Saturday, July 20, 2024
Homeराजनीति'100 साल पुराने 3 मंदिरों को मैंने ही तोड़ा: मनमोहन सरकार में मंत्री रहे...

‘100 साल पुराने 3 मंदिरों को मैंने ही तोड़ा: मनमोहन सरकार में मंत्री रहे बालू ने गिनाए लक्ष्मी-सरस्वती-पार्वती मंदिर के नाम

"मेरे निर्वाचन क्षेत्र में जीएसटी रोड पर सरस्वती मंदिर, लक्ष्मी मंदिर और पार्वती मंदिर को तोड़ा गया। मैंने ही इन तीनों मंदिरों को तोड़ा।"

टीआर बालू का एक बयान वायरल हो रहा है। इसमें वे तीन मंदिरों को तोड़ने की बात कर रहे हैं। डीएमके सांसद बालू मनमोहन सिंह की पहली सरकार में मंत्री रह चुके हैं। पिछले दिनों उन्होंने तमिलनाडु के मुख्यमंत्री और अपनी पार्टी के नेता स्टालिन को छूने पर हाथ काटने की धमकी दी थी।

बालू का एक वीडियो सोशल मीडिया में वायरल है। बीजेपी के तमिलनाडु प्रदेश अध्यक्ष के अन्नामलाई ने भी इसे ट्वीट किया है। इस वीडियो में बालू एक सभा को संबोधित करते दिख रहे हैं। वे कहते हैं, “मैंने 100 साल पुराने सरस्वती, लक्ष्मी और पार्वती मंदिर को तोड़ा है। ये तीनों मंदिर मेरे निर्वाचन क्षेत्र में जीएसटी रोड (ग्रैंड सदर्न ट्रंक रोड) पर थे।”

यह वीडियो वीडियो मदुरै की एक जनसभा का बताया जा रही है। इसे ट्वीट करते हुए भाजपा प्रदेश अध्यक्ष अन्नामलाई ने कहा है कि DMK नेताओं को मंदिर तोड़ने पर फक्र है, जबकि वे मंदिरों को सरकारी कब्ज़े से निकालना चाहते हैं। अन्नामलाई ने अपने ट्वीट में HR&CE (हिंदू धार्मिक और धर्मार्थ बंदोबस्ती अधिनियम) को भंग करने की भी बात की है।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक बालू ने सेतुसमुद्रम प्रोजेक्ट के समर्थन में सभा को संबोधित करते हुए यह बात कही। रामसेतु को नुकसान पहुॅंचने की वजह से हिंदूवादी संगठन इस प्रोजेक्ट के विरोध में हैं। वहीं डीएमके चाहती है कि यह परियोजना जल्द से जल्द शुरू हो।

इसी कड़ी में केंद्र सरकार की आलोचना करते हुए उन्होंने अपने निर्वाचन क्षेत्र में एक परियोजना के लिए मंदिरों को तोड़े जाने का जिक्र किया। उन्होंने कहा, “मेरे निर्वाचन क्षेत्र में जीएसटी रोड पर सरस्वती मंदिर, लक्ष्मी मंदिर और पार्वती मंदिर को तोड़ा गया। मैंने ही इन तीनों मंदिरों को तोड़ा। मुझे पता है कि मुझे वोट नहीं मिलेंगे, लेकिन मुझे यह भी पता है कि मुझे वोट कैसे मिलेंगे। मेरे समर्थकों ने मुझे चेतावनी भी दी थी कि अगर मंदिर तोड़े गए तो मुझे वोट नहीं मिलेंगे। लेकिन मैंने उनसे कहा कि कोई दूसरा रास्ता नहीं है।”

मीडिया रिपोर्टों के अनुसार बालू ने अपने संबोधन में मस्जिद का भी जिक्र किया। साथ ही यह भी कहा कि मंदिर गिराने से नाराज लोगों को उन्होंने उससे भी बड़े और भव्य मंदिर बनवाने का भरोसा दिया और उसे बनवाया भी। गौरतलब है कि DMK के वरिष्ठ नेता बालू ने इससे पहले शनिवार (28 जनवरी 2023) को अपनी पार्टी के अध्यक्ष स्टालिन को छूने पर हाथ काट लेने की धमकी दी थी।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

फैक्ट चेक’ की आड़ लेकर भारत में ‘प्रोपेगेंडा’ फैलाने की तैयारी कर रहा अमेरिका, 1.67 करोड़ रुपए ‘फूँक’ तैयार कर रहा ‘सोशल मीडिया इन्फ्लूएंसर्स’...

अमेरिका कथित 'फैक्ट चेकर्स' की फौज को तैयार करने की योजना को चतुराई से 'डिजिटल लिटरेसी' का नाम दे रहा है, लेकिन इनका काम होगा भारत में अमेरिकी नरेटिव को बढ़ावा देना।

मुस्लिम फल विक्रेताओं एवं काँवड़ियों वाले विवाद में ‘थूक’ व ‘हलाल’ के अलावा एक और पहलू: समझिए सच्चर कमिटी की रिपोर्ट और असंगठित क्षेत्र...

काँवड़ियों के पास ये विकल्प क्यों नहीं होना चाहिए, अगर वो सिर्फ हिन्दू विक्रेताओं से ही सामान खरीदना चाहते हैं तो? मुस्लिम भी तो लेते हैं हलाल?

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -