Sunday, July 14, 2024
Homeराजनीतिएक तरफ 'जल, जीवन हरियाली मिशन', दूसरी तरफ CM नीतीश के कार्यक्रम के लिए...

एक तरफ ‘जल, जीवन हरियाली मिशन’, दूसरी तरफ CM नीतीश के कार्यक्रम के लिए उजाड़ दिया पूरा उद्यान: जमुई में उद्घाटन के अगले ही दिन बंद हो गई थी स्मार्ट क्लास

2016-17 में ब्लॉक परिसर को पार्क जैसा बना दिया गया था। प्रखंड को पार्क की तरह सजाने में सदर बीडीओ रविशंकर कुमार ने अहम भूमिका निभाई थी। अब सब उजड़ चुका है।

बिहार के मुख्यमंत्री समाधान यात्रा पर हैं। 16 फरवरी, 2023 को सीएम नीतीश कुमार बेगूसराय पहुँचने वाले हैं। जिले भर में कई जगहों पर उनका कार्यक्रम होना है। उनमें से एक कार्यक्रम स्थल है बेगूसराय सदर प्रखंड। सदर प्रखंड परिसर में सीएम नीतीश के कार्यक्रम का पंडाल सजाने के लिए कई पेड़ काट दिए गए हैं।

सीएम नीतीश कुमार खुद जल-जीवन-हरियाली अभियान चला रहे हैं ऐसे में उन्हीं के कार्यक्रम के लिए हरियाली नष्ट कर दी गई। दैनिक भास्कर की रिपोर्ट के मुताबिक, 16 फरवरी को नीतीश कुमार के दौरे से पहले ब्लॉक अफिस परिसर में लगाए गए लगभग 10 पेड़ों को काट डाला गया। बताया जा रहा है कि पंडाल बनाने के लिए जिस स्थान को मैदान बनाया गया है वहाँ आम और पुराने पीपल के पेड़ थे। रिपोर्ट के मुताबिक ब्लॉक ऑफिस परिसर में पेड़ों की छाया में बैठने के लिए चबूतरों और उनकी सिंचाई के लिए नल भी लगवाए गए थे।

2016-17 में ब्लॉक परिसर को पार्क जैसा बना दिया गया था। प्रखंड को पार्क की तरह सजाने में सदर बीडीओ रविशंकर कुमार ने अहम भूमिका निभाई थी। अब सब उजड़ चुका है। अपनी हरियाली के लिए विख्यात प्रखंड कार्यालय पेड़ों के न रहने पर वीरान हो गया है।

पिछले महीने (3 जनवरी, 2023) को पटना के ज्ञान भवन में जल-जीवन-हरियाली दिवस कार्यक्रम भी आयोजित हुआ था। कार्यक्रम के दौरान नीतीश कुमार ने अपने अधिकारियों को जल-जीवन-हरियाली अभियान के तहत बचे हुए काम को मिशन मोड में पूरा करने की हिदायत दी थी। बता दें जल-जीवन-हरियाली अभियान बिहार सरकार के ग्रामीण विकास विभाग द्वारा चलाया जा रहा है। यह नीतीश कुमार के महत्वकांक्षी अभियानों में से एक है।

जमुई में उद्घाटन के अगले ही दिन बंद हुई 3डी स्मार्ट क्लास

पिछले दिनों समाधान यात्रा पर जमुई पहुँचे सीएम नीतीश कुमार ने 3डी स्मार्ट क्लास का उद्घाटन किया था। सीएम के जाते ही बिजली आपूर्ति न होने के कारण स्मार्ट क्लास बंद हो गया। स्कूल में बच्चे दोबारा पुराने तरीके से पढ़ाई करने को मजबूर हैं। स्मार्ट क्लास बंद होने पर अधिकारियों ने समय कम होने की सफाई दी है। अधिकारियों का कहना है कि समाधान यात्रा के मद्देनजर जल्दीबाजी में काम किए गए जिससे आधी-अधूरी तैयारी के साथ स्मार्ट क्लास का उद्घाटन कराया गया।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

NITI आयोग की रिपोर्ट में टॉप पर उत्तराखंड, यूपी ने भी लगाई बड़ी छलाँग: 9 साल में 24 करोड़ भारतीय गरीबी से बाहर निकले

NITI आयोग ने सस्टेनेबल डेवलपमेंट गोल्स (SDG) इंडेक्स 2023-24 जारी की है। देश में विकास का स्तर बताने वाली इस रिपोर्ट में उत्तराखंड टॉप पर है।

लैंड जिहाद की जिस ‘मासूमियत’ को देख आगे बढ़ जाते हैं हम, उससे रोज लड़ते हैं प्रीत सिंह सिरोही: दिल्ली को 2000+ मजार-मस्जिद जैसी...

प्रीत सिरोही का कहना है कि वह इन अवैध इमारतों को खाली करवाएँगे। इन खाली हुई जमीनों पर वह स्कूल और अस्पताल बनाने का प्रयास करेंगे।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -