Saturday, July 20, 2024
Homeराजनीति'शहजाद को ड्रॉप करें या डिबेट का बॉयकॉट होगा': ABP न्यूज को 'धमकी' देती...

‘शहजाद को ड्रॉप करें या डिबेट का बॉयकॉट होगा’: ABP न्यूज को ‘धमकी’ देती कॉन्ग्रेस का ऑडियो सुनिए

ऑडियो क्लिप शेयर करते हुए पूनावाला ने कहा है कि वे पेशे से एंकर, प्रजेंटर, एनालिस्ट हैं। उन्हें डर है कि कॉन्ग्रेस और परेशान करेगी।

कॉन्ग्रेस के पूर्व नेता शहजाद पूनावाला ने दावा किया है कि एबीपी न्यूज ने कॉन्ग्रेस पार्टी के दबाव में उन्हें शो से ड्रॉप कर दिया। अपनी बात को साबित करने के लिए उन्होंने एबीपी न्यूज के कॉर्डिनेटर के साथ हुई बातचीच की ऑडियो शेयर की है। उन्होंने बताया कि कैसे कॉन्ग्रेस एक न्यूज चैनल पर अपना प्रवक्ता भेजने के लिए उन्हें ब्लैकमेल कर रही थी।

एबीपी न्यूज पर कॉन्ग्रेस पार्टी द्वारा जारी की गई टूलकिट को लेकर डिबेट होनी थी। इसी क्रम में दोपहर 2 बजे शहजाद से 5 बजे होने वाली डिबेट ज्वाइन करने की रिक्वेस्ट की गई। लेकिन 4:15 उन्हें एबीपी के मीडिया कॉर्डिनेटर ने फोन करके बताया कि कॉन्ग्रेस पार्टी शहजाद के साथ स्क्रीन शेयर करने को तैयार नहीं है। उन्होंने शर्त रखी है कि या तो चैनल शहजाद को ड्रॉप करे या फिर डिबेट का बॉयकॉट किया जाएगा।

बातचीत में कॉर्डिनेटर साफ-साफ शहजाद को बता रहा है कि कॉन्ग्रेस ने कहा है कि यदि वह पूनावाला को ड्रॉप नहीं करेंगे तो वह डिबेट में शामिल नहीं होंगे। इसमें शहजाद कहते भी हैं कि जब डिबेट में वह अपने प्वाइंट रखेंगे तो समस्या क्या है। इस पर कॉर्डिनेटर वही बात दोहराता है। 

पूनावाला कहते हैं, “कॉन्ग्रेस खुद को फ्रीडम ऑफ स्पीच वाली पार्टी कहती हैं तब भी वो चैनल को ब्लैकमेल करेगी कि शहजाद को ड्रॉप करें? मैंने पूरी तैयारी कर ली। टाइम बदल लिया। एबीपी प्रतिष्ठित चैनल है आप कॉन्ग्रेस के दबाव में आएँगे तो कैसे होगा।”

शहजाद ने इस ऑडियो क्लिप को शेयर करते हुए कॉन्ग्रेस की असहिष्णुता को उजागर करके कहा कि वह पेशे से एक एंकर, प्रजेंटर, एनालिस्ट हैं और उन्हें डर है कि कॉन्ग्रेस उन्हें और परेशान करेगी। वह दावा करते हैं कॉन्ग्रेस ने ऐसा पहली बार नहीं किया। पार्टी की वजह से कई बार उन्हें ड्रॉप किया गया है।

बता दें कि कॉन्ग्रेस द्वारा तैयार किया गया टूलकिट इस समय हॉट टॉपिक है। इसमें कुंभ को बदनाम करने से लेकर कोरोना संक्रमण पर पीएम मोदी को बदनाम करने की बातें हैं। ऑल्ट न्यूज इसे फर्जी बता रहा है। वहीं कई लोग इस टूलकिट में मौजूद बिंदुओं पर प्रश्न कर रहे हैं।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

आरक्षण पर बांग्लादेश में हो रही हत्याएँ, सीख भारत के लिए: परिवार और जाति-विशेष से बाहर निकले रिजर्वेशन का जिन्न

बांग्लादेश में आरक्षण के खिलाफ छात्र सड़कों पर उतर आए हैं। वहाँ सेना को तैनात किया गया है। इससे भारत को सीख लेने की जरूरत है।

कर्नाटक के बाद अब तमिलनाडु में YouTuber अजीत भारती के खिलाफ FIR, कॉन्ग्रेस नेता सैमुअल MC ने की शिकायत: राहुल गाँधी से जुड़ा है...

"कर्नाटक उच्च न्यायालय ने स्थगन का आदेश दे रखा है, उस पर कथित घटना और केस पर स्टे के बाद, वापस दूसरे राज्य में केस करना क्या बताता है? "

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -