Saturday, July 13, 2024
Homeदेश-समाजकेरल के राज्यपाल को अब Z+ सिक्योरिटी, SFI के गुंडों ने दिखाए थे काले...

केरल के राज्यपाल को अब Z+ सिक्योरिटी, SFI के गुंडों ने दिखाए थे काले झंडे: बोले आरिफ मोहम्मद खान – अराजकता को बढ़ावा दे रहे CM पिनाराई विजयन

राज्यपाल को ऐसे सड़क किनारे बैठे देख मौके पर कई लोग इकट्ठा हो गए। इससे राज्यपाल का पारा और चढ़ गया और उनका सारा गुस्सा पुलिसकर्मियों पर निकला। उन्हें वीडियो में पुलिस कर्मियों से सख्ती से बात करते हुए भी देखा जा सकता है।

केंद्रीय गृह मंत्रालय ने केरल के राज्यपाल आरिफ मोहम्मद खान को Z+ सिक्योरिटी देने का फैसला किया है। दरअसल केंद्र सरकार का ये फैसला राज्यपाल को स्टूडेंट्स फेडरेशन ऑफ इंडिया (SFI) के गुंडों के शनिवार (27 जनवरी, 2024) को काले झंडे दिखाए जाने के बाद आया है।

राज्यपाल के आधिकारिक एक्स हैंडल पर केरल राजभवन PRO के हवाले से पोस्ट किया गया, “केंद्रीय गृह मंत्रालय ने केरल राजभवन को सूचित किया है कि सीआरपीएफ का जेड+ सुरक्षा कवर माननीय राज्यपाल और केरल राजभवन तक बढ़ाया जा रहा है।” राज्यपाल ने सबसे लिए सीएम को जिम्मेदार ठहराया है।

राज्यपाल आरिफ मोहम्मद खान ने मीडिया से कहा, “मुझे 11 बजे स्वामी सदानंद आश्रम में सुबह 11 बजे एक बैठक में जाना था। जब मैं यहाँ पहुँचा तो कुछ लोगों ने मेरी कार को हिट करने की कोशिश की। मैंने पहले ही कहा मुझे कोई परेशानी नहीं है, किसी ने काले झंडे दिखाए, लेकिन अगर कोई मेरी कार के नजदीक आता है। तब मैं नीचे उतरूँगा।”

उन्होंने आगे कहा,”जो मैंने देखा वो अहम नहीं है, लेकिन ये महत्वपूर्ण है वहाँ 70 पुलिस वाले थे और आप यहाँ पर खड़े पुलिसवालों को गिन सकते हैं यहाँ कितने पुलिस वाले हैं। मेरा केवल एक सवाल है कि अगर चीफ मिनिस्टर इस रोड से जा रहे होते तो क्या पुलिस उन लोगों के साथ जाकर खड़ी होती तो हाथों में काले झंडे लिए थे और उन्हें कार को हिट करने की इजाजत देती। मैं पुलिस को दोष नहीं दे रहा, क्योंकि उनको आदेश सुप्रीम ऑथिरीटी से मिलते हैं और वो राज्य के चीफ मिनिस्टर हैं।”

राज्यपाल खान ने आरोप लगाया हैं, “यह राज्य के मुख्यमंत्री हैं जो राज्य में अराजकता को बढ़ावा दे रहे हैं। वह पुलिस को इन कानून तोड़ने वालों को संरक्षण देने का निर्देश दे रहे हैं। उनमें से कई ऐसे हैं जिनके खिलाफ कई आपराधिक मामले अदालत में लंबित हैं। वही इन लोगों को संरक्षण दे रहे हैं। पुलिस ने 17 लोगों पर केस दर्ज किया है। हालाँकि मैंने देखा कि वहाँ 50 से ज्यादा लोग थे।”

दरअसल मुख्यमंत्री पिनराई विजयन की पार्टी सीपीआई (एम) की स्टूडेंट ब्रॉन्च SFI के गुंडों ने राज्यपाल आरिफ के शनिवार कोट्टाराक्करा जिले में एक समारोह में जाने के दौरान काले झंडे दिखाकर विरोध प्रदर्शन किया।

इससे राज्यपाल गुस्से में आ गए और SFI के गुड़ों की गिरफ्तारी की माँग को लेकर सड़क किनारे एक दुकान पर धरने पर जा बैठे। सोशल मीडिया पर इस घटना के वीडियो वायरल हैं।

इनमें राज्यपाल को कोल्लम जिले के निलामेल इलाके में एक व्यस्त एमसी रोड पर कार से बाहर निकलते हुए देखा जा सकता है। यहाँ वो एक स्थानीय दुकान से कुर्सी लेते हुए और सड़क के किनारे बैठकर प्रदर्शनकारियों के खिलाफ कार्रवाई की माँग करते दिखते हैं।

राज्यपाल को ऐसे सड़क किनारे बैठे देख मौके पर कई लोग इकट्ठा हो गए। इससे राज्यपाल का पारा और चढ़ गया और उनका सारा गुस्सा पुलिसकर्मियों पर निकला। उन्हें वीडियो में पुलिसकर्मियों से सख्ती से बात करते हुए भी देखा जा सकता है। वो गुस्से में कहते दिखते हैं कि पुलिस ही कानून तोड़ेगी तो कानून का पालन कौन करवाएगा। बता दें कि ये पहली बार नहीं है जब राज्यपाल आरिफ मोहम्मद खान के खिलाफ SFI के गुंडों ने मोर्चा खोला है।

इससे पहले दिसंबर, 2023 में राज्यपाल खान के काफिले पर राजधानी तिरुवनंतपुरम में SFI ने हमला किया था। तब राज्य खुफिया विभाग ने कहा था कि हमारी राज्यपाल के खिलाफ SFI के विरोध प्रदर्शन को लेकर चेतावनियाँ जारी करने के बाद उन्हें अतिरिक्त सुरक्षा नहीं दी गई। पुलिस के आला अधिकारियों ने इसे नजरअंदाज कर दिया।

यही नहीं CM पिनाराई विजयन के दामाद PA मोहम्मद रियास ने राज्यपाल खान को लेकर 17 दिसंबर, 2023 को तीखा बयान दिया था। राज्य के पयर्टन मंत्री रियास ने कहा था CPM राज्यपाल खान को उनकी बकवास को बंद करने के लिए नहीं कह रही, क्योंकि वो उनके पद की इज्जत करती है।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

जम्मू कश्मीर के उप-राज्यपाल को अब दिल्ली के LG जितनी शक्तियाँ, ट्रांसफर-पोस्टिंग के लिए भी उनकी अनुमति ज़रूरी: मोदी सरकार के आदेश पर भड़के...

जब से जम्मू कश्मीर का पुनर्गठन हुआ है, तब से वहाँ चुनाव नहीं हो पाए हैं। मगर जब भी सरकार का गठन होगा तब सबसे अधिक शक्तियाँ राज्यपाल के पास होंगी। ये शक्तियाँ ऐसी ही हैं, जैसे दिल्ली के एलजी के पास होती है।

लालू यादव ने हाथ जोड़ अनिल अंबानी को किया प्रणाम, प्रियंका चतुर्वेदी ने एन्जॉय किया ‘यादगार क्षण’: अनंत अंबानी की शादी में I.N.D.I. नेताओं...

अखिलेश यादव अपनी बेटी और पत्नी डिंपल के साथ समारोह में मौजूद रहे। यहाँ तक कि कॉन्ग्रेस नेता सलमान ख़ुर्शीद भी अपने परिवार के साथ भोज खाने के लिए पहुँचे।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -