Saturday, July 20, 2024
Homeराजनीतिगुजरात में कॉन्ट्रैक्ट जॉब खत्म करने का वादा, राजस्थान में संविदा पर ही 10...

गुजरात में कॉन्ट्रैक्ट जॉब खत्म करने का वादा, राजस्थान में संविदा पर ही 10 हजार भर्ती: चुनाव से पहले कॉन्ग्रेस का पाखंड बेनकाब

पार्टी महासचिव प्रियंका गाँधी संविदा पर भर्ती को युवाओं के सम्मान से खिलवाड़ बता रही थीं, उसके ठीक एक साल बाद राजस्थान सरकार ने कंप्यूटर शिक्षकों की संविदा पर भर्ती निकाल कर प्रियंका गाँधी के बयान का माखौल उड़ा दिया। अब अंग्रेजी शिक्षकों की कॉन्ट्रैक्ट भर्ती निकाली गई है। इधर, पार्टी अध्यक्ष संविदा पर भर्ती को खत्म करने की बात कर रहे हैं।

सत्ता में रहने के दौरान कॉन्ग्रेस (Congress) की अलग नीति होती है और विपक्ष के रूप में अलग। अगर चुनाव का मौसम हो और वादे ही करने हो तो कॉन्ग्रेस ऐसे-ऐसे वादे करती है, जिसे सत्ता में आने के बाद वह खुद तोड़ देती है। चाहे वह किसानों की कर्ज माफी का वादा हो या संविदा पर युवाओं की बहाली का विरोध, कॉन्ग्रेस दोनों ही मोर्चे पर बेनकाब हुई है।

दरअसल, कॉन्ग्रेस के नवनिर्वाचित अध्यक्ष मल्लिकार्जुन खड़गे (Mallikarjun Kharge) ने कहा कि गुजरात में सत्ता में वापसी करने पर कॉन्ट्रैक्ट सिस्टम बंद करने का वादा किया है। वहीं, राजस्थान की कॉन्ग्रेस सरकार ने महात्मा गाँधी अँग्रेजी मीडियम स्कूलों में 10,000 शिक्षकों की संविदा पर भर्ती का आदेश जारी किया है।

ऐसा पहली बार नहीं है कि कॉन्ग्रेस की कथनी करनी में अंतर दिख रहा है। पार्टी महासचिव प्रियंका गाँधी ने यूपी में संविदा पर युवकों की भर्ती को उनका अपमान बताकर भाजपा सरकार की आलोचना की थी। उसके कुछ समय बाद राजस्थान की कॉन्ग्रेस सरकार ने कंप्यूटर शिक्षकों की भर्ती संविदा पर करने का ऐलान किया था।

दरअसल, कॉन्ग्रेस अध्यक्ष मल्लिकार्जुन खड़गे ने गुरुवार (3 अक्टूबर 2022) को गुजरात विधानसभा चुनाव के लिए पार्टी के ‘8 संकल्प’ का ऐलान करते हुए ट्वीट किया। इन संकल्पों के बारे में बताते हुए उन्होंने दो ट्वीट किए। इसमें एक संकल्प ‘सरकारी नौकरियों में कॉन्ट्रैक्ट सिस्टम बंद करना और ₹300 बेरोजगारी भत्ता देना’ भी है।

अपने ट्वीट में उन्होंने लिखा, “₹500 में LPG सिलेंडर, 300 यूनिट तक बिजली फ्री, ₹10 लाख तक का इलाज व दवाइयाँ मुफ्त, किसानों का ₹3 लाख तक कर्ज माफ, सरकारी नौकरियों में कॉन्ट्रैक्ट सिस्टम बंद और ₹300 बेरोजगारी भत्ता, 3 हजार सरकारी इंग्लिश मीडियम स्कूल, को-ऑपरेटिव सोसायटी में दूध पर ₹5/लीटर सब्सिडी, कोरोना से जान गंवाने वाले 3 लाख लोगों के परिवार को ₹4 लाख मुआवजा।”

कॉन्ग्रेस अध्यक्ष खड़गे के ट्वीट के ठीक एक दिन पहले राजस्थान की अशोक गहलोत सरकार ने महात्मा गाँधी अँग्रेजी मीडियम स्कूलों में अलग से 10,000 शिक्षकों को संविदा पर भर्ती करने का ऐलान किया। प्रदेश में अँग्रेजी माध्यम की शिक्षा को बढ़ावा देने के उद्देश्य से प्रदेश की कॉन्ग्रेस सरकार ने इन स्कूलों को खोला है।

राजस्थान सरकार ने संविदा पर कर्मियों की भर्ती के लिए बकायदा इस साल एक नीति बनाई है। इसे ‘संविदा भर्ती नियम 2022’ के नियम से जाना जाता है। संविदा पर इन शिक्षकों की भर्ती इसी नियम के तहत किया जाएगा। राजस्थान सरकार की इस नीति का खूब विरोध हो रहा है।

दरअसल, 13 दिसंबर 2020 को प्रियंका गाँधी ने ट्वीट कर उत्तर सरकार को संविदाकर्मियों की भर्ती पर घेरने की कोशिश की थी। उन्होंने कहा था, “युवा नौकरी की माँग करते हैं और यूपी सरकार भर्तियों को 5 साल के लिए संविदा पर रखने का प्रस्ताव ला देती है। ये जले पर नमक छिड़कर युवाओं को चुनौती दी जा रही है। गुजरात में यही फिक्स पे सिस्टम है। वर्षों सैलरी नहीं बढ़ती, परमानेंट नहीं करते। युवाओं का आत्मसम्मान नहीं छीनने देंगे।”

पार्टी महासचिव प्रियंका गाँधी संविदा पर भर्ती को युवाओं के सम्मान से खिलवाड़ बता रही थीं, उसके ठीक एक साल बाद राजस्थान सरकार ने कंप्यूटर शिक्षकों की संविदा पर भर्ती निकाल कर प्रियंका गाँधी के बयान का माखौल उड़ा दिया। अब अंग्रेजी शिक्षकों की कॉन्ट्रैक्ट भर्ती निकाली गई है। इधर, पार्टी अध्यक्ष संविदा पर भर्ती को खत्म करने की बात कर रहे हैं।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

फैक्ट चेक’ की आड़ लेकर भारत में ‘प्रोपेगेंडा’ फैलाने की तैयारी कर रहा अमेरिका, 1.67 करोड़ रुपए ‘फूँक’ तैयार कर रहा ‘सोशल मीडिया इन्फ्लूएंसर्स’...

अमेरिका कथित 'फैक्ट चेकर्स' की फौज को तैयार करने की योजना को चतुराई से 'डिजिटल लिटरेसी' का नाम दे रहा है, लेकिन इनका काम होगा भारत में अमेरिकी नरेटिव को बढ़ावा देना।

मुस्लिम फल विक्रेताओं एवं काँवड़ियों वाले विवाद में ‘थूक’ व ‘हलाल’ के अलावा एक और पहलू: समझिए सच्चर कमिटी की रिपोर्ट और असंगठित क्षेत्र...

काँवड़ियों के पास ये विकल्प क्यों नहीं होना चाहिए, अगर वो सिर्फ हिन्दू विक्रेताओं से ही सामान खरीदना चाहते हैं तो? मुस्लिम भी तो लेते हैं हलाल?

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -