Thursday, April 15, 2021
Home विविध विषय अन्य रुपए भर की सिगरेट के लिए जब नेहरू ने फूँकवा दिए थे हजारों: किस्सा...

रुपए भर की सिगरेट के लिए जब नेहरू ने फूँकवा दिए थे हजारों: किस्सा भोपाल-इंदौर और हवाई जहाज का

नेहरू भोपाल में थे, उनकी पसंदीदा 555 सिगरेट इंदौर में। वैसे पीने वाले मजबूरी में बीड़ी या ठर्रा से भी काम चला लेते हैं लेकिन नेहरू अलग थे। हवाई जहाज उड़ा, इंदौर गया, 555 सिगरेट लिया और भोपाल लौटा।

पंडित जवाहरलाल नेहरू को कई कारणों से याद किया जा सकता है। आप उन्हें भारत के पहले प्रधानमंत्री, या भारत की पहली महिला प्रधानमंत्री (इंदिरा गाँधी) के पिता या स्वतंत्रता सेनानी के रूप में याद कर सकते हैं। नेहरू को ऐसे व्यक्ति के रूप में भी याद किया जा सकता है, जो सेना या दूरदर्शिता के महत्व को स्वीकार नहीं करते थे। या फिर भारत में होने वाली हर अच्छी चीज के लिए जिम्मेदार (कम से कम कॉन्ग्रेस ऐसा ही सोचती है!)।

नेहरू के जीवन और उनसे जुड़ी कहानियों के इतने पहलू थे कि हर बार, एक दिलचस्प किस्सा सामने आएगा… जो या तो आपको चौंका देगा या विस्मित कर देगा।

ऐसा ही एक किस्सा सिगरेट के प्रति उनके प्यार के बारे में है। अनगिनत तस्वीरों में वह धूम्रपान करते हुए दिखाई देते हैं। निष्पक्ष होने के लिए, उनके समय में, धूम्रपान को स्टेटस सिंबल या ‘कूल’ दिखने का एक तरीका माना जाता था, लेकिन यह एक बुरा नशा है, जिससे छुटकारा पाना मुश्किल है। अगर उस दौरान लोगों को तम्बाकू के दुष्परिणामों का पता चल जाता, तो शायद मुकेश जिंदा होता

नेहरू और सिगरेट ब्रांड 555

पूर्व पीएम नेहरू के बारे में एक कहानी है, जो आज भी किसी को भी लुभा सकती है। भोपाल की अपनी एक यात्रा पर, वह राजभवन में रुकने वाले थे। हालाँकि, कर्मचारियों को पता चला कि उनका पसंदीदा सिगरेट ब्रांड राजभवन में उपलब्ध नहीं है। यह वास्तव में, भोपाल में उपलब्ध नहीं था, और नेहरू अपने भोजन के बाद एक सिगरेट पीने के शौकीन थे।

आम तौर पर, लोगों को लगेगा कि राज भवन के कर्मचारियों ने उनके लिए कोई दूसरा ब्रांड पेश किया होगा। लेकिन नहीं! मध्य प्रदेश की आधिकारिक वेबसाइट के मुताबिक उनकी पसंदीदा सिगरेट का स्टॉक इंदौर से एयरलिफ्ट किया गया!

मध्य प्रदेश राजभवन के वेबसाइट से साभार

जानकारी के मुताबिक किसी को ‘555’ ब्रांड की सिगरेट के कुछ पैकेट इंदौर एयरपोर्ट से लाने का काम दिया गया था। एक विमान ने पैकेज प्राप्त करने के लिए भोपाल से इंदौर के लिए उड़ान भरी, सिगरेट एकत्र की और वापस उड़ान भरी।

वैसे नेहरू-गाँधी परिवार के अपने निजी सुखों के लिए राष्ट्रीय संसाधनों का उपयोग करने का प्यार पीढ़ियों से चला आ रहा है। उनके पोते राजीव गाँधी, भारत के प्रधानमंत्री के रूप में, INS विराट का निजी टैक्सी के रूप में इस्तेमाल करते थे। तत्कालीन प्रधानमंत्री राजीव गाँधी 1987 में नए साल का जश्न मनाने के लिए अपने पूरे परिवार और खास मित्रों के साथ एक लक्षद्वीप गए थे। इस दौरान उनके इटालियन ससुराल वाले भी मौजूद थे।

मेहमानों की सूची में राहुल और प्रियंका के चार दोस्त, सोनिया गाँधी की बहन, बहनोई और उनकी बेटी, उनकी विधवा माँ आर. मैनो, उनके भाई और एक मामा शामिल थे। साथ ही पूर्व सांसद अमिताभ बच्चन, उनकी पत्नी जया और उनके बच्चे अभिषेक और श्वेता भी मौजूद थे। INS विराट को देश की समुद्री सीमाओं की सुरक्षा के लिए तैनात किया गया था, लेकिन उसे गाँधी परिवार को छुट्टी मनाने के लिए ले जाने के लिए भेजा गया।

इतना ही नहीं, उनकी छुट्टी के लिए सभी सुविधाओं को व्यवस्थित करने के लिए सरकारी कर्मचारियों और नौसेना के सैनिकों को तैनात किया गया था। सेना के एक विशेष हेलीकॉप्टर को उनकी सेवा में 24×7 तैनात की गई थी, पूरा प्रशासन राजीव गाँधी के निजी मेहमानों के मनोरंजन की व्यवस्था देख रहा था। आप हमारे पहले प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरू के बारे में अधिक जानकारी यहाँ हमारे आर्काइव में देख सकते हैं।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

Anurag
Multimedia graduate by education. Writer by profession. Poet by heart.

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘अब या तो गुस्ताख रहेंगे या हम, क्योंकि ये गर्दन नबी की अजमत के लिए है’: तहरीक फरोग-ए-इस्लाम की लिस्ट, नरसिंहानंद को बताया ‘वहशी’

मौलवियों ने कहा कि 'जेल भरो आंदोलन' के दौरान लाठी-गोलियाँ चलेंगी, लेकिन हिंदुस्तान की जेलें भर जाएंगी, क्योंकि सवाल नबी की अजमत का है।

चीन के लिए बैटिंग या 4200 करोड़ रुपए पर ध्यान: CM ठाकरे क्यों चाहते हैं कोरोना घोषित हो प्राकृतिक आपदा?

COVID19 यदि प्राकृतिक आपदा घोषित हो जाए तो स्टेट डिज़ैस्टर रिलीफ़ फंड में इकट्ठा हुए क़रीब 4200 करोड़ रुपए को खर्च करने का रास्ता खुल जाएगा।

कोरोना पर कुंभ और दूसरे राज्यों को कोसा, खुद रोड शो कर जुटाई भीड़: संजय राउत भी निकले ‘नॉटी’

संजय राउत ने महाराष्ट्र में कोरोना के भयावह हालात के लिए दूसरे राज्यों को कोसा था। कुंभ पर निशाना साधा था। अब वे खुद रोड शो कर भीड़ जुटाते पकड़े गए हैं।

‘वीडियो और तस्वीरों ने कोर्ट की अंतरात्मा को हिला दिया है…’: दिल्ली दंगों में पिस्टल लहराने वाले शाहरुख को जमानत नहीं

दिल्ली हाई कोर्ट ने दिल्ली दंगों के आरोपित शाहरुख पठान को जमानत देने से इनकार कर दिया है।

ESPN की क्रांति, धार्मिक-जातिगत पहचान खत्म: दिल्ली कैपिटल्स और राजस्थान रॉयल्स के मैच की कॉमेंट्री में रिकॉर्ड

ESPN के द्वारा ‘बैट्समैन’ के स्थान पर ‘बैटर’ और ‘मैन ऑफ द मैच’ के स्थान पर ‘प्लेयर ऑफ द मैच’ जैसे शब्दों का उपयोग होगा।

‘बेड दीजिए, नहीं तो इंजेक्शन देकर उन्हें मार डालिए’: महाराष्ट्र में कोरोना+ पिता को लेकर 3 दिन से भटक रहा बेटा

किशोर 13 अप्रैल की दोपहर से ही अपने कोरोना पॉजिटिव पिता का इलाज कराने के लिए भटक रहे हैं।

प्रचलित ख़बरें

छबड़ा में मुस्लिम भीड़ के सामने पुलिस भी थी बेबस: अब चारों ओर तबाही का मंजर, बिजली-पानी भी ठप

हिन्दुओं की दुकानों को निशाना बनाया गया। आँसू गैस के गोले दागे जाने पर हिंसक भीड़ ने पुलिस को ही दौड़ा-दौड़ा कर पीटा।

‘कल के कायर आज के मुस्लिम’: यति नरसिंहानंद को गाली देती भीड़ को हिन्दुओं ने ऐसे दिया जवाब

यमुनानगर में माइक लेकर भड़काऊ बयानबाजी करती भीड़ को पीछे हटना पड़ा। जानिए हिन्दू कार्यकर्ताओं ने कैसे किया प्रतिकार?

बेटी के साथ रेप का बदला? पीड़ित पिता ने एक ही परिवार के 6 लोगों की लाश बिछा दी, 6 महीने के बच्चे को...

मृतकों के परिवार के जिस व्यक्ति पर रेप का आरोप है वह फरार है। पुलिस ने हत्या के आरोपित को हिरासत में ले लिया है।

थूको और उसी को चाटो… बिहार में दलित के साथ सवर्ण का अत्याचार: NDTV पत्रकार और साक्षी जोशी ने ऐसे फैलाई फेक न्यूज

सोशल मीडिया पर इस वीडियो के बारे में कहा जा रहा है कि बिहार में नीतीश कुमार के राज में एक दलित के साथ सवर्ण अत्याचार कर रहे।

जानी-मानी सिंगर की नाबालिग बेटी का 8 सालों तक यौन उत्पीड़न, 4 आरोपितों में से एक पादरी

हैदराबाद की एक नामी प्लेबैक सिंगर ने अपनी बेटी के यौन उत्पीड़न को लेकर चेन्नई में शिकायत दर्ज कराई है। चार आरोपितों में एक पादरी है।

पहले कमल के साथ चाकूबाजी, अगले दिन मुस्लिम इलाके में एक और हिंदू पर हमला: छबड़ा में गुर्जर थे निशाने पर

राजस्थान के छबड़ा में हिंसा क्यों? कमल के साथ फरीद, आबिद और समीर की चाकूबाजी के अगले दिन क्या हुआ? बैंसला ने ऑपइंडिया को सब कुछ बताया।
- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

292,985FansLike
82,216FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe