Friday, July 19, 2024
Homeराजनीति'सबसे ज्यादा आग लगाने वाला योगेंद्र यादव, आज पकड़ लिया जाए तो किसानों से...

‘सबसे ज्यादा आग लगाने वाला योगेंद्र यादव, आज पकड़ लिया जाए तो किसानों से होगी सीधी बात’: कॉन्ग्रेस सांसद

“अगर इस आदमी को आज भी पकड़ लिया जाए तो किसान और आपकी बातें सीधी हो जाएगी। कोई किसान आपका दुश्मन नहीं है। किसान देश के साथ है। ये जो झंडा लहराने वाले हैं ये योगेंद्र यादव और इसकी पार्टी के वो दुश्मन हैं जिनकी बाहर से खालिस्तानी फंडिंग हो रही है।"

गणतंत्र दिवस (26 जनवरी) के दिन हुई हिंसा पर कॉन्ग्रेस सांसद रवनीत सिंह बिट्टू ने संसद ने अपना बयान दिया। इस बयान में बिट्टू ने किसान आंदोलन में फैलती अराजकता के लिए सीधे-सीधे योगेंद्र यादव को जिम्मेदार ठहराया। उन्होंने केंद्र सरकार से कहा कि यदि आज योगेंद्र यादव को पकड़ लिया जाए तो किसानों से बात करने का रास्ता आसान हो जाएगा।

पंजाब के लुधियाना से कॉन्ग्रेस सांसद रवनीत सिंह बिट्टू ने संसद में बताया कि 26 जनवरी वाली हिंसा के पीछे योगेंद्र यादव है। उन्होंने कहा ये आदमी 2018 तक इस बिल के समर्थन में था और आज सबसे ज्यादा आग लगाने वाला ये आदमी है।

वह योगेंद्र यादव पर निशाना साधते हुए कहते हैं, “अगर इस आदमी को आज भी पकड़ लिया जाए तो किसान और आपकी बातें सीधी हो जाएगी। कोई किसान आपका दुश्मन नहीं है। किसान देश के साथ है। ये जो झंडा लहराने वाले हैं ये योगेंद्र यादव और इसकी पार्टी के वो दुश्मन हैं जिनकी बाहर से खालिस्तानी फंडिंग हो रही है।”

उन्होंने कहा, “देश के झंडे के लिए ऐसा (अपमान करने की बात) सोच सकते है क्या पंजाब वाले। वहाँ बॉर्डर पर हम रोज मरते हैं, रोज जानें देते हैं। इस झंडे के शान के ख़िलाफ कोई सपने में भी सोच सकता है क्या। हम सोते भी रात में इस झंडे के सपने के साथ हैं और उठते भी हैं तो इसको सलाम करते हैं।”

गौरतलब है कि पिछले दिनों कॉन्ग्रेस सांसद रवनीत सिंह ने पहली बार योगेंद्र यादव को लेकर अपना गुस्सा जाहिर नहीं किया है। इससे पहले जब सिंघु बॉर्डर पर किसानों के आंदोलन में पहुँचे थे तो उनसे धक्का-मुक्की की गई थी। इसके बाद भी उन्होंने योगेंद्र यादव और अरविंद केजरीवाल पर निशाना साधा था। बिट्टू यह भी आरोप लगा चुके हैं कि किसानों के आंदोलन के पीछे खालिस्तान समर्थकों का भी हाथ है।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

फैक्ट चेक’ की आड़ लेकर भारत में ‘प्रोपेगेंडा’ फैलाने की तैयारी कर रहा अमेरिका, 1.67 करोड़ रुपए ‘फूँक’ तैयार कर रहा ‘सोशल मीडिया इन्फ्लूएंसर्स’...

अमेरिका कथित 'फैक्ट चेकर्स' की फौज को तैयार करने की योजना को चतुराई से 'डिजिटल लिटरेसी' का नाम दे रहा है, लेकिन इनका काम होगा भारत में अमेरिकी नरेटिव को बढ़ावा देना।

मुस्लिम फल विक्रेताओं एवं काँवड़ियों वाले विवाद में ‘थूक’ व ‘हलाल’ के अलावा एक और पहलू: समझिए सच्चर कमिटी की रिपोर्ट और असंगठित क्षेत्र...

काँवड़ियों के पास ये विकल्प क्यों नहीं होना चाहिए, अगर वो सिर्फ हिन्दू विक्रेताओं से ही सामान खरीदना चाहते हैं तो? मुस्लिम भी तो लेते हैं हलाल?

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -