Tuesday, July 16, 2024
Homeराजनीति'गोमूत्र से नहीं मिली देश को आजादी': अब हिन्दुओं के खिलाफ घृणा फैलाने पर...

‘गोमूत्र से नहीं मिली देश को आजादी’: अब हिन्दुओं के खिलाफ घृणा फैलाने पर उतरे उद्धव ठाकरे, कहा – मेरे विधायकों को इंजेक्शन लगा कर छीन ली पार्टी

"शिवसेना की स्थापना चुनाव आयोग के पिता ने नहीं, बल्कि मेरे पिता ने की थी। महाराष्ट्र मेरा परिवार है। वे इसका कैसे ख्याल रखेंगे। मुझे आप सभी के साथ की जरूरत है।"

महाराष्ट्र के पूर्व मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने चुनाव आयोग को लेकर विवादित टिप्पणी की है। उन्होंने कहा है कि चुनाव आयोग ‘चूना लगाओ आयोग’ है और सत्ता में बैठे हुए लोगों का गुलाम है। यही नहीं, उन्होंने कहा है कि गौमूत्र छिड़कने से देश को आजादी नहीं मिली। बल्कि स्वतंत्रता संग्राम सेनानियों के बलिदान से आजादी मिली है। उन्होंने यह बयान रविवार (5 मार्च 2023) को दिया।

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, महाराष्ट्र के रत्नागिरी के खेड़ गाँव में आयोजित एक सभा को संबोधित करते हुए उद्धव ठाकरे ने चुनाव आयोग को आड़े हाथों लिया। उन्होंने कहा है, “चुनाव आयोग ‘चूना लगाओ आयोग’ है और सत्ता में बैठे लोगों का गुलाम है। जिस सिद्धांत के आधार पर चुनाव आयोग ने यह फैसला लिया, वह गलत है। चुनाव आयोग ने हमसे पार्टी का नाम और चुनाव चिह्न छीन लिया है, लेकिन वह शिवसेना को मुझसे नहीं छीन सकते।”

उद्धव ठाकरे ने यह भी कहा, “शिवसेना की स्थापना चुनाव आयोग के पिता ने नहीं, बल्कि मेरे पिता ने की थी। महाराष्ट्र मेरा परिवार है। वे इसका कैसे ख्याल रखेंगे। मुझे आप सभी के साथ की जरूरत है। गद्दारों को कहना चाहता हूँ कि आप नाम चुरा सकते हो, चिह्न चुरा सकते हो लेकिन शिवसेना नहीं चुरा सकते। मैं चुनाव आयोग को खासतौर से कहना चाहता हूँ अगर चुनाव आयोग मोतियाबिंद से पीड़ित नहीं है तो उसे आना चाहिए और जमीनी स्थिति देखनी चाहिए।”

उन्होंने आगे कहा कि उन्हें तोड़ने की कोशिश की जा रही है। यह शिवसेना नहीं, मराठी मानुष और हिंदुत्व को तोड़ने का षडयंत्र है। जिसको कभी गली का कुत्ता भी नहीं पूछता था, आज वो उन्हें तोड़ने की प्लानिंग कर रहे हैं। उन्हें चुनाव आयोग का फैसला मंजूर नहीं है। चुनाव आयोग के फैसले के खिलाफ वह सुप्रीम कोर्ट जाएँगे।

उन्होंने आगे कहा, “सरदार पटेल ने आरएसएस पर प्रतिबंध लगाया, उन्होंने सरदार पटेल का नाम चुराया। इसी तरह, उन्होंने सुभाष चंद्र बोस को चुरा लिया और बाला साहेब ठाकरे के साथ ऐसा ही किया। मैं उन्हें चुनौती देता हूँ कि वे मोदी के नाम पर वोट माँगे, न कि शिवसेना के नाम और बाला साहेब ठाकरे की फोटो पर।”

उद्धव ठाकरे ने यह भी कहा, “सरकार तो सही चल रही थी लेकिन टूटी क्यों? सरकार इसलिए टूटी क्योंकि हमारे साथ धोखा किया गया। हमारे विधायकों को बेहोशी का इंजेक्शन लगाया गया। हम सबने मिल कर प्रधानमंत्री को एक पत्र लिखा है। केजरीवाल मुझसे मिलने आए थे। उन्होंने कहा है कि बहुत हो रहा है, हमें अब एक होना होगा। मैंने कहा है कि मैं तैयार हूँ।”

उन्होंने गोमूत्र पर विवादित बयान देते हुए कहा, “क्या हमारे देश को गोमूत्र छिड़कने से आजादी मिली थी? क्या ऐसा हुआ था कि गोमूत्र छिड़का गया और हमें आजादी मिली? ऐसा नहीं था, स्वतंत्रता सेनानियों ने बलिदान दिया था। तब कहीं जाकर हमें आजादी मिली थी।”

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘जम्मू-कश्मीर की पार्टियों ने वोट के लिए आतंक को दिया बढ़ावा’: DGP ने घाटी के सिविल सोसाइटी में PAK के घुसपैठ की खोली पोल,...

जम्मू कश्मीर के DGP RR स्वेन ने कहा है कि एक राजनीतिक पार्टी ने यहाँ आतंक का नेटवर्क बढ़ाया और उनके आका तैयार किए ताकि उन्हें वोट मिल सकें।

कर्नाटक के उपमुख्यमंत्री DK शिवकुमार को सुप्रीम कोर्ट से झटका, चलती रहेगी आय से अधिक संपत्ति मामले CBI की जाँच: दौलत के 5 साल...

सुप्रीम कोर्ट ने कर्नाटक के उपमुख्यमंत्री डीके शिवकुमार को आय से अधिक संपत्ति मामले में CBI जाँच से राहत देने से मना कर दिया है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -