Tuesday, September 28, 2021
Homeराजनीतिदिल्ली में छत्तीसगढ़ कॉन्ग्रेस की लड़ाई: CM होंगे सिंहदेव या बघेल बचा लेंगे कुर्सी,...

दिल्ली में छत्तीसगढ़ कॉन्ग्रेस की लड़ाई: CM होंगे सिंहदेव या बघेल बचा लेंगे कुर्सी, समर्थक विधायकों की परेड संभव

“मुख्यमंत्री बघेल के नेतृत्व में हम छत्तीसगढ़ की जनता की सेवा कर रहे हैं। हम आलाकमान से बात करेंगे। सभी विधायक एकजुट हैं।”

छत्तीसगढ़ में मुख्यमंत्री पद को लेकर अरसे से चल रही लड़ाई अब दिल्ली में लड़ी जा रही है। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल जहाँ अपनी कुर्सी बचाने की जुगत में हैं, वहीं उनकी कैबिनेट के मंत्री टीएम सिंहदेव भी समर्थकों को लगातार संकेत दे रहे हैं कि उनकी ताजपोशी करीब-करीब तय है। इस बीच दिल्ली में छत्तीसगढ़ के कॉन्ग्रेसी विधायकों का जमावड़ा भी लग गया है। संभावना जताई जा रही है कि दोनों नेता समर्थक विधायकों की पार्टी मुख्यालय में परेड भी करवा सकते हैं।

बघेल और सिंहदेव भी राजधानी में ही हैं। बघेल शुक्रवार (अगस्त 27, 2021) को राहुल गाँधी से मुलाकात करेंगे। बघेल के मुताबिक उन्‍हें कॉन्ग्रेस महासचिव केसी वेणुगोपाल का संदेश मिला है, जिसमें कहा गया है कि उन्‍हें आज राहुल गाँधी से मुलाकात करनी है।

दोनों के बीच ये मुलाकात शाम चार बजे हो सकती है। इस बीच छत्तीसगढ़ के मंत्री सहित 35 विधायक भी दिल्ली पहुँच गए हैं।

वहीं दिल्ली पहुँचे बघेल सरकार में मंत्री अमरजीत भगत ने कहा कि जब कोई टीम अच्छा प्रदर्शन नहीं करती है तो उसके कप्तान को बदलने की माँग उठती है, लेकिन छत्तीसगढ़ में भूपेश बघेल की टीम अच्छा काम कर रही है।

मुख्यमंत्री बघेल और स्वास्थ्य मंत्री टीएस सिंहदेव के बीच चल रहे टकराव की स्थिति को देखते हुए विधायकों के दिल्ली पहुँचने को लेकर चर्चा गर्म है। कहा जा रहा है कि विधायकों को दिल्ली लाना मुख्यमंत्री की ओर से आलाकमान के समक्ष शक्ति प्रदर्शन करने का प्रयास है। हालाँकि बघेल के करीबियों ने इससे इनकार किया है। उनका कहना है कि मुख्यमंत्री को सोनिया गाँधी और राहुल गाँधी में पूरा विश्वास है तथा शक्ति प्रदर्शन जैसी कोई बात नहीं है।

भूपेश बघेल के समर्थक विधायक देवेंद्र यादव ने कहा है, “मुख्यमंत्री बघेल के नेतृत्व में हम छत्तीसगढ़ की जनता की सेवा कर रहे हैं। हम आलाकमान से बात करेंगे। सभी विधायक एकजुट हैं।” दूसरी तरफ, छत्तीसगढ़ प्रदेश कॉन्ग्रेस कमेटी के अध्यक्ष मोहन मरकाम ने कहा है, “आलाकमान ने किसी कॉन्ग्रेस विधायक को दिल्ली नहीं बुलाया है। प्रभारी पीएल पुनिया ने कहा है कि किसी विधायक को दिल्ली नहीं बुलाया गया। विधायक आलाकमान के निर्देशों का पालन करें और अनुशासन में रहें।”

वहीं बघेल पर चुटकी लेते हुए टीएस सिंहदेव ने कहा है क‍ि टीम का हर खिलाड़ी कप्तान बनना चाहता है। ये उसकी सोच का नहीं, बल्कि क्षमता का सवाल है। पार्टी हाईकमान जिसको जिस भूमिका में रखता है उसको वो निभाता है।

बता दें कि छत्तीसगढ़ में कुछ समय से राजनीतिक खींचतान चल रही है। सीएम बघेल ने अपने ऊपर ऊँगली उठाने वालों पर कटाक्ष करते हुए कहा है कि राज्‍य में राजनीतिक अस्थिरता लाने वालों के मंसूबे कभी सफल नहीं हो सकेंगे। गौरतलब है कि दो दिन पहले भी उन्‍होंने राहुल गाँधी से मुलाकात की थी

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

महंत नरेंद्र गिरि के मौत के दिन बंद थे कमरे के सामने लगे 15 CCTV कैमरे, सुबूत मिटाने की आशंका: रिपोर्ट्स

पूरा मठ सीसीटीवी की निगरानी में है। यहाँ 43 कैमरे लगाए गए हैं। इनमें से 15 सीसीटीवी कैमरे पहली मंजिल पर महंत नरेंद्र गिरि के कमरे के सामने लगाए गए हैं।

अवैध कब्जे हटाने के लिए नैतिक बल जुटाना सरकारों और उनके नेतृत्व के लिए चुनौती: CM योगी और हिमंता ने पेश की मिसाल

तुष्टिकरण का परिणाम यह है कि देश के बहुत बड़े हिस्से पर अवैध कब्जा हो गया है और उसे हटाना केवल सरकारों के लिए कानून व्यवस्था की चुनौती नहीं बल्कि राष्ट्रीय सभ्यता के लिए भी चुनौती है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
124,827FollowersFollow
410,000SubscribersSubscribe