Tuesday, July 16, 2024
Homeराजनीतिपिता के नक्शेकदम पर अभिषेक बच्चन, प्रयागराज से सपा के टिकट पर लड़ेंगे चुनाव?...

पिता के नक्शेकदम पर अभिषेक बच्चन, प्रयागराज से सपा के टिकट पर लड़ेंगे चुनाव? – पार्टी ने किया खंडन, अभिनेता ने कहा – पता नहीं कहाँ से आईं ये बातें

सपा के मीडिया सेल ने कहा है कि प्रयागराज से पार्टी बहुगुणा परिवार के ही किसी सदस्य को पार्टी सिंबल पर लड़ाने का विचार कर रही है।

कुछ दिनों से मीडिया में खबर चलाई जा रही थी कि अभिनेता अभिषेक बच्चन को समाजवादी पार्टी प्रयागराज लोकसभा क्षेत्र से 2024 में चुनावी मैदान में उतार सकती है। कहा जा रहा था कि इसके लिए कार्यकर्ताओं से फीडबैक भी लेना शुरू कर दिया गया है। अभिषेक बच्चन की माँ सपा से ही लगातार चौथी बार राज्यसभा सांसद बनी हैं, ऐसे में लोग जानना चाह रहे थे कि सच क्या है। अब पार्टी और अभिनेता, दोनों ने ही इन अटकलों का पूरी तरह से खंडन किया है।

समाजवादी पार्टी के मीडिया सेल ने इन अटकलों पर सफाई देते हुए कहा है, “सपा के पास बहुत से मजबूत दावेदारों की लंबी लाइन लगी हुई है। प्रयागराज से सपा बहुगुणा परिवार के ही किसी सदस्य को पार्टी सिंबल पर लड़ाने का विचार कर रही है। पूरे यूपी में BJP के सामने मजबूत प्रत्याशी उतारे जाएँगे ,सपा की मजबूती के कारण तमाम BJP नेतागण भी सपा से से टिकट के दावेदार हैं।” बता दें कि प्रयागराज की सीट पर फ़िलहाल भाजपा का कब्ज़ा है और रीता बहुगुणा जोशी सांसद हैं।

वहीं Koimoi से बात करते हुए अभिषेक बच्चन ने भी इन अटकलों पर हैरानी जताई है। फ़िलहाल विदेश में छुट्टियाँ मना रहे अभिषेक बच्चन ने कहा कि उन्हें इसका कोई आईडिया नहीं है कि ये बातें कहाँ से निकल कर सामने आई हैं। कुछ दिनों पहले भी एक इंटरव्यू में उन्होंने साफ़ किया था कि वो एक अभिनेता हैं, राजनेता नहीं। उन्होंने कहा था कि उन्हें राजनीति समझ नहीं आती है, लेकिन आशा है कि आने वाले दिनों में वो अभिनय को और अच्छे से समझ पाएँगे।

याद दिला दें कि अभिताभ बच्चन ने भी 1984 में जब वो अपने स्टारडम के शिखर पर थे, तब उन्होंने राजीव गाँधी के कहने पर कॉन्ग्रेस के टिकट पर इलाहाबाद लोकसभा क्षेत्र से चुनाव लड़ा था। उन्होंने रीता बहुगुणा जोशी के पिता ‘लोक दल’ के हेमवंती नंदन बहुगुणा को हराया था, जो यूपी के सीएम भी रह चुके थे। उस दौर में अभिताभ बच्चन ने 2.97 लाख वोट लाकर इतिहास रच दिया था। लेकिन, बोफोर्स घोटाले में नाम आने के बाद उन्हें राजनीति छोड़नी पड़ी थी। उन्होंने इस्तीफा दे दिया था।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

जिस भोजशाला को मुस्लिम कहते हैं कमाल मौलाना मस्जिद, वह मंदिर ही है: ASI ने हाई कोर्ट को बताया- मंदिरों के हिस्से पर बने...

मध्य प्रदेश हाई कोर्ट को सौंपी गई रिपोर्ट में ASI ने कहा है कि भोजशाला का वर्तमान परिसर यहाँ पहले मौजूद मंदिर के अवशेषों से बनाया गया था।

भारतवंशी पत्नी, हिंदू पंडित ने करवाई शादी: कौन हैं JD वेंस जिन्हें डोनाल्ड ट्रम्प ने चुना अपना उपराष्ट्रपति उम्मीदवार, हमले के बाद पूर्व अमेरिकी...

पूर्व राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प को रिपब्लिकन पार्टी के नेशनल कंवेंशन में राष्ट्रपति और सीनेटर JD वेंस को उपराष्ट्रपति उम्मीदवार चुना है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -