Saturday, July 13, 2024
Homeराजनीति'अमृत काल का पहला बजट' : FM निर्मला सीतारमण लाईं 2023 का पेपरलेस बजट,...

‘अमृत काल का पहला बजट’ : FM निर्मला सीतारमण लाईं 2023 का पेपरलेस बजट, रुपए में तेजी आई

वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण मोदी सरकार का 11वाँ बजट (Budget 2023) पेश कर रही हैं। बजट पेश करने से पहले उन्होंने राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू से अनुमति ली। उसके बाद केंद्रीय बैठक में शामिल हुईं। बजट पीएम मोदी की अध्यक्षता में पेश किया जा रहा है।

साल 2024 के लोकसभा चुनावों से पहले संसद में आज (1 फरवरी 2023) वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण मोदी सरकार का 11वाँ बजट (Budget 2023) पेश करना शुरू कर दिया है। बजट पेश करने से पहले उन्होंने राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू से अनुमति ली। उसके बाद पीएम मोदी की अध्यक्षता में हुई कैबिनेट मीटिंग से बजट की मंजूरी ली। 11 बजे से उन्होंने संसद में बजट पढ़ना शुरू किया और कहा कि ये अमृत काल का पहला बजट है। पूरी दुनिया की नजर भारत की अर्थव्यवस्था पर है। हमें विश्वास है कि देश की आजादी के लिए लड़ने वाले स्वतंत्रता सेनानी जहाँ भी होंगे खुश होंगे।

बजट की खास बात यह है कि वित्त मंत्री इस बार भी पेपरलेस बजट पेश कर रही हैं। बताया जा रहा है कि पत्रकारों व अन्य लोगों को इस बार बजट की हार्ड कॉपी पढ़ने को नहीं मिलेगी। केवल मंत्रियों एवं सांसदों के पढ़ने के लिए हार्ड कॉपी भी प्रिंट कराई गई हैं। इस बजट में सरकार रोड और रेल नेटवर्क जैसे इन्फ्रास्ट्रक्चर के लिए बड़ा बजट जारी कर सकती है। वहीं पीएम किसान सम्मान निधि और मनरेगा जैसी कल्याणकारी स्कीमों के लिए भी आवंटन में बढ़ौतरी देखी जा सकती है।

बता दें कि संसद में बजट पेश होने से ठीक पहले रुपए को डॉलर के मुकाबले मजबूत होते देखा गया। रिपोर्ट्स बता रही हैं रुपए में आज 12 पैसे की तेजी देखी गई है। फिलहाल रुपया 81.76 रुपए का कारोबार कर रहा है।

उल्लेखनीय है कि इससे पहले निर्मला सीतारमण ने बजट सत्र की शुरुआत करते हुए मंगलवार (31 जनवरी, 2023) को संसद में आर्थिक सर्वेक्षण 2023 पेश किया था। इस सर्वे में देश की जीडीपी में तेजी से बढ़ोतरी की उम्मीद जताई गई थी। साथ ही कहा गया था कि भारत दुनिया की सबसे तेजी से बढ़ती अर्थव्यवस्था बना रहेगा। जारी वित्तीय वर्ष की पहली तीन तिमाही में सरकार ने जीएसटी से 13.40 लाख करोड़ रुपए का राजस्व एकत्रित किया है। आर्थिक सर्वेक्षण 2023 मुख्य आर्थिक सलाहकार वी अनंत नागेश्वरन के मार्गदर्शन में आर्थिक मामलों के विभाग (DEA) द्वारा तैयार किया गया। 

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

लैंड जिहाद की जिस ‘मासूमियत’ को देख आगे बढ़ जाते हैं हम, उससे रोज लड़ते हैं प्रीत सिंह सिरोही: दिल्ली को 2000+ मजार-मस्जिद जैसी...

प्रीत सिरोही का कहना है कि वह इन अवैध इमारतों को खाली करवाएँगे। इन खाली हुई जमीनों पर वह स्कूल और अस्पताल बनाने का प्रयास करेंगे।

‘आपातकाल तो उत्तर भारत का मुद्दा है, दक्षिण में तो इंदिरा गाँधी जीत गई थीं’: राजदीप सरदेसाई ने ‘संविधान की हत्या’ को ठहराया जायज

सरदेसाई ने कहा कि आपातकाल के काले दौर में पूरे देश पर अत्याचार करने के बाद भी कॉन्ग्रेस चुनावों में विजयी हुई, जिसका मतलब है कि लोग आगे बढ़ चुके हैं।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -