Tuesday, July 23, 2024
Homeराजनीति'मुसलमानों का इलाका है, नाराज होगा, सेंसेटिव मामला है...': DC अबु इमरान और कॉन्ग्रेसी...

‘मुसलमानों का इलाका है, नाराज होगा, सेंसेटिव मामला है…’: DC अबु इमरान और कॉन्ग्रेसी MLA बंधु तिर्की का ऑडियो वायरल

''सेंसेटिव मामला है वहाँ पर। आस-पास मुसलमानों का इलाका है। बचाने वाला मुसलमान है, सीओ भी मुसलमान है, डीसी भी मुसलमान है। ये दूसरा टर्न ले लेगा तो फिर मुसलमान काफी नाराज होगा।''

झारखंड के लातेहार जिले के DC अबु इमरान का विवादित ऑडियो सोशल मीडिया पर तेजी से वायरल हो रहा है। यह ऑडियो डीसी और प्रदेश कॉन्ग्रेस के कार्यकारी अध्‍यक्ष और विधायक बंधु तिर्की के बीच फोन पर हुई बातचीत का है, जिसमें वह अबु इमरान को मुस्लिम बहुल इलाके में जाने से रो​क रहे हैं। दरअसल, बालूमाथ थाना क्षेत्र के सेरेगाड़ा इलाके में 7 आदिवासी बच्चियों की डूबने से मौत हो गई थी। बंधु तिर्की शोक व्यक्त करने के लिए उनके परिवारों से मिलने जा रहे थे।

इसी दौरान डीसी अबु इमरान ने उनसे फोन पर बात की और कहा, ”सेंसेटिव मामला है वहाँ पर। आस-पास मुसलमानों का इलाका है। बचाने वाला मुसलमान है, सीओ भी मुसलमान है, डीसी भी मुसलमान है। ये दूसरा टर्न ले लेगा तो फिर मुसलमान काफी नाराज होगा।” बंधु तिर्की ने इस ऑडियो की पुष्टि की है, लेकिन इसे सामान्य बातचीत बताया है। वहीं बीजेपी ने डीसी अबु इमरान पर तत्काल कार्रवाई की माँग की है।

झारखंड के पूर्व मुख्यमंत्री रघुवर दास ने ट्वीट​ कर राज्यपाल रमेश बैस से कॉन्ग्रेसी विधायक बंधु तिर्की और लातेहार के DC अबू इमरान के बीच हुई बातचीत के संबंध में पत्र लिखकर कार्रवाई का आग्रह किया है। उन्होंने लिखा है कि बातचीत से स्पष्ट है कि कॉन्ग्रेसी विधायक को आदिवासी समाज की बच्चियों के प्रति कोई संवेदना नहीं है। DC का आचरण भी निंदनीय है।

ऑडियो को लेकर सोशल मीडिया पर भी प्रतिक्रियाएँ सामने आई हैं। एक यूजर ने लिखा, “झारखंड में तुष्टिकरण की राजनीति आज प्रदेश को कहाँ तक लेकर आ गई है इसका अंदाज़ा इस बातचीत से लगाया जा सकता है। लातेहार ज़िले के DC अबु इमरान कॉन्ग्रेस विधायक से कह रहे हैं कि आपलोग मुस्लिम का वोट से जीतते हैं, मुस्लिम का इलाका है आप लोग इतना विजिट करिएगा तो मुस्लिम नाराज हो जाएगा!”

इस मामले पर बीजेपी प्रवक्ता प्रतुल शाहदेव ने कहा कि यह पहला मामला है, जिसमें एक IAS ने इस तरह की भाषा का प्रयोग किया है। एक IAS धर्म और जाति के आधार पर भेदभाव नहीं कर सकते हैं। बंधु तिर्की ने इस ऑडियो की पुष्टि की है। वो उस जगह पर गए थे, जहाँ आदिवासी 7 बच्चियों की मौत हुई थी, लेकिन डीसी कह रहे हैं कि यह मुसलमान का इलाका है। आप लोग यहाँ बार-बार क्यों आ रहे हैं। यह बेहद आपत्तिजनक प्वाइंट है। उन्होंने कहा कि यह पूरा मामला बेहद संगीन है। इस पूरे मामले में तीन बार मुसलमान शब्द का प्रयोग बेहद आपत्तिजनक है। इस संबंध में राज्य सरकार को तत्काल कार्रवाई करनी चाहिए।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

20000 महिलाओं को रेप-मौत से बचाने के लिए जब कॉन्ग्रेसी मंत्री ने RSS से माँगी थी मदद: एक पत्र में दर्ज इतिहास, जिसे छिपा...

पत्र में कहा गया था कि आरएसएस 'फील्ड वर्क' के लिए लोगों को अत्यधिक प्रशिक्षित करेगा और संघ प्रमुख श्री गोलवरकर से परामर्श लिया जा सकता है।

कागज तो दिखाना ही पड़ेगा: अमर, अकबर या एंथनी… भोले के भक्तों को बेचना है खाना, तो जरूरी है कागज दिखाना – FSSAI अब...

सुप्रीम कोर्ट ने अपने आदेश में कहा कि कांवड़ रूट में नाम दिखने पर रोक लगाई जा रही है, लेकिन कागज दिखाने पर कोई रोक नहीं है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -