Thursday, July 18, 2024
Homeराजनीति'हमलोग अपने भगवान से मिले और आशीर्वाद देने का आग्रह किया': अचानक शरद पवार...

‘हमलोग अपने भगवान से मिले और आशीर्वाद देने का आग्रह किया’: अचानक शरद पवार से मिलने पहुँचे अजित समेत NCP के बागी नेता, बताया – उन्होंने सिर्फ सुना, कुछ कहा नहीं

उन्होंने कहा कि हम सब नेताओं ने शरद पवार के समक्ष इच्छा जताई कि NCP मजबूती से काम करे। इन नेताओं ने शरद पवार से आग्रह किया कि वो इस दिशा में विचार करें।

महाराष्ट्र की राजनीति लगातार दिलचस्प होती जा रही है। NCP के दो फाड़ होने के बाद अब अजित पवार अपने चाचा शरद राव पवार से मिलने पहुँचे। इतना ही नहीं, उनके साथ वो बागी विधायक भी थे जिन्होंने NCP के 2 फाड़ करने में उनकी मदद की। अजित पवार ने कई विधायकों-सांसदों के साथ NDA सरकार को समर्थन करने का फैसला लिया था, जिसके बाद वो राज्य के उप-मुख्यमंत्री बने। उन्हें वित्त मंत्रालय भी दिया गया। शरद पवार द्वारा अपनी बेटी सुप्रिया सुले को पार्टी का कार्यकारी अध्यक्ष बनाए जाने के बाद ये प्रकरण हुआ।

हाल ही में अजित पवार अपने चाचा के घर पहुँचे थे। बताया गया था कि बीमार चाची को देखने के लिए वो गए हैं। अब महाराष्ट्र के YB चव्हाण सेंटर में उन्होंने वरिष्ठ नेताओं सांसद प्रफुल्ल पटेल और मंत्री छगन भुजबल के साथ शरद पवार से मुलाकात की। प्रफुल्ल पटेल ने इसके बाद कहा कि आज हम सब अपने नेता से मिलने आए हैं और हमने उनसे आशीर्वाद माँगा। उन्होंने कहा कि हमने इच्छा जताई कि ‘राष्ट्रवादी कॉन्ग्रेस पार्टी’ एकजुट रहे और मिलजुल कर सभी नेता काम करें।

उन्होंने कहा कि हम सब नेताओं ने शरद पवार के समक्ष इच्छा जताई कि NCP मजबूती से काम करे। इन नेताओं ने शरद पवार से आग्रह किया कि वो इस दिशा में विचार करें। प्रफुल्ल पटेल ने बताया कि शरद पवार ने उन सबकी बातों को ध्यान से सुना, लेकिन कोई प्रतिक्रिया नहीं दी। प्रफुल पटेल ने कहा कि हम सबकी नजर इस पर है कि शरद पवार क्या भूमिका निभाएँगे। विधानसभा के मॉनसून सत्र से पहले अजित पवार गुट के मंत्रियों मंत्रियों की बैठक भी उप-मुख्यमंत्री के आवास पर ही हुई।

प्रफुल्ल पटेल ने बताया कि इसी बैठक के दौरान उन्हें शरद पवार के YB चव्हाण सेंटर में उपस्थित होने की सूचना मिली थी, जिसके बाद वो उन्हें सूचित किए बिना यहाँ पहुँचे और उन्हें प्रणाम कर के आशीर्वाद लिया। उन्होंने शरद पवार को अपना भगवान भी बताया। 5 जुलाई को शरद पवार की बैठक में शामिल न होने वाले विधायकों को नोटिस जारी किया गया है। उस दिन ये सभी नेता अजित पवार की बैठक में मौजूद थे। 1999 में स्थापित NCP के 40 विधायकों ने अजित पवार का समर्थन किया है।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

साथियों ने हाथ-पाँव पकड़ा, काज़िम अंसारी ने ताबतोड़ घोंपा चाकू… धराया VIP अध्यक्ष मुकेश सहनी के पिता का हत्यारा, रात के डेढ़ बजे घर...

घटना की रात काज़िम अंसारी ने 10-11 बजे के बीच रेकी भी की थी जो CCTV में कैद है। रात के करीब डेढ़ बजे ये लोग पीछे के दरवाजे से घर में घुसे।

प्राइवेट नौकरियों में 75% आरक्षण वाले बिल पर कॉन्ग्रेस सरकार का U-टर्न, वापस लिया फैसला: IT कंपनियों ने दी थी कर्नाटक छोड़ने की धमकी

सिद्धारमैया के फैसले का भारी विरोध भी हो रहा था, जिसकी वजह से कॉन्ग्रेसी सरकार बुरी तरह से घिर गई थी। यही नहीं, इस फैसले की जानकारी देने वाले ट्वीट को भी मुख्यमंत्री को डिलीट करना पड़ा था।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -