Monday, May 25, 2020
होम विचार सामाजिक मुद्दे नमाज पढ़ने के लिए भी जीवित रहना जरूरी: जो CAA-NRC फेसबुक पोस्ट से समझ...

नमाज पढ़ने के लिए भी जीवित रहना जरूरी: जो CAA-NRC फेसबुक पोस्ट से समझ गए, उन्हें मोदी की अपील नहीं समझ आ रही

यदि यही डॉक्टर, जो बिना अपनी जान की परवाह किए लोगों की जाँच के लिए उनके पीछे भाग रहे हैं, आज ही इस बर्ताव से नाराज होकर काम करने से मना कर दें तो पूरे भारत को इटली और चीन बनते कितना टाइम लगेगा?

ये भी पढ़ें

आशीष नौटियाल
पहाड़ी By Birth, PUN-डित By choice

तमाम देश हैरान हैं। अमेरिका, इजराइल, ब्रिटेन, जैसी शक्तियाँ भी कोरोना वायरस की महामारी के सामने नतमस्तक हैं। लेकिन एक खास समुदाय है, जो स्वयं को इस वायरस से अजेय समझते हुए चल रहा है। अगर ऐसा ना होता तो भारत में कोरोना वायरस के संक्रमण का ग्राफ अचानक से इस तरह उछाल भी नहीं मारता।

दिलचस्प बात यह है कि इस समुदाय विशेष ने नागरिकता कानून, राष्ट्रीय नागरिकता रजिस्टर आदि चीजें महज चंद फेसबुक और ट्विटर पोस्ट से समझकर इसके खिलाफ देशव्यापी धरने का हल्ला बोल दिया था। संविधान, शासन, व्यवस्था, सत्ता सबको नकारते हुए इस विशेष वर्ग ने दिल्ली ही नहीं बल्कि पूरे देशभर में उत्पात मचाए रखा। और ऐसा करने के लिए उन्हें सत्ता विरोधियों का बस एक इशारा ही काफी था।

लोग हैरान रह गए कि जिस नागरिकता कानून को समझने में बड़े-बड़े राजनीतिशास्त्री, कानून के ज्ञाता और कानून निर्माताओं ने अच्छा-खासा समय लगा दिया, आखिर उसे शाहीनबाग़ में बैठी बिरियानी के साथ अचार माँगने वाली 75 साल की बुजुर्ग महिलाओं ने बस एक झटके में कैसे समझ लिया?

- विज्ञापन - - लेख आगे पढ़ें -

फिर भी, कुणाल कामरा, अनुराग कश्यप, स्वरा भास्कर के ट्वीट पढ़कर नागरिकता कानून की बारीकियाँ समझ लेने की इस अनोखी क्षमता के आगे देश तीन महीने से ज्यादा समय तक नतमस्तक रहा। लेकिन सवाल यह है कि इस उन्नत IQ क्षमता के लोगों को प्रधानमंत्री मोदी की मात्र 21 दिन तक अपने-अपने घर पर रहने की यह अपील समझने में आखिर इतनी मशक्कत क्यों करनी पड़ रही है?

21 दिनों के देशव्यापी लॉकडाउन के बावजूद मुस्लिम समुदाय निरंतर नमाज पढ़ने से लेकर अपनी सामान्य दिनचर्या में नजर आ रहा है। इसी बीच दिल्ली में तबलीगी जमात के मरकज की सबसे बड़ी नौटंकी का दृश्य भी सामने आ गया। लेकिन मुस्लिम समुदाय अभी तक अपनी हठ पर नजर आ रहा है। मौलवी ही लोगों को नमाज अदा करने लिए मस्जिद में एकत्रित होने और 21 दिन के लॉकडाउन के नियमों को तोड़ने के लिए लोगों को भड़काते हुए नजर आ रहे हैं।

होली के दौरान जब देश के राष्ट्रपति और प्रधानमंत्री ने लोगों से अनावश्यक रूप से बाहर ना निकलने जैसी अपील की थी, उसके ठीक बाद कुछ वीडियो सामने आए। नमाज के लिए जुटी हुई भीड़ से टीवी एंकर यह सवाल करते हुए देखे गए कि क्या उन्हें डर नहीं लगता वायरस के संक्रमण से? इसके जवाब में कई प्रकार के मजहबी कारण, जो कि निसंदेह बेहद बेवकूफाना थे, सुनने को मिले। कुछ नमाजियों ने कोरोना को अल्लाह का अजाब बताया, जिसे आज नहीं तो कल आना ही था, तो कुछ ने कहा कि यह ताबीज पहनने से भाग जाएगा। यहाँ तक कि शाहीनबाग के बुद्धिजीवी वर्ग ने भी कोरोना पर अपनी राय रखते हुए कहा कि मौत तो एक न एक दिन आनी ही है।

लेकिन कोरोना के बढ़ते हुए मामलों के साथ मजहब का सबसे वाहियात चेहरा अब सामने आ रहा है। इंदौर जैसी घटनाएँ लगातार सामने आ रही हैं। संवेदनशील इलाकों में डॉक्टर और पुलिसकर्मियों पर थूका जा रहा है। तबलीगी जमात के क़्वारंटाइन किए गए लोग अधिकारी और डॉक्टर्स पर थूक रहे हैं, उनसे बदसलूकी कर रहे हैं। आइसोलेशन के दौरान लजीज पकवान की शिफारिश कर तंत्र की कार्यशैली में बाधा डाल रहे हैं।

- विज्ञापन - - लेख आगे पढ़ें -

सोचिए, यदि यही डॉक्टर, जो बिना अपनी जान की परवाह किए लोगों की जाँच के लिए उनके पीछे भाग रहे हैं, आज ही इस बर्ताव से नाराज होकर काम करने से मना कर दें तो पूरे भारत को इटली और चीन बनते कितना टाइम लगेगा?

कोरोना वायरस किसी का मजहब नहीं देखता है, यह एकदम सेक्युलर प्रकृति का वायरस है। लोगों पर थूककर यदि यह वायरस सिर्फ एक धर्म के लिए संकट खड़ा करता, तब भी इन नमाजियों का तर्क समझा जा सकता था लेकिन यह वायरस हर प्रकार की सीमा से परे है। यह जितना जानलेवा ‘काफिरों’के लिए हो सकता है, उतना ही नमाजियों के लिए भी है।

वायरस के प्रकोप की गंभीरता यदि इटली, स्पेन और अमेरिका जैसे देशों में बढ़ती हुई लाशों की संख्या देखकर भी समझ नहीं आती है, तो भारत सरकार को फिलीपींस के राष्ट्रपति का बयान चप्पे-चप्पे पर चिपका देना चाहिए। फिलीपींस के राष्ट्रपति रॉड्रिगो दुतेर्ते (Rodrigo Duterte) ने ऐलान किया है कि देश में अगर कोई व्यक्ति लॉकडाउन का उल्लंघन करेगा तो उसे गोली मार दी जाएगी।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को भी चाहिए कि 21 दिनों के लॉकडाउन की अपील को हाथ जोड़कर स्पेनिश भाषा में बोलने के बजाए फिलीपींस के राष्ट्रपति की भाषा में बोलना चाहिए। शायद यही एक तरीका है कि लोग लॉकडाउन के महत्व को समझें और स्वविवेक से फैसला ले सकें कि नमाज भी नामजियों से ही है, और उसे पढ़ने के लिए कोरोना वायरस से जीवित रहना जरूरी है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ख़ास ख़बरें

आशीष नौटियाल
पहाड़ी By Birth, PUN-डित By choice

‘दोबारा कहूँगा, राजीव गाँधी हत्यारा था’ – छत्तीसगढ़ में दर्ज FIR के बाद भी तजिंदर बग्गा ने झुकने से किया इनकार

तजिंदर पाल सिंह बग्गा के खिलाफ FIR हुई है। इसके बाद बग्गा ने राजीव गाँधी को दोबारा हत्यारा बताया और कॉन्ग्रेस के सामने झुकने से इनकार...

पिंजरा तोड़ की दोनों सदस्य जमानत पर बाहर आईं, दिल्ली पुलिस ने फिर कर लिया गिरफ्तार: इस बार हत्या का है मामला

हिंदू विरोधी दंगों को भड़काने के आरोप में पिंजरा तोड़ की देवांगना कालिता और नताशा नरवाल को दिल्ली पुलिस ने फिर गिरफ्तार कर...

जिन लोगों ने राम को भुलाया, आज वे न घर के हैं और न घाट के: मीडिया संग वेबिनार में CM योगी

"हमारे लिए राम और रोटी दोनों महत्वपूर्ण हैं। राज्य सरकार ने इस कार्य को बखूबी निभाया है। जिन लोगों ने राम को भुलाया है, वे घर के हैं न घाट के।"

Covid-19: 24 घंटों में 6767 संक्रमित, 147 की मौत, देश में लगातार दूसरे दिन कोरोना के रिकॉर्ड मामले सामने आए

इस समय देश में संक्रमितों की संख्या 1,31,868 हो चुकी है। अब तक 3867 लोगों की मौत हुई है। 54,440 लोग ठीक हो चुके हैं।

केजरीवाल सरकार जो बता रही उससे तीन गुना ज्यादा दिल्ली में कोरोना से मरे: MCD नेताओं ने आँकड़े छिपाने का लगाया आरोप

"MCD के आँकड़े मिला दिए जाए तो 21 मई तक कोरोना से दिल्ली में 591 मौतें हो चुकी थी। यह दिल्ली सरकार के आँकड़ों का तीन गुना है।"

हम सब डरे हैं, MLA झूठी शिकायत करती हैं: विष्णुदत्त विश्नोई की आत्महत्या के बाद पूरे थाने ने माँगा ट्रांसफर

विष्णुदत्त विश्नोई की आत्महत्या के बाद राजगढ़ थाने में तैनात पुलिसकर्मियों ने बीकानेर आईजी को पत्र लिखकर सामूहिक ताबदले की गुहार लगाई है।

प्रचलित ख़बरें

गोरखपुर में चौथी के बच्चों ने पढ़ा- पाकिस्तान हमारी प्रिय मातृभूमि है, पढ़ाने वाली हैं शादाब खानम

गोरखपुर के एक स्कूल के बच्चों की ऑनलाइन पढ़ाई के लिए बने व्हाट्सएप ग्रुप में शादाब खानम ने संज्ञा समझाते-समझाते पाकिस्तान प्रेम का पाठ पढ़ा डाला।

‘न्यूजलॉन्ड्री! तुम पत्रकारिता का सबसे गिरा स्वरुप हो’ कोरोना संक्रमित को फ़ोन कर सुधीर चौधरी के विरोध में कहने को विवश कर रहा NL

जी न्यूज़ के स्टाफ ने खुलासा किया है कि फर्जी ख़बरें चलाने वाले 'न्यूजलॉन्ड्री' के लोग उन्हें लगातार फ़ोन और व्हाट्सऐप पर सुधीर चौधरी के खिलाफ बयान देने के लिए विवश कर रहे हैं।

रवीश ने 2 दिन में शेयर किए 2 फेक न्यूज! एक के लिए कहा: इसे हिन्दी के लाखों पाठकों तक पहुँचा दें

NDTV के पत्रकार रवीश कुमार ने 2 दिन में फेसबुक पर दो बार फेक न्यूज़ शेयर किया। दोनों ही बार फैक्ट-चेक होने के कारण उनकी पोल खुल गई। फिर भी...

राजस्थान के ‘सबसे जाँबाज’ SHO विष्णुदत्त विश्नोई की आत्महत्या: एथलीट से कॉन्ग्रेस MLA बनी कृष्णा पूनिया पर उठी उँगली

विष्णुदत्त विश्नोई दबंग अफसर माने जाते थे। उनके वायरल चैट और सुसाइड नोट के बाद कॉन्ग्रेस विधायक कृष्णा पूनिया पर सवाल उठ रहे हैं।

तब भंवरी बनी थी मुसीबत का फंदा, अब विष्णुदत्त विश्नोई सुसाइड केस में उलझी राजस्थान की कॉन्ग्रेस सरकार

जिस अफसर की पोस्टिंग ही पब्लिक डिमांड पर होती रही हो उसकी आत्महत्या पर सवाल उठने लाजिमी हैं। इन सवालों की छाया सीधे गहलोत सरकार पर है।

हमसे जुड़ें

206,713FansLike
60,071FollowersFollow
241,000SubscribersSubscribe
Advertisements