Monday, July 22, 2024
Homeराजनीतिआमिर और नसीरुद्दीन शाह को हरामखोर नहीं कहा, मैं 9 को आ रही हूँ:...

आमिर और नसीरुद्दीन शाह को हरामखोर नहीं कहा, मैं 9 को आ रही हूँ: कंगना की संजय राउत को खरी-खरी

कंगना ने अपने वीडियो में उस समय को भी याद किया जब आमिर खान और नसीरुद्दीन शाह ने कहा था कि उन्हें देश में रहने से डर लगता है। उन बयानों को याद करते हुए कंगना ने कहा है, "जब आमिर खान और नसीरुद्दीन शाह ने देश के खिलाफ कहा था, तब तो किसी ने हरामखोर नहीं कहा?"

खुद को हरामखोर कहने वाले शिवसेना सांसद संजय राउत को अभिनेत्री कंगना रनौत ने वीडियो जारी कर जवाब दिया है। साथ ही स्पष्ट कर दिया है कि महाराष्ट्र के सत्ताधारी गठबंधन के नेताओं की धमकी के बावजूद वह 9 सितंबर को मुंबई जाएँगी।

कंगना ने अपने आधिकारिक ट्विटर एकाउंट पर वीडियो को पोस्ट करते हुए लिखा, “संजय जी मुझे अभिव्यक्ति की पूरी आज़ादी है। मुझे अपने देश में कहीं भी जाने की आज़ादी है। मैं आज़ाद हूँ।”

वीडियो में कंगना ने कहा है, “संजय राउत जी आपने मुझे कहा कि मैं एक हरामखोर लड़की हूँ। आप एक सरकारी मुलाजिम हैं। आप तो जानते ही होंगे कि इस देश मे हर दिन नहीं, हर घंटे कितनी लड़कियों के साथ बलात्कार हो रहे हैं। कितनी लड़कियों का शोषण किया जा रहा है। उनकी बॉडी काट कर एसिड डाल फेंक दी जा रही है। उनके काम के जगहों पर उनको गालियाँ दी जा रही है, उनका अपमान किया जा रहा है। उनके खुद के पति उनका कान, नाक, मुँह और जबड़े तोड़ रहे हैं।”

एक्ट्रेस वीडियो में आगे कहती हैं कि संजय जी आपको पता है इन सबका जिम्मेदार कौन है? इन सबका जिम्मेदार है ये मानसिकता। आपने जिसका भौंडा प्रदर्शन पूरे समाज के सामने, पूरे देश के सामने किया है। वो मानसिकता इसकी जिम्मेदार है और इस देश की बेटियाँ आपको इसके लिए माफ नहीं करेंगी। आपने उन सब महिलाओं का शोषण करने वालों का सशक्तिकरण किया है। इस देश की बेटियाँ आपको माफ़ नहीं करेंगी।

कंगना ने अपने वीडियो में उस समय को भी याद किया जब आमिर खान और नसीरुद्दीन शाह ने कहा था कि उन्हें देश में रहने से डर लगता है। उन बयानों को याद करते हुए कंगना ने कहा है, “जब आमिर खान और नसीरुद्दीन शाह ने देश के खिलाफ कहा था, तब तो किसी ने हरामखोर नहीं कहा?”

कंगना रनौत ने आगे कहा, “जिस मुंबई पुलिस की मैं तारीफ करते नहीं थकती थी, आप देख लीजिए मेरे पुराने कोई भी इंटरव्यू। आज जब वो पालघर की लिंचिंग में साधुओं के सामने कुछ नहीं करते हैं। एक लाचार बाप सुशांत के पिता के एफआईआर नहीं लेते हैं और मेरे स्टेटमेंट नहीं लेते हैं तो इस प्रशासन के चलते हुए मैं उनकी निंदा करती हूँ। ये मेरी अभिव्यक्ति की आजादी है। मैं उनकी निंदा करती हूँ और संजय जी मैं आपकी निंदा करती हूँ। आप महाराष्ट्र नहीं हैं। आप ये नहीं कह सकते कि मैंने महाराष्ट्र की निंदा की है।”

उन्होंने मुंबई वापस आने के बारे में बोलते हुए कहा, “संजय जी मैं 9 सिंतबर को आ रही हूँ और आपके लोग कह रहे हैं कि मेरा जबड़ा तोड़ देंगे और मुझे मार डालेंगे। आप लोग मार डालिए क्योंकि इस देश की जो मिट्टी है वो ऐसे ही खून से सींचकर इस देश की गरिमा है और अस्मिता के लिए न जाने कितने लोगों ने अपनी जान दी है और हम भी देंगे क्योंकि हमको भी वो कर्ज निभाना है। मिलते हैं 9 सितंबर को। जय हिंद जय महाराष्ट्र।”

गौरतलब है कि इससे पहले संजय राउत ने सोशल मीडिया के जरिए कंगना पर निशाना साधा था। उन्होंने ट्वीट के जरिए कंगना को धमकाने की कोशिश की थी। राउत ने ट्वीट किया, “मेरी हिम्मत को परखने की गुस्ताखी न करना, पहले भी कई तूफानों का रुख मोड़ चुका हूँ।”

राउत ने कहा था, “अगर वह लड़की महाराष्ट्र से माफी माँगती है तो मैं माफी माँगने के बारे में सोचूँगा। वह मुंबई को मिनी पाकिस्तान कहती है। क्या उसमें हिम्मत है कि वह यही बात अहमदाबाद के लिए कह दे?”

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

काँवड़िए नहीं जान पाएँगे दुकान ‘अब्दुल’ या ‘अभिषेक’ की, सुप्रीम कोर्ट ने लगाई रोक: कहा- बताना होगा सिर्फ मांसाहार/शाकाहार के बारे में,

सुप्रीम कोर्ट ने उत्तर प्रदेश और उत्तराखंड के कांवड़ रूट पर दुकानदारों के नाम दर्शाने वाले आदेश पर अंतरिम रोक लगा दी है।

AAP विधायक की वकीलगिरी का हाई कोर्ट ने उतारा भूत: गलत-सलत लिख कर ले गया था याचिका, लग चुका है बीवी को कुत्ते से...

दिल्ली हाईकोर्ट के जज ने सोमनाथ भारती की याचिका पर कहा कि वो नोटिस जारी नहीं कर सकते, उन्हें ये समझ ही नहीं आ रहा है, वो मामला स्थगित करते हैं।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -