Tuesday, July 23, 2024
Homeराजनीति'19 साल का लड़का देश के लिए खतरा कैसे?': अतीक अहमद के बेटे के...

’19 साल का लड़का देश के लिए खतरा कैसे?’: अतीक अहमद के बेटे के एनकाउंटर पर भड़के कपिल सिब्बल तो लोगों ने याद दिलाई कसाब की उम्र

"कपिल सिब्बल का कहना है कि 19 साल का असद देश और समाज के लिए खतरा कैसे हो सकता है? इसका जबाव ये है कि खतरा तो देश के लिए कपिल सिब्बल और कपिल सिब्बल जैसे लोग भी हैं।"

पूर्व कॉन्ग्रेस नेता और वकील कपिल सिब्बल ने अतीक अहमद के बेटे असद के एनकाउंटर पर सवाल खड़े कर दिए हैं। सिब्बल ने कहा है कि 19 साल का लड़का देश की सुरक्षा में खतरा कैसे हो सकता है? यही नहीं, कपिल सिब्बल ने इस मामले में सुप्रीम कोर्ट से हस्तक्षेप करने की भी अपील की। उनके इस बयान के बाद नेटिजेन्स उन्हें लताड़ लगाते दिखाई दे रहे हैं।

असद अहमद के एनकाउंटर को लेकर कपिल सिब्बल ने कहा है कि आखिर 19 साल का लड़का देश के लिए खतरा कैसे बन सकता है? सिब्बल ने आगे कहा कि अगर वो सच में खतरा था तो उसके पैर में गोली मारकर उसे पकड़ा जा सकता था और आगे की कार्रवाई की जा सकती थी। लेकिन उसे मारने की क्या जरूरत थी।

उन्होंने आगे कहा है एनकाउंटर दिखाता है कि पूरे कानूनी ढांचे में ही दिक्कत आ गई है। केवल एनकाउंटर ही नहीं, पूरी प्रक्रिया को फिर से देखने की जरूरत है। सुप्रीम को इस मामले में स्वत: संज्ञान लेना चाहिए। अगर ऐसा नहीं होता है तो यह सब ऐसे ही चलता रहेगा। सिब्बल ने आगे है कि उन्हें उम्मीद है सुप्रीम कोर्ट इन एनकाउंटर को देखते हुए कोई बड़ा संदेश देगा। देश में किसे गिरफ्तार किया जाना चाहिए और उसे कितने समय तक जेल में रहना चाहिए। इसको लेकर कानून की पूरी प्रक्रिया को सुप्रीम कोर्ट द्वारा सख्ती से तय किया जाना चाहिए।

कपिल सिब्बल के इस बयान के बाद से सोशल मीडिया पर लोग उन्हें फटकार लगाते हुए नजर आ रहे हैं। विक्रम गौड़ नामक यूजर ने कहा है, “कपिल सिब्बल जी, 2008 में अजमल कसाब 20-21 साल का था। आपके हिसाब से वह एक खतरा नहीं था?”

शिवम त्यागी नामक यूजर ने लिखा है, “कपिल सिब्बल साब पूछ रहे हैं कि क्या 19 साल का लड़का, असद अहमद, देश की सुरक्षा के लिए खतरा हो सकता है? लगता है कपिल सिब्बल पिछले 55 दिन से सो रहे थे इसलिए उन्हें पता नहीं चला कि इसी 19 साल के लड़के ने दिन-दिहाड़े ताबड़तोड़ गोलियाँ मार कर एक गवाह और दो पुलिसकर्मियों की हत्या कर दी थी। पता नहीं यह वकालत क्या और कैसे करते होंगे?”

चौधरी साब नामक ट्विटर यूजर ने ट्वीट कर कहा, “इन्हीं कपिल सिब्बल ने आतंकी याकूब मेमन की फाँसी रुकवाने के लिए आधी रात को सुप्रीम कोर्ट खुलवा दिया था, इनसे देशभक्ति की आशा करना, अंधों के शहर में चश्मे बेचने की तरह है।”

एक अन्य यूजर ने ट्वीट करते हुए यह बताने की कोशिश की कि एनकाउंटर से कपिल सिब्बल का नुकसान हो गया है। इसलिए वह इस तरह की भाषा बोल रहे हैं। उसने लिखा, “अगर केस सुप्रीम कोर्ट में आता तो वकालत करने तो मिलती यही ना। यही दर्द हो रहा है कपिल सिब्बल जी को। कपिल सिब्बल जी का काफी नुकसान हो गया।”

काशी के पंडित नामक यूजर ने लिखा, “कपिल सिब्बल को लगता है केवल 52 साल का लड़का ही देश के लिए खतरा है।”

एक अन्य यूजर ने लिखा, “कपिल सिब्बल का बेटा थोड़ी मरा था वैसे भी कपिल सिब्बल तो कसाब को भी बचाना चाहता था।”

एक यूजर ने ट्वीट कर लिखा, “कपिल सिब्बल का कहना है कि 19 साल का असद देश और समाज के लिए खतरा कैसे हो सकता है? इसका जबाव ये है कि खतरा तो देश के लिए कपिल सिब्बल और कपिल सिब्बल जैसे लोग भी हैं।”

तुम्हारा आनंद नामक यूजर ने ट्वीट कर लिखा, “कपिल सिब्बल के लिए तो श्रीराम भी काल्पनिक थे और इस्लाम को मानने वाले शान्तिदूत दूध के धुले हैं। अतीक अहमद ने खुद अपने बयान में पाकिस्तान के साथ साठ गाँठ होने की बात स्वीकार की थी कपिल सिब्बल जी। हमें योगी आदित्यनाथ जी पर पूरा भरोसा है।”

एक यूजर ने फटकार लगाते हुए लिखा, “जब कोई अपना मरेगा तो पता चलेगा कपिल सिब्बल को। ये बात उमेश की विधवा पत्नी और बूढ़ी माँ से पूछो कि उसने उनके घर के सामने उनके बेटे को गोलियों से छलनी कर दिया।”

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

20000 महिलाओं को रेप-मौत से बचाने के लिए जब कॉन्ग्रेसी मंत्री ने RSS से माँगी थी मदद: एक पत्र में दर्ज इतिहास, जिसे छिपा...

पत्र में कहा गया था कि आरएसएस 'फील्ड वर्क' के लिए लोगों को अत्यधिक प्रशिक्षित करेगा और संघ प्रमुख श्री गोलवर्कर से परामर्श लिया जा सकता है।

कागज तो दिखाना ही पड़ेगा: अमर, अकबर या एंथनी… भोले के भक्तों को बेचना है खाना, तो जरूरी है कागज दिखाना – FSSAI अब...

सुप्रीम कोर्ट ने अपने आदेश में कहा कि कांवड़ रूट में नाम दिखने पर रोक लगाई जा रही है, लेकिन कागज दिखाने पर कोई रोक नहीं है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -