतर होती रही हैं। आप यह भूल जाते हैं कि मुसलमानों को शरण देते ही स्वीडन विश्व में बलात्कार के मामले में सबसे ऊपर चला जाता है! आप यह भूल जाते हैं कि शांतिप्रिय देशों में ऐसे लोगों के कैम्प और कई इलाके जहाँ मुसलमानों को वर्चस्व है ‘नो गो ज़ोन’ बन चुके हैं।

इसलिए, कोई आपसे यह कह देगा कि ‘यार, कुछ तो किया होगा न, ऐसे ही थोड़े कोई भगा देगा किसी को’, तो उसे खींच कर ऐसा तमाचा मारिए कि उसका मस्तिष्क झंकृत हो उठे और वो सोचे कि यह प्रश्न कितना वाहियात था। हमें, जानने की आवश्यकता है कि वो कहानियाँ कौन-सी हैं, जो आज तक गायब हैं। आठ लाख लोगों को पलायन सिर्फ तीस साल पहले हुआ है, हर व्यक्ति के पास एक कहानी होगी।

ऐसे लोगों को खोजिए, और पूछिए उनसे कि उनका गुनाह क्या था। उनसे समझिए कि मुसलमानों की बस्ती में हिन्दू होने के क्या मायने हैं। जानने की हर संभव कोशिश कीजिए कि आपका पड़ोसी किसी आतंकवादी को आपका पता क्यों बता देगा। इस सोच को जाँचिए जो अपने दोस्त से मिलने का समय माँगता है, घर जाता है, लालचौक को जाती मेटाडोर में बैठता है, रास्ते में उसी दोस्त की छाती में गोली मारता है, शरीर को घसीटता है, और सबके देखने के लिए सड़क पर छोड़ देता है।

फिर आपको पता चलेगा कि ये जीवन नहीं है, युद्ध है इनके लिए जिसमें ये तब तक लड़ते रहेंगे, जब तक जीत न जाएँ। दस साल, बीस साल, पचास साल, सौ साल, हजार साल… चार सौ साल में कश्मीर से हिन्दू कैसे खाली हो गए कि पाँच सौंवे साल में, लोकतंत्र होते हुए भी, सरकार और सेना आठ लाख लोगों के पलायन को रोक न सकी?

सोचिए इस पर, वरना प्रेम कहानी के चुम्मे में वन्धामा की 23 लाशों की विद्रूपता छुपा दी जाएगी। शिकारे पर बैठी नायिका की काली जुल्फों में सिगरेट से पूरे शरीर को जलाने के बाद, सर्वानंद कौल और उनके पुत्र की आँखें निकाल लेने की इस्लामी कलाकृति गायब कर दी जाएगी। हताश नायक की अनवरत हिलती पुतलियों में जीवित अवस्था में पीएन कौल की चमड़ी उतार कर मरने के लिए छोड़ देने की घटना भुला दी जाएगी। बर्फ की वादियों में घुटनों में गोली खाए अशोक कुमार काज़ी के बाल उखाड़ने पर निकली चीख और नवीन सप्रू के शरीर में जानबूझकर मुख्य अंगों में गोली न मार कर उनकी तड़प को देखने वाले मुसलमानों की हँसी गुम कर दी जाएगी।

इस फ़िल्म को मत देखिए, इसकी मंशा को समझिए कि वो आपको क्या दिखाना नहीं चाहते। खोजिए, पढ़िए, जानिए, और समझिए कि हिन्दुओं के साथ क्या हुआ था, और क्या हो रहा है।

शिकारा रिव्यू: 90 में इस्लाम ने रौंदा, 2020 में बॉलीवुड कश्मीरी हिंदुओं पर रगड़ रहा नमक

‘कश्मीरी हिन्दुओं पर थूकने का काम करती है शिकारा फिल्म, उल्टे हिन्दुओं को ही कम्युनल कहती है’

छिपाया जा रहा कश्मीरी पंडितों का दर्द?: ‘शिकारा’ के कुछ पोस्टरों में इसे बताया गया ‘लव स्टोरी’

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

अजीत भारतीhttp://www.ajeetbharti.com
सम्पादक (ऑपइंडिया) | लेखक (बकर पुराण, घर वापसी, There Will Be No Love)

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

तिलक लगा, भगवा पहन एंकरिंग करना अपराध है? सुदर्शन न्यूज ने केंद्र के शो-कॉज नोटिस का दिया जवाब

‘यूपीएससी जिहाद’ कार्यक्रम को लेकर सूचना प्रसारण मंत्रालय की ओर से जारी शो-कॉज नोटिस का सुदर्शन न्यूज ने जवाब दे दिया है।

16 दिसंबर को बस फूँका, 17 को हिंदुओं पर पथराव: दिल्ली दंगों में ताहिर हुसैन के बयान से नए खुलासे

ताहिर हुसैन के बयान से दिल्ली के हिंदू विरोधी दंगों को लेकर कुछ चौंकाने वाले खुलासे हुए हैं। कुछ ऐसे तथ्य सामने आए हैं जिससे अब तक सब अनजान थे।

दीपिका, सारा, श्रद्धा और रकुल… सबने NCB को दिए एक जैसे जवाब, बताया- हैश ड्रग नहीं है

दीपिका, सारा, श्रद्धा और रकुल से एनसीबी ने पूछताछ भले अलग-अलग की हो, पर दिलचस्प यह है कि सवालों जवाब सबके एक जैसे ही थे।

कहीं देवी-देवताओं की मूर्ति पर हथौड़े से वार, कहीं आग में जलता रथ: आंध्र प्रदेश में मंदिरों पर हुए हालिया हमले

पिछले कुछ समय से लगातार आंध्र प्रदेश में हिंदू मंदिरों पर हमले की घटनाएँ सामने आ रही हैं। ऐसे 5 मामलों में क्या हुआ, जानें।

गायत्री मंत्र जपते थे भगत सिंह, आर्य समाजी था परिवार, सावरकर के थे प्रशंसक: स्वीकार करेंगे आज के वामपंथी?

भगत सिंह का वामपंथ टुकड़े-टुकड़े वाला नहीं था। न ही उन्होंने कभी ऐसा लिखा कि वे हिन्दू धर्म को नहीं मानते या फिर वे हिन्दू देवी-देवताओं से घृणा करते हैं।

हरामखोर का मतलब नॉटी है तो फिर नॉटी का मतलब क्या है? संजय राउत से बॉम्बे HC ने पूछा

वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए चल रही सुनवाई में बेंच ने कंगना को हरामखोर कहे जाने पर संजय राउत के भाषाई ज्ञान पर सवाल उठाया।

प्रचलित ख़बरें

बेच चुका हूँ सारे गहने, पत्नी और बेटे चला रहे हैं खर्चा-पानी: अनिल अंबानी ने लंदन हाईकोर्ट को बताया

मामला 2012 में रिलायंस कम्युनिकेशन को दिए गए 90 करोड़ डॉलर के ऋण से जुड़ा हुआ है, जिसके लिए अनिल अंबानी ने व्यक्तिगत गारंटी दी थी।

‘दीपिका के भीतर घुसे रणवीर’: गालियों पर हँसने वाले, यौन अपराध का मजाक बनाने वाले आज ऑफेंड क्यों हो रहे?

दीपिका पादुकोण महिलाओं को पड़ रही गालियों पर ठहाके लगा रही थीं। अनुष्का शर्मा के लिए यह 'गुड ह्यूमर' था। करण जौहर खुलेआम गालियाँ बक रहे थे। तब ऑफेंड नहीं हुए, तो अब क्यों?

एंबुलेंस से सप्लाई, गोवा में दीपिका की बॉडी डिटॉक्स: इनसाइडर ने खोल दिए बॉलीवुड ड्रग्स पार्टियों के सारे राज

दीपिका की फिल्म की शूटिंग के वक्त हुई पार्टी में क्या हुआ था? कौन सा बड़ा निर्माता-निर्देशक ड्रग्स पार्टी के लिए अपनी विला देता है? कौन सा स्टार पत्नी के साथ मिल ड्रग्स का धंधा करता है? जानें सब कुछ।

व्यंग्य: दीपिका के NCB पूछताछ की वीडियो हुई लीक, ऑपइंडिया ने पूरी ट्रांसक्रिप्ट कर दी पब्लिक

"अरे सर! कुछ ले-दे कर सेटल करो न सर। आपको तो पता ही है कि ये सब तो चलता ही है सर!" - दीपिका के साथ चोली-प्लाज्जो पहन कर आए रणवीर ने...

आजतक के कैमरे से नहीं बच पाएगी दीपिका: रिपब्लिक को ज्ञान दे राजदीप के इंडिया टुडे पर वही ‘सनसनी’

'आजतक' का एक पत्रकार कहता दिखता है, "हमारे कैमरों से नहीं बच पाएँगी दीपिका पादुकोण"। इसके बाद वह उनके फेस मास्क से लेकर कपड़ों तक पर टिप्पणी करने लगा।

गैंगस्टर फिरोज अली की मौत, गाय को बचाने में UP पुलिस की गाड़ी पलटी: टोयोटा इनोवा से मुंबई से लखनऊ लाया जा रहा था

सभी घायलों का इलाज राजगढ़ अस्पताल में चल रहा है। आरोपित फिरोज अली को मुंबई से लखनऊ लाने के लिए ठाकुरगंज थाने की पुलिस को भेजा गया था।

‘केस वापस ले, वरना ठोक देंगे’: करण जौहर की ‘ड्रग्स पार्टी’ की शिकायत करने वाले सिरसा को पाकिस्तान से धमकी

करण जौहर के घर पर ड्रग्स पार्टी होने का दावा करने वाले सिरसा को पाकिस्तान से जान से मारने की धमकी मिली है।

तिलक लगा, भगवा पहन एंकरिंग करना अपराध है? सुदर्शन न्यूज ने केंद्र के शो-कॉज नोटिस का दिया जवाब

‘यूपीएससी जिहाद’ कार्यक्रम को लेकर सूचना प्रसारण मंत्रालय की ओर से जारी शो-कॉज नोटिस का सुदर्शन न्यूज ने जवाब दे दिया है।

16 दिसंबर को बस फूँका, 17 को हिंदुओं पर पथराव: दिल्ली दंगों में ताहिर हुसैन के बयान से नए खुलासे

ताहिर हुसैन के बयान से दिल्ली के हिंदू विरोधी दंगों को लेकर कुछ चौंकाने वाले खुलासे हुए हैं। कुछ ऐसे तथ्य सामने आए हैं जिससे अब तक सब अनजान थे।

सुब्हानी हाजा ने इराक में IS से ली जिहादी ट्रेनिंग, केरल में जमा किए रासायनिक विस्फोटक: NIA कोर्ट ने सुनाई उम्रकैद

केरल के कोच्चि स्थित एनआईए की विशेष अदालत ने सोमवार को ISIS आतंकी सुब्हानी हाजा मोइदीन को उम्रकैद की सज़ा सुनाई।

‘हाँ, मैंने माल के बारे में पूछा, हम सिगरेट को माल कहते हैं; वीड मतलब मोटी सिगरेट-हैश मतलब पतली’

मीडिया रिपोर्ट में बताया गया है कि एनसीबी के सामने पूछताछ में दीपिका पादुकोण ने कहा कि 'माल' सिगरेट का कोड वर्ड है।

दीपिका, सारा, श्रद्धा और रकुल… सबने NCB को दिए एक जैसे जवाब, बताया- हैश ड्रग नहीं है

दीपिका, सारा, श्रद्धा और रकुल से एनसीबी ने पूछताछ भले अलग-अलग की हो, पर दिलचस्प यह है कि सवालों जवाब सबके एक जैसे ही थे।

मथुरा: श्रीकृष्ण जन्मभूमि मुक्ति को लेकर दाखिल याचिका पर 30 सितंबर को सुनवाई

मथुरा श्रीकृष्ण जन्मभूमि के मालिकाना हक को लेकर दाखिल याचिका पर सीनियर सिविल जज छाया शर्मा की अदालत ने सुनवाई के लिए 30 सितंबर की तारीख निर्धारित की है।

कहीं देवी-देवताओं की मूर्ति पर हथौड़े से वार, कहीं आग में जलता रथ: आंध्र प्रदेश में मंदिरों पर हुए हालिया हमले

पिछले कुछ समय से लगातार आंध्र प्रदेश में हिंदू मंदिरों पर हमले की घटनाएँ सामने आ रही हैं। ऐसे 5 मामलों में क्या हुआ, जानें।

‘अनुराग कश्यप को जेल भेजो’: गिरफ्तारी के लिए मुंबई पुलिस को आठवले ने दिया 7 दिन का अल्टीमेटम

पायल घोष का समर्थन करते हुए रामदास आठवले ने कहा है कि यदि अनुराग कश्यप की सात दिनों में गिरफ्तारी नहीं हुई तो वे धरने पर बैठेंगे।

गायत्री मंत्र जपते थे भगत सिंह, आर्य समाजी था परिवार, सावरकर के थे प्रशंसक: स्वीकार करेंगे आज के वामपंथी?

भगत सिंह का वामपंथ टुकड़े-टुकड़े वाला नहीं था। न ही उन्होंने कभी ऐसा लिखा कि वे हिन्दू धर्म को नहीं मानते या फिर वे हिन्दू देवी-देवताओं से घृणा करते हैं।

हमसे जुड़ें

264,935FansLike
78,069FollowersFollow
325,000SubscribersSubscribe