Saturday, July 13, 2024
Homeराजनीतिफिक्स थी शरद पवार के इस्तीफे पर नौटंकी, अजित का खुलासा- सरकार में शामिल...

फिक्स थी शरद पवार के इस्तीफे पर नौटंकी, अजित का खुलासा- सरकार में शामिल होने को कहा था, सुप्रिया को भी सब पता था

शरद पवार की पार्टी NCP में बगावत को लेकर अजित पवार ने कहा कि शरद पवार खुद ही NCP के अध्यक्ष पद से इस्तीफा देना चाहते थे और उन्हें सत्ता के साथ जाने के लिए कहा था। अजित पवार ने कहा कि सुप्रिया सुले को सब पता था।

शरद पवार की पार्टी NCP में बगावत करके भाजपा की अगुवाई वाली NDA में शामिल होकर महाराष्ट्र के उपमुख्यमंत्री बनने वाले अजित पवार ने चौंकाने वाला खुलासा किया है। उन्होंने कहा कि शरद पवार खुद ही NCP के अध्यक्ष पद से इस्तीफा देना चाहते थे और उन्हें सत्ता के साथ जाने के लिए कहा था। अजित पवार ने कहा कि सुप्रिया सुले को सब पता था।

अजित ने शुक्रवार (1 दिसंबर 2023) को रायगढ़ में आयोजित NCP के अधिवेशन में उन्होंने कहा कि शरद पवार ने खुद लगातार अपनी भूमिका बदली। अजित पवार ने कहा कि शरद पवार ने मई में पार्टी प्रमुख पद से इस्तीफे की घोषणा की थी। उस समय कुछ नेताओं को उनके फैसले को रद्द करने की माँग करते हुए विरोध प्रदर्शन के लिए कहा गया था।

अजित पवार ने यह भी बताया कि प्रफुल्ल पटेल, छगन भुजबल, सुनील तटकरे, जयंत पाटिल, अनिल देशमुख जैसे 10-12 लोग देवगिरी में बैठे थे। उन्होंने कहा, “हम सोच रहे थे कि आगे क्या करें, फिर हमने सुप्रिया को बुलाया। क्योंकि, हमें लग रहा था कि अगर सीधा शरद पवार को बताया तो वह क्या सोचेंगे। इसलिए पहले सुप्रिया को सब कुछ बताया।”

अजित पवार के अनुसार, तब सुप्रिया ने 8-10 दिन का वक्त माँगा था और कहा था कि ये उन पर छोड़ दीजिए कि करना क्या है। सुप्रिया ने कहा था कि वह शरद पवार को मना लेंगी। इसके बाद अजित समेत बाकी नेताओं ने 8 दिन इंतजार किया। फिर साथ बैठकर फैसला किया कि हमें ही साहब (शरद पवार) से बात करनी चाहिए।”

अजित पवार ने आगे बताया कि इसके बाद वे सीधा शरद पवार के पास गए और अपना फैसला सुना दिया। इसके बाद शरद ने कहा था कि ‘ठीक है, देखते हैं क्या करना है।’ अजित पवार ने कहा कि इसके बाद 1 मई को ध्वज सलामी इवेंट के दौरान शरद पवार ने उन्हें फोन किया और सरकार में शामिल होने के लिए कहा था और बताया था कि वे NCP अध्यक्ष पद से इस्तीफा दे रहे हैं।

अजित पवार ने कहा कि शरद पवार इस्तीफा देंगे यह बात किसी को नहीं पता थी। ये बात घर के सिर्फ चार लोग ही जानते थे। उनके इस्तीफा देने के बाद 15 सदस्यों की एक कमेटी बनाई गई और कमेटी ने अध्यक्ष चुनने को कहा था। इसके बाद 2 मई को शरद पवार ने जब इस्तीफा दे दिया तो हर कोई हैरान रह गया।

अजित पवार ने आगे कहा, “बाद में परांजपे मेरे पास आए और मैंने उनसे पूछा कि आप यह नौटंकी क्यों कर रहे हैं। मेरा मानना था कि इसकी जरूरत नहीं थी। मैंने उनसे (शरद पवार) इस्तीफा नहीं मांगा था।”

अजित पवार ने NCP के तत्कालीन अध्यक्ष को लेकर बताया कि इस्तीफा देने के बाद शरद पवार घर चले गए। इस्तीफा देने के बाद वह आनंद परांजपे और जीतेंद्र आव्हाड को बुलाया और उन्हें इस्तीफा वापस लेने के लिए यशवंतराव सेंटर के सामने प्रदर्शन करने कहा। इसके बाद उनके इस्तीफे को लेकर पार्टी में खूब बवाल हुआ था।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘आपातकाल तो उत्तर भारत का मुद्दा है, दक्षिण में तो इंदिरा गाँधी जीत गई थीं’: राजदीप सरदेसाई ने ‘संविधान की हत्या’ को ठहराया जायज

सरदेसाई ने कहा कि आपातकाल के काले दौर में पूरे देश पर अत्याचार करने के बाद भी कॉन्ग्रेस चुनावों में विजयी हुई, जिसका मतलब है कि लोग आगे बढ़ चुके हैं।

तिब्बत को संरक्षण देने के लिए अमेरिका ने बनाया कानून, चीन से दो टूक – दलाई लामा से बात करो: जानिए क्या है उस...

14वें दलाई लामा 1959 में तिब्बत से भागकर भारत आ गये, जहाँ उन्होंने हिमाचल प्रदेश के धर्मशाला में निर्वासित सरकार स्थापित की थी।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -