Wednesday, July 17, 2024
Homeराजनीति'जो नकली शराब पीएगा, वो मरेगा ही': नकली शराब पीकर सारण में 38 लोगों...

‘जो नकली शराब पीएगा, वो मरेगा ही’: नकली शराब पीकर सारण में 38 लोगों की मौत पर बोले CM नीतीश कुमार

नीतीश कुमार ने आगे कहा, "मैंने अधिकारियों से कहा है कि गरीब लोगों को ना पकड़े। जो लोग इस व्यवसाय में शामिल हैं, उन्हें पकड़े। शराबबंदी कानून से कई लोगों को फायदा हुआ है। उन्होंने शराब पीनी छोड़ दी।" उन्होंने कहा कि शराब के बदले लोग दूसरा व्यवसाय करें। इसके लिए सरकार एक लाख रुपए तक की मदद देने को तैयार है।

बिहार में शराबबंदी पूरी तरह फेल होने के बाद मुख्यमंत्री नीतीश कुमार (CM Nitish Kumar) अपना आपा खो बैठे। शराबबंदी के बाद बिहार में जहरीली शराब पीने से लोगों की लगातार मौत हो रही है। सारण में 38 लोगों की मौत पर नीतीश कुमार ने कहा कि जो नकली शराब पीएगा, वो मरेगा ही।

जहरीली शराब पीने से हो रही मौतों को लेकर राज्य की विपक्षी दल भाजपा (BJP) जदयू-राजद (JDU-RJD) गठबंधन सरकार को घेर रही है। यह मुद्दा विधानसभा में भी विपक्ष ने जोर-शोर से उठाया। विपक्ष के सवालों से नीतीश कुमार गुस्सा हो गए। उन्होंने मीडिया से भी कहा कि जो पीएगा, वो मरेगा ही। लोगों को सचेत रहना चाहिए।

नीतीश कुमार ने कहा, “क्या कर सकते हैं? कुछ लोग गलती करते ही हैं। जो नकली शराब पीएगा, वो मरेगा। बिहार में तो शराबबंदी है तो कुछ गड़बड़ बेचेगा ही। पिछली बार भी जहरीली शराब पीने से मौत हुई तो लोगों ने कहा कि इनको क्षतिपूर्ति मिलनी चाहिए। मैं कहा कि वाह, जो शराब पीएगा वो तो मरेगा ही। ये तो उदाहरण ही सामने है।”

हालाँकि, इस दौरान नीतीश कुमार पीने वालों पर दोष मढ़कर और खुद को समाज सुधारक साबित करने की कोशिश करते रहे, लेकिन ये नहीं बताया कि बिहार में जहरीली शराब बिक कैसे रही है। उन्होंने राज्य की कानून-व्यवस्था और शराब तस्करों से पुलिसकर्मियों की मिलीभगत पर एक शब्द नहीं बोला।

नीतीश कुमार ने आगे कहा, “मैंने अधिकारियों से कहा है कि गरीब लोगों को ना पकड़े। जो लोग इस व्यवसाय में शामिल हैं, उन्हें पकड़े। शराबबंदी कानून से कई लोगों को फायदा हुआ है। उन्होंने शराब पीनी छोड़ दी।” उन्होंने कहा कि शराब से जुड़े व्यवसाय नहीं करनी चाहिए। इसके बदले लोग दूसरा व्यवसाय करें। इसके लिए सरकार एक लाख रुपए तक की मदद देने को तैयार है।

बता दें कि बिहार के सारण जिले के इसुआपुर और मशरख में जहरीली शराब पीने से अभी तक 38 लोगों की मौत हो गई है। वहीं, अभी कई लोग अस्पतालों में भर्ती है। इनमें से कई की हालत गंभीर बताई जा रही है। मृतकों के परिजनों का कहना है कि मौत जहरीली शराब के कारण हुई है। हालाँकि, प्रशासन इस पर चुप्पी साधे हुए हैं।

बता दें कि बिहार में जहरीली शराब पीने से मौत का यह पहला मामला नहीं है। इससे पहले सारण में ही जहरीली शराब पीने से कई लोगों की मौत हो गई थी। इसके बाद वैशाली में भी ऐसी ही घटना सामने आई थी। बिहार में शराबबंदी भले लागू है, लेकिन शराब आसानी से उपलब्ध है। वहीं, राज्य में जहरीली शराब बनाने वालों का गैंग भी सक्रिय है।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

साथियों ने हाथ-पाँव पकड़ा, काज़िम अंसारी ने ताबतोड़ घोंपा चाकू… धराया VIP अध्यक्ष मुकेश सहनी के पिता का हत्यारा, रात के डेढ़ बजे घर...

घटना की रात काज़िम अंसारी ने 10-11 बजे के बीच रेकी भी की थी जो CCTV में कैद है। रात के करीब डेढ़ बजे ये लोग पीछे के दरवाजे से घर में घुसे।

प्राइवेट नौकरियों में 75% आरक्षण वाले बिल पर कॉन्ग्रेस सरकार का U-टर्न, वापस लिया फैसला: IT कंपनियों ने दी थी कर्नाटक छोड़ने की धमकी

सिद्धारमैया के फैसले का भारी विरोध भी हो रहा था, जिसकी वजह से कॉन्ग्रेसी सरकार बुरी तरह से घिर गई थी। यही नहीं, इस फैसले की जानकारी देने वाले ट्वीट को भी मुख्यमंत्री को डिलीट करना पड़ा था।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -