Tuesday, April 20, 2021
Home राजनीति वो अहमद पटेल, जिसे राज्यसभा सीट जिताने के लिए कॉन्ग्रेस ने खो दिया था...

वो अहमद पटेल, जिसे राज्यसभा सीट जिताने के लिए कॉन्ग्रेस ने खो दिया था पूरे गुजरात को

CM मोदी के बाद कॉन्ग्रेस के पास मौका था। गुजरात में भयंकर बाढ़ आई हुई थी। कॉन्ग्रेस अपने विधायकों के दम पर इस आपदा को अवसर में बदल सकती थी... लेकिन अहमद पटेल की राज्यसभा सीट बचाने के लिए उन विधायकों को गुजरात में रहने देने के बजाय शानदार रिजॉर्ट में बेंगलुरु भेज दिया।

8 अगस्त 2017, कॉन्ग्रेस ने गुजरात में अपने नेता अहमद पटेल की राज्यसभा सीट को बचाने के लिए एड़ी-चोटी का जोर लगा दिया था। राज्य में तीन सीटों पर दोबारा चुनाव होने थे और दावेदार 4 थे। यही वो समय था जब गुजरात 1996 के बाद पहली दफा राज्यसभा चुनावों को देख रहा था क्योंकि इससे पहले हर राज्यसभा चुनाव निर्विरोध होता आ रहा था।

उस साल दो सीटों पर अमित शाह और स्मृति ईरानी की जीत सुनिश्चित थी, लेकिन तीसरी सीट के लिए भाजपा ने गुजरात में कॉन्ग्रेस के अहमद पटेल के सामने कॉन्ग्रेस के ही पूर्व चीफ व्हिप बलवंत सिंह राजपूत को उतार दिया था।

उस समय अहमद पटेल गुजरात से 7वीं बार सांसद (3 बार लोकसभा और 4 बार राज्यसभा) थे। वह सोनिया गाँधी के सलाहकार भी थे। अगस्त के पहले हफ्ते तक ऐसा स्पष्ट हो चुका था कि कॉन्ग्रेस की नैया इस बार डूब ही जाएगी, क्योंकि वैसे तो राज्यसभा में अपने नेता की सीट बचाने के लिए कॉन्ग्रेस को 45 वोट चाहिए थे और उनके पास 57 विधायक थे, लेकिन 1 अगस्त को इनमें से 6 विधायकों ने इस्तीफा दे दिया था, जिसकी वजह से मुकाबला बराबर का हो गया था।

अब ऐसे में कॉन्ग्रेस क्या करती? तो इन्होंने अपनी राजनीति का पुराना तरीका अपनाया और भाजपा से अपने विधायकों को दूर रखने के लिए फौरन उन्हें एक शानदार रिजॉर्ट में किडनैप कर लिया। शर्मनाक बात यह थी कि जिस समय कॉन्ग्रेस ने यह चाल चली, उस दौरान गुजरात बाढ़ से प्रभावित था।

एक ओर कॉन्ग्रेस के विधायक रिजॉर्ट में नाश्ते का आनंद फरमा रहे थे और दूसरी तरफ उस समय गुजराती पूरे दशक की सबसे खराब बाढ़ की मार झेल रहे थे। बनासकांठा (Banaskantha) का धानेरा (Dhanera) बाढ़ से सबसे अधिक प्रभावित क्षेत्रों में से एक था। वहीं उस इलाके की कॉन्ग्रेस विधायक जोइताभाई पटेल उन 44 विधायकों में से एक थी, जो कॉन्ग्रेस शासित बेंगलुरु में आराम फरमा रही थीं।

प्राकृतिक आपदा से निपटने के लिए जब जनता अपने प्रतिनिधि की ओर ताक रही थी, तब उन्होंने अपने फोन स्विच ऑफ किए हुए थे। इन लोगों के लिए अलग से शेफ तक की व्यवस्था की गई थी जबकि इनके राज्य में तो बाढ़ आई हुई थी, जनता दाने-जाने को मोहताज थी।

चुनावों के लिए चली गई चाल का ड्रामा मतदान के बाद भी आधी रात तक चला। कॉन्ग्रेस ने अपना सारा पैसा, सारी ताकत एक राज्यसभा सीट को बचाने में लगा दिया। इस चुनाव में अहमद पटेल तो जीत गए लेकिन कॉन्ग्रेस राज्य को हार गई।

खास बात यह है कि गुजरात में यह तब हुआ, जब विधानसभा चुनाव को कुछ महीने ही बाकी बचे थे। भाजपा राज्य में 20 साल से सत्ता विरोधी लहर को झेल रही थी। मतदाता का एक वर्ग कॉन्ग्रेस रहित राज्य में बड़ा हुआ था, जिसने 20 सालों में प्राकृतिक आपदा, कारसेवकों का जलना, दंगे और एनकाउंटर वाली खबरें पढ़ीं थीं। लेकिन इस बीच गुजरात इस बात का भी गवाह था कि कैसे राज्य में विदेशी निवेश में वृद्धि, नर्मदा कैनल का निर्माण और बेहतर पानी व बिजली की कनेक्टिविटी हुई।

लेकिन क्या कॉन्ग्रेस ने राज्य में जो कुछ भी किया वो सिर्फ अहमद पटेल को बचाने के लिए किया? नहीं। वो सब सिर्फ सोनिया गाँधी के चेहरे को बनाए रखने के लिए किया गया था। अहमद पटेल को नुकसान मतलब सोनिया गाँधी का नुकसान था। बीजेपी इन कोशिशों में जुटी थी कि इस हार से सोनिया गाँधी को झटका लगे। लेकिन कॉन्ग्रेस पटेल को बचाकर चाहती थी कि सोनिया की साख पर आँच न आए।

एक पार्टी जिसने वर्षों से राष्ट्र के साथ धोखा किया, उसने जब सोनिया गाँधी को बचाने के लिए पूरे गुजरात के साथ जुआ खेला, तो ये कोई हैरान करने वाली बात नहीं थी। 

आज 71 साल के अहमद पटेल का इंतकाल हो गया है। उनकी मौत का कारण मल्टिपल ऑर्गन फेल्यर बताया गया। उनसे यूपीए काल में हुए कई घोटालों के संबंध में पूछताछ की जा रही थी। उनके बाद, अब गुजरात में कॉन्ग्रेस के लिए दंगा आरोपित व देशद्रोह आरोपित हार्दिक पटेल ही पार्टी प्रमुख के रूप में बचे हुए हैं।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

Nirwa Mehtahttps://medium.com/@nirwamehta
Politically incorrect. Author, Flawed But Fabulous.

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

कोरोना से लड़ाई में मजबूत कदम बढ़ाती मोदी सरकार: फर्जी प्रश्नों के सहारे फिर बेपटरी करने निकली गिद्धों की पाँत

गिद्धों की पाँत फिर से वैसे ही बैठ गई है। फिर से हेडलाइन के आगे प्रश्नवाचक चिन्ह के सहारे वक्तव्य दिए जा रहे हैं। फिर से श्मशान घाट की तस्वीरें सोशल मीडिया पर शेयर की जा रही हैं। नेताओं द्वारा फ़र्ज़ी प्रश्न उठाए जा रहे हैं। शायद फिर उसी आकाँक्षा के साथ कि भारत कोरोना के ख़िलाफ़ अपनी लड़ाई हार जाएगा।

‘कॉन्ग्रेसी’ साकेत गोखले ने पूर्व CM के खिलाफ दर्ज कराई शिकायत, शिवसेना नेता कहा- ‘फडणवीस के मुँह में डाल देता कोरोना’

शिवसेना के विधायक संजय गायकवाड़ ने पूर्व मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस को लेकर विवादित बयान दिया है। उन्‍होंने कहा है कि अगर उन्हें कहीं कोरोना वायरस मिल जाता, तो वह उसे भाजपा नेता देवेंद्र फडणवीस के मुँह में डाल देते।

इलाहाबाद हाईकोर्ट ने 26 अप्रैल तक 5 शहरों में लगाए कड़े प्रतिबन्ध, योगी सरकार ने पूर्ण लॉकडाउन से किया इनकार

योगी आदित्यनाथ सरकार ने शहरों में लॉकडाउन लगाने से इंकार कर दिया है। यूपी सरकार ने कहा कि प्रदेश में कई कदम उठाए गए हैं और आगे भी सख्त कदम उठाए जाएँगे। गरीबों की आजीविका को भी बचाने के लिए काम किया जा रहा है।

वामपंथियों के गढ़ जेएनयू में फैला कोरोना, 74 छात्र और स्टाफ संक्रमित: 4 की हालत गंभीर

जवाहर लाल नेहरू विश्वविद्यालय, दिल्ली में भी कोविड ने एंट्री मार ली है। विश्वविद्यालय के स्वास्थ्य केंद्र से मिली जानकारी के मुताबिक 74 छात्र और स्टाफ संक्रमित पाए गए हैं।

‘मई में दिखेगा कोरोना का सबसे भयंकर रूप’: IIT कानपुर की स्टडी में दावा- दूसरी लहर कुम्भ और रैलियों से नहीं

प्रोफेसर मणिन्द्र और उनकी टीम ने पूरे देश के डेटा का अध्ययन किया। अलग-अलग राज्यों में मिलने वाले कोरोना के साप्ताहिक आँकड़ों को भी परखा।

‘कुम्भ में जाकर कोरोना+ हो गए CM योगी, CMO की अनुमति के बिना कोविड मरीजों को बेड नहीं’: प्रियंका व अलका के दावों का...

कॉन्ग्रेस नेता प्रियंका गाँधी ने CMO की अनुमति के बिना मरीजों को अस्पताल में बेड्स नहीं मिल रहे हैं, अलका लाम्बा ने सीएम योगी आदित्यनाथ के कोरोना पॉजिटिव होने और कुम्भ को साथ में जोड़ा।

प्रचलित ख़बरें

‘वाइन की बोतल, पाजामा और मेरा शौहर सैफ’: करीना कपूर खान ने बताया बिस्तर पर उन्हें क्या-क्या चाहिए

करीना कपूर ने कहा है कि वे जब भी बिस्तर पर जाती हैं तो उन्हें 3 चीजें चाहिए होती हैं- पाजामा, वाइन की एक बोतल और शौहर सैफ अली खान।

‘छोटा सा लॉकडाउन, दिल्ली छोड़कर न जाएँ’: इधर केजरीवाल ने किया 26 अप्रैल तक कर्फ्यू का ऐलान, उधर ठेकों पर लगी कतार

केजरीवाल सरकार ने 26 अप्रैल की सुबह 5 बजे तक तक दिल्ली में लॉकडाउन की घोषणा की है। इस दौरान स्वास्थ्य सुविधाओं को दुरुस्त कर लेने का भरोसा दिलाया है।

SC के जज रोहिंटन नरीमन ने वेदों पर की अपमानजनक टिप्पणी: वर्ल्ड हिंदू फाउंडेशन की माफी की माँग, दी बहस की चुनौती

स्वामी विज्ञानानंद ने SC के न्यायाधीश रोहिंटन नरीमन द्वारा ऋग्वेद को लेकर की गई टिप्पणियों को तथ्यात्मक रूप से गलत एवं अपमानजनक बताते हुए कहा है कि उनकी टिप्पणियों से विश्व के 1.2 अरब हिंदुओं की भावनाएँ आहत हुईं हैं जिसके लिए उन्हें बिना शर्त क्षमा माँगनी चाहिए।

जिसने उड़ाया साधु-संतों का मजाक, उस बॉलीवुड डायरेक्टर को पाकिस्तान का FREE टिकट: मिलने के बाद ट्विटर से ‘भागा’

फिल्म निर्माता हंसल मेहता सोशल मीडिया पर विवादित पोस्ट को लेकर अक्सर चर्चा में रहते हैं। इस बार विवादों में घिरने के बाद उन्होंने...

ईसाई युवक ने मम्मी-डैडी को कब्रिस्तान में दफनाने से किया इनकार, करवाया हिंदू रिवाज से दाह संस्कार: जानें क्या है वजह

दंपत्ति के बेटे ने सुरक्षा की दृष्टि से हिंदू रीति से अंतिम संस्कार करने का फैसला किया था। उनके पार्थिव देह ताबूत में रखकर दफनाने के बजाए अग्नि में जला देना उसे कोरोना सुरक्षा की दृष्टि से ज्यादा ठीक लगा।

रोजा वाले वकील की तारीफ, रमजान के बाद तारीख: सुप्रीम कोर्ट के जज चंद्रचूड़, पेंडिग है 67 हजार+ केस

जस्टिस डीवाई चंद्रचूड़ की पीठ ने याचिककर्ता के वकील को राहत देते हुए एसएलपी पर हो रही सुनवाई को स्थगित कर दिया।
- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

292,985FansLike
82,231FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe