Monday, July 22, 2024
Homeराजनीतिरामनाथ कोविंद, अमित शाह, गुलाम नबी आज़ाद... 'वन नेशन, वन इलेक्शन' पर मोदी सरकार...

रामनाथ कोविंद, अमित शाह, गुलाम नबी आज़ाद… ‘वन नेशन, वन इलेक्शन’ पर मोदी सरकार ने बनाई कमिटी, इन 8 नामों को मिली जगह

केंद्र सरकार ने जी-20 शिखर सम्मेलन के बाद संसद का विशेष सत्र बुलाया है। तभी से यह कयास लगाए जा रहे हैं कि मोदी सरकार एक देश, एक इलेक्शन बिल पेश कर सकती है।

देश में अगले साल लोकसभा चुनाव होने हैं। वहीं मोदी सरकार की घोषणा के बाद वन नेशन, वन इलेक्शन पर बहस तेज हो गई है। इस मामले में केंद्र सरकार ने पूर्व राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद की अध्यक्षता में गठित कमेटी के सदस्यों के नामों का ऐलान कर दिया है। 8 सदस्यीय समिति में केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह, कॉन्ग्रेस नेता अधीर रंजन चौधरी और गुलाम नबी आजाद भी शामिल हैं। 

मीडिया रिपोर्ट के अनुसार, एक राष्ट्र, एक चुनाव को लेकर कानून मंत्रालय ने शनिवार (2 सितम्बर, 2023) को नोटिफिकेशन भी जारी कर दिया है। 

8 सदस्यीय समिति में कौन-कौन है शामिल 

बता दें कि केंद्र की मोदी सरकार ने शुक्रवार (1 सितम्बर, 2023) को पूर्व राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद के नेतृत्व में एक देश, एक चुनाव (One Nation, One Election) की जाँच के लिए एक कमेटी बनाई थी। वहीं अब कानून मंत्रालय ने समिति के सभी 8 सदस्यों की जानकारी दी है।

इस समिति में पूर्व राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद की अध्यक्षता में केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह, लोक सभा में कॉन्ग्रेस के नेता अधीर रंजन चौधरी, वरिष्ठ नेता गुलाम नबी आजाद, पूर्व वित्त आयोग के चैयरमैन एनके सिंह, संविधान विशेषज्ञ सुभाष कश्यप, सुप्रीम कोर्ट के अधिवक्ता हरीश साल्वे, पूर्व चीफ सीवीसी संजय कोठारी सदस्य बनाए गए हैं। वहीं, केंद्रीय कानून मंत्री अर्जुन राम मेघवाल को कमेटी में विशेष आमंत्रित सदस्य बनाया गया है। 

संसद के विशेष सत्र में पेश हो सकता है विधेयक

गौरतलब है कि जब से केंद्र सरकार ने जी-20 शिखर सम्मेलन के बाद संसद का विशेष सत्र बुलाया है। तभी से यह कयास लगाए जा रहे हैं कि मोदी सरकार एक देश, एक इलेक्शन बिल पेश कर सकती है। संसद का यह सत्र 18 से 22 सितंबर तक चलेगा।

बता दें कि विपक्षी दल मोदी सरकार के एक देश, एक चुनाव (One Nation, One Election) विधेयक के विरोध में हैं। ऐसे में मोदी सरकार के लिए संसद के दोनों सदनों से इस बिल को पारित कराना बड़ी चुनौती होगी, क्योंकि इसके लिए देश के आधे राज्यों की सहमति जरूरी है। अब तो यह समय ही बताएगा कि संसद के विशेष सत्र में ये विधेयक पेश होगा या नहीं। 

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘कोई भी कार्रवाई हो तो हमारे पास आइए’: हाईकोर्ट ने 6 संपत्तियों को लेकर वक्फ बोर्ड को दी राहत, सेन्ट्रल विस्टा के तहत इन्हें...

दिसंबर 2021 में सॉलिसिटर जनरल तुषार मेहता ने हाईकोर्ट को आश्वासन दिया था कि वक्फ बोर्ड की संपत्तियों को कोई नुकसान नहीं पहुँचाया जाएगा।

‘कागज़ पर नहीं, UCC को जमीन पर उतारिए’: हाईकोर्ट ने ‘तीन तलाक’ को बताया अंधविश्वास, कहा – ऐसी रूढ़िवादी प्रथाओं पर लगे लगाम

मध्य प्रदेश हाई कोर्ट ने कहा है कि समान नागरिक संहिता (UCC) को कागजों की जगह अब जमीन पर उतारने की जरूरत है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -