Monday, July 26, 2021
Homeराजनीति75% सीटों पर गुजरात पंचायत में BJP का कब्जा... गोधरा में 7 सीटें जीत...

75% सीटों पर गुजरात पंचायत में BJP का कब्जा… गोधरा में 7 सीटें जीत ओवैसी ने मारी बाजी, AAP को निर्दलीय से भी कम

AIMIM ने गोधरा में मात्र 8 सीटों पर अपने उम्मीदवार खड़े किए थे, जिनमें से 7 विजयी रहे। करारी हार के बाद कॉन्ग्रेस नेता अमित चावड़ा ने इस्तीफा तो दिया, लेकिन EVM को दोष देना नहीं भूले।

गुजरात के निकाय चुनावों में अपना दबदबा बरकरार रखने के बाद भारतीय जनता पार्टी ने अब पंचायत चुनाव में भी अपने गढ़ को न सिर्फ बचा लिया है, बल्कि दमदार प्रदर्शन किया है। भाजपा की प्रतिद्वंद्वी कॉन्ग्रेस का प्रदर्शन खासा खराब रहा, जिसके बाद प्रदेश कॉन्ग्रेस के अध्यक्ष अमित चावड़ा और नेता प्रतिपक्ष परेश धनानी ने अपने-अपने पदों से इस्तीफा सौंप दिया। केजरीवाल की AAP और ओवैसी की AIMIM ने भी राज्य में अपनी उपस्थिति दिखाई।

सबसे पहले बात तहसील/तालुका पंचायतों की। तालुका पंचायत की कुल 4771 सीटों में से भाजपा ने 3351 सीटें जीत कर अपना दबदबा बनाए रखा। यानी, कुल 70.23% सीटें भाजपा के खाते में गईं। कॉन्ग्रेस को जहाँ 1252 सीटें प्राप्त हुईं, वहीं AAP ने 31 सीटें जीतीं। हालाँकि, उससे ज्यादा निर्दलीय विजेताओं की संख्या 115 रही। मायावती की बसपा 4 सीटें अपने नाम कर के बस उपस्थिति भर दर्ज करा सकी।

उसके बाद आते हैं जिला पंचायत पर, जिनकी संख्या 979 है। भाजपा ने इनमें से 800 पर कब्ज़ा किया। अर्थात, राज्य की सत्ताधारी पार्टी ने यहाँ 81.71% सीटें जीत कर तहसील पंचायतों से भी बेहतर प्रदर्शन किया। कॉन्ग्रेस को 169 सीटें मिलीं और AAP मात्र 2 सीटों पर सिमट कर रह गईं। वहीं नगरपालिका की 2720 सीटों में से भाजपा ने 2085 (76.65%) सीटें अपने नाम की। इसमें कॉन्ग्रेस को 386, AIMIM को 17 और AAP को 9 सीटें मिलीं।

ये तो रहीं तहसील पंचायतों, जिला पंचायतों और नगरपालिका के चुनाव परिणामों के आँकड़ों की बातें। कॉन्ग्रेस नेता अमित चावड़ा ने इस्तीफा तो दिया, लेकिन EVM को दोष देना नहीं भूले। AIMIM की बात यहाँ ज़रूरी है क्योंकि उसने अधिकतर सीटें गोधरा में जीती हैं। पार्टी ने वहाँ मात्र 8 सीटों पर अपने उम्मीदवार खड़े किए थे, जिनमें से 7 विजयी रहे। मोडासा और गोधरा को मुस्लिमों के प्रभाव वाला इलाका माना जाता है।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने एक बार फिर गुजरात की जनता को धन्यवाद दिया है। अपने गृह राज्य में जीत पर उन्होंने कहा, “गुजरात के शहरी और ग्रामीण क्षेत्र ने सर्वसम्मति से विकास पर मुहर लगाई है। सरकार के जनहित के कार्यों ने जहाँ लोगों के दिलों में जगह बनाई है, वहीं भाजपा कार्यकर्ताओं की अथक मेहनत रंग लाई है। हमारी पार्टी गुजरात के सभी भाई-बहनों की प्रगति और राज्य की उन्नति के लिए काम करती रहेगी।”

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

यूपी के बेस्ट सीएम उम्मीदवार हैं योगी आदित्यनाथ, प्रियंका गाँधी सबसे फिसड्डी, 62% ने कहा ब्राह्मण भाजपा के साथ: सर्वे

इस सर्वे में उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को सर्वश्रेष्ठ मुख्यमंत्री बताया गया है, जबकि कॉन्ग्रेस की उत्तर प्रदेश प्रभारी प्रियंका गाँधी सबसे निचले पायदान पर रहीं।

असम को पसंद आया विकास का रास्ता, आंदोलन, आतंकवाद और हथियार को छोड़ आगे बढ़ा राज्य: गृहमंत्री अमित शाह

असम में दूसरी बार भाजपा की सरकार बनने का मतलब है कि असम ने आंदोलन, आतंकवाद और हथियार तीनों को हमेशा के लिए छोड़कर विकास के रास्ते पर जाना तय किया है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
111,226FollowersFollow
393,000SubscribersSubscribe