Sunday, July 14, 2024
Homeराजनीति'नूरपुर में नमाज होगी लेकिन हिन्दुओं की बारात नहीं निकलेगी': AIMIM नेता सैयद नाजिम...

‘नूरपुर में नमाज होगी लेकिन हिन्दुओं की बारात नहीं निकलेगी’: AIMIM नेता सैयद नाजिम अली की धमकी

"मैं उन्हें ये कहना चाहता हूँ कि नूरपुर में नमाज तो हो के रहेगी, कोई हमें रोक नहीं सकता है। हाँ वहाँ से बिना हमारी इजाजत के बारात नहीं निकलेगी। आप ईंट, पत्थर, गोली या चाहे जो ले आओ।"

उत्तर प्रदेश में अलीगढ़ के टप्पल के नूरपुर गाँव में 150 हिंदू परिवारों के पलायन की खबर के बाद अब AIMIM ओवैसी की यूथ ब्रिगेड के प्रदेश अध्यक्ष सैयद नाजिम अली ने धमकी देते हुए कहा है कि नूरपुर में नमाज तो होगी, लेकिन हिंदुओं को वहाँ बारात नहीं निकालने दिया जाएगा।

नाजिम अली ने नूरपुर के हालात के लिए प्रशासन को ही दोषी ठहराया है। एआईएमआईएम नेता ने बीजेपी पर नफरत फैलाने का आरोप लगाते हुए कहा कि ये नफरत की आग है और इसके लिए अलीगढ़ के सांसद और मेयर जिम्मेदार हैं।

अगर ये वाकई में खुद के हिंदू होने का दावा करते हैं तो ये उन्नाव जाएँ, जहाँ शवों को जलाने के लिए लकड़ियाँ नहीं मिलने पर लाशों को गंगा में फेंका जा रहा है।

इसके साथ ही एमआईएमआईएम नेता ने कहा कि भाजपा की शकुंतला देवी कहती हैं, “नूरपुर से बारात नहीं निकलने दिया तो हम ईंट से ईंट बजा देंगे। मैं उन्हें ये कहना चाहता हूँ कि नूरपुर में नमाज तो हो के रहेगी, कोई हमें रोक नहीं सकता है। हाँ वहाँ से बिना हमारी इजाजत के बारात नहीं निकलेगी। आप ईंट, पत्थर, गोली या चाहे जो ले आओ।”

https://m.facebook.com/story.php?story_fbid=528630205184980&id=100041140151926

नाजिम अली ने आगे कहा, “मैं ये कहता हूँ कि देश संविधान से चलेगा, किसी के अल्फाजों से नहीं। नूरपुर से बारात निकालने के लिए हमारी परमीशन इन्हें लेनी ही होगी। अन्यथा शकुंतला नहीं भाजपा के जितने भी नेता हैं सभी आ जाएँ और वहाँ बारात निकाल कर दिखाएँ।”

नूरपुर से मुसलमानों के अत्याचार से हिंदू परिवार पलायन करने के लिए मजबूर हैं। बावजूद इसके एआईएमआईएम नेता मुस्लिमों पर अत्याचार का दावा कर रहे हैं।

क्या है मामला

टप्पल थाना क्षेत्र के अंतर्गत आने वाला नूरपुर गाँव मुस्लिम बहुल है। एक रिपोर्ट के मुताबिक गाँव में लगभग 800 मुस्लिम परिवार रहते हैं। हिन्दुओं के 125 परिवार हैं, जिनमें अधिकतर आबादी जाटव समाज (अनुसूचित जाति) की है।

26 मई 2021 को एक दलित घर में दो बेटियों की एक साथ बारात जा रही थी। आरोप है कि बारात लाते वक्त बीच में मस्जिद पड़ी। वहाँ मुस्लिम समुदाय से जुड़े कुछ लोगों ने बारातियों के साथ मारपीट शुरू कर दी। बारातियों से कहा कि अगर बारात ले जाना है तो मस्जिद से पैदल ही जाना होगा। इस पर बारात वापस लौट गई। घटना के बाद से नूरपुर में रहने वाले 150 हिंदू परिवारों ने अपने घर बेचकर पलायन का ऐलान कर दिया। इन लोगों ने अपने घर के बाहर ‘मकान बिकाऊ है’ का बोर्ड भी लगा दिया था।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

NITI आयोग की रिपोर्ट में टॉप पर उत्तराखंड, यूपी ने भी लगाई बड़ी छलाँग: 9 साल में 24 करोड़ भारतीय गरीबी से बाहर निकले

NITI आयोग ने सस्टेनेबल डेवलपमेंट गोल्स (SDG) इंडेक्स 2023-24 जारी की है। देश में विकास का स्तर बताने वाली इस रिपोर्ट में उत्तराखंड टॉप पर है।

लैंड जिहाद की जिस ‘मासूमियत’ को देख आगे बढ़ जाते हैं हम, उससे रोज लड़ते हैं प्रीत सिंह सिरोही: दिल्ली को 2000+ मजार-मस्जिद जैसी...

प्रीत सिरोही का कहना है कि वह इन अवैध इमारतों को खाली करवाएँगे। इन खाली हुई जमीनों पर वह स्कूल और अस्पताल बनाने का प्रयास करेंगे।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -