Friday, July 19, 2024
Homeराजनीति'आखिरकार पोप को मिला भगवान से मिलने का मौका': ईसाइयों का मजाक उड़ाने के...

‘आखिरकार पोप को मिला भगवान से मिलने का मौका’: ईसाइयों का मजाक उड़ाने के बाद केरल कॉन्ग्रेस ने माँगी माफी, PM मोदी से मुलाकात पर दिखाई थी घृणा

कॉन्ग्रेस ने कहा कि उसका कोई भी कार्यकर्ता पोप की बेइज्जती करने की बात सोच भी नहीं सकता। दूसरी तरफ पीएम मोदी को लेकर कॉन्ग्रेस ने कहा कि उसे पीएम मोदी का मजाक उड़ाने से कोई गुरेज नहीं है क्योंकि उन्होंने खुद को भगवान बताया था।

कॉन्ग्रेस ने एक्स (पहले ट्विटर) पर प्रधानमन्त्री नरेन्द्र मोदी और ईसाइयों के सबसे बड़े धर्मगुरु पोप को लेकर की गई एक पोस्ट को लेकर माफी माँगी है। इस पोस्ट में कॉन्ग्रेस की केरल शाखा ने पीएम मोदी को भगवान बताते हुए उनका और पोप का मजाक उड़ाया था। केरल कॉन्ग्रेस ने इसको लेकर 16 जून, 2024 को माफी माँग ली है।

केरल कॉन्ग्रेस ने इस विषय में लिखा, “इस देश की जनता जानती है कि किसी भी धर्म, धर्मगुरुओं और मूर्ति का अपमान करना भारतीय राष्ट्रीय कॉन्ग्रेस की परंपरा नहीं है। कॉन्ग्रेस एक ऐसा आंदोलन है जो सभी धर्मों और आस्थाओं को एक साथ जोड़ती है और लोगों को एक सौहार्द के माहौल में आगे बढ़ाती है।”

कॉन्ग्रेस ने कहा कि उसका कोई भी कार्यकर्ता पोप की बेइज्जती करने की बात सोच भी नहीं सकता। दूसरी तरफ पीएम मोदी को लेकर कॉन्ग्रेस ने कहा कि उसे पीएम मोदी का मजाक उड़ाने से कोई गुरेज नहीं है क्योंकि उन्होंने खुद को भगवान बताया था।

कॉन्ग्रेस ने लिखा, “कोई भी कॉन्ग्रेस कार्यकर्ता पोप का अपमान करने के बारे में दूर-दूर तक नहीं सोच सकता, जिन्हें दुनिया भर के ईसाई भगवान के समान मानते हैं। हालाँकि, कॉन्ग्रेस को नरेंद्र मोदी का मजाक उड़ाने में कोई हिचक नहीं है, जो खुद को भगवान बताकर इस देश के आस्तिकों का अपमान करते हैं।”

केरल कॉन्ग्रेस ने इसके बाद अपनी विवादास्पद पोस्ट लेकर भाजपा के आलोचना करने को ही गलत ठहरा दिया। कॉन्ग्रेस ने लिखा, “इस तरह से वह लोग मोदी और उनके साथी सुरेन्द्रन की सांप्रदायिक मानसिकता को समझ पाएँगे, जो नरेंद्र मोदी के राजनीतिक खेल को पोप के अपमान के रूप में चित्रित कर रहे हैं।”

आगे कॉन्ग्रेस ने मणिपुर के मुद्दे को इससे जोड़ दिया, “सुरेन्द्रन और उनके सहयोगी ईसाइयों को ऐसे लोगों के समूह के रूप में नीचा दिखाने की कोशिश कर रहे हैं जिनमें कोई आत्मसम्मान नहीं है। अगर ईसाई समुदाय के प्रति सच्चा प्रेम ही है तो मोदी और उनके साथी जो मणिपुर में उनके प्रार्थना स्थलों को जलाए जाने पर चुप रहे, उन्हें पहले ईसाई समुदाय से बिना शर्त माफी माँगनी चाहिए।”

गौरतलब है कि केरल भाजपा अध्यक्ष के सुरेन्द्रन ने रविवार (16 जून, 2024) को आरोप लगाया कि केरल कॉन्ग्रेस का एक्स हैंडल ‘कट्टरपंथी इस्लामवादियों’ या ‘अर्बन नक्सलियों’ द्वारा चलाया जा रहा है, जिसने राष्ट्रवादी नेताओं पर अपमानजनक पोस्ट करने के बाद अब पोप और ईसाई समुदाय का मजाक उड़ाना शुरू कर दिया है।

यह सब बयानबाजी करने के बाद केरल कॉन्ग्रेस ने माफी का जिक्र किया। पार्टी ने लिखा,”अगर इस पोस्ट से ईसाइयों को कोई भावनात्मक या मानसिक पीड़ा हुई है, तो हम बिना शर्त माफी मांगते हैं।” यह पूरा मामला केरल कॉन्ग्रेस द्वारा रविवार को एक एक्स पोस्ट साझा करने के बाद चालू हुआ, इसमें पीएम मोदी की एक तस्वीर शामिल थी जिसमें वह कैथोलिक ईसाइयों के सबसे बड़े धर्मगुरु पोप के साथ एक बातचीत कर रहे थे।

पोप फ्रांसिस के साथ नरेंद्र मोदी की तस्वीर के साथ केरल कॉन्ग्रेस ने मज़ाक उड़ाते हुए लिखा, ”आखिरकार, पोप को भगवान से मिलने का मौका मिल ही गया।” कॉन्ग्रेस यह लिखते वक्त भूल गई कि उसने पीएम मोदी की तुलना जीसस से कर दी, क्योंकि पोप के भगवान तो जीसस ही हैं।

पीएम मोदी और पोप की यह तस्वीर हाल ही में संपन्न जी7 शिखर सम्मेलन के दौरान ली गई थी, जिसमें पीएम नरेंद्र मोदी को भाग लेने के लिए इटली आमंत्रित किया गया था। पोप फ्रांसिस भी इस कार्यक्रम में शामिल हुए थे, क्योंकि उन्हें आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस के पक्ष और विपक्ष के बारे में बात करने के लिए आमंत्रित किया गया था।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

फैक्ट चेक’ की आड़ लेकर भारत में ‘प्रोपेगेंडा’ फैलाने की तैयारी कर रहा अमेरिका, 1.67 करोड़ रुपए ‘फूँक’ तैयार कर रहा ‘सोशल मीडिया इन्फ्लूएंसर्स’...

अमेरिका कथित 'फैक्ट चेकर्स' की फौज को तैयार करने की योजना को चतुराई से 'डिजिटल लिटरेसी' का नाम दे रहा है, लेकिन इनका काम होगा भारत में अमेरिकी नरेटिव को बढ़ावा देना।

मुस्लिम फल विक्रेताओं एवं काँवड़ियों वाले विवाद में ‘थूक’ व ‘हलाल’ के अलावा एक और पहलू: समझिए सच्चर कमिटी की रिपोर्ट और असंगठित क्षेत्र...

काँवड़ियों के पास ये विकल्प क्यों नहीं होना चाहिए, अगर वो सिर्फ हिन्दू विक्रेताओं से ही सामान खरीदना चाहते हैं तो? मुस्लिम भी तो लेते हैं हलाल?

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -