Tuesday, January 31, 2023
Homeराजनीतिजेवर इंटरनेशनल एयरपोर्ट की PM मोदी ने रखी नींव, कहा- बेहतर कनेक्टिविटी के साथ...

जेवर इंटरनेशनल एयरपोर्ट की PM मोदी ने रखी नींव, कहा- बेहतर कनेक्टिविटी के साथ दिल्ली-NCR और यूपी के करोड़ों लोगों को होगा फायदा

मौजूदा समय में उत्तर प्रदेश में आठ एयरपोर्ट्स संचालित हो रहे हैं, जबकि 13 एयरपोर्ट्स और सात एयर स्ट्रिप्स निर्माणाधीन हैं। जिन एयरपोर्ट्स से कमर्शियल फ्लाइट्स उड़ान भर रही हैं उनमें लखनऊ, वाराणसी, कुशीनगर, गोरखपुर, आगरा, कानपुर, प्रयागराज और गाजियाबाद का हिंडन शामिल है।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आज यानि 25 नवंबर 2021 को उत्तर प्रदेश को एक और इंटरनेशनल एयरपोर्ट की सौगात दी। उन्होंने ग्रेटर नोएडा के जेवर में भारत के सबसे बड़े एयरपोर्ट की आधारशिला रखी। इस अवसर पर PM मोदी के साथ CM योगी और यूपी सरकार के दूसरे मंत्री भी मौजूद रहे।

इस अवसर पीएम मोदी ने विशाल जनसमूह को सम्बोधित करते हुए कहा, “आज हम 85 फीसदी विमानों को एमआरओ सेवा के लिए विदेश भेजते हैं और इस काम के पीछे हर साल 15 हजार करोड़ रुपए खर्च होते हैं। 30 हजार करोड़ में ये प्रोजेक्ट बनने वाला है। हजारों करोड़ रुपए खर्च होते हैं, जिसका ज्यादातर हिस्सा दूसरे देशों को जाता है। अब ये एयरपोर्ट इस स्थिति को भी बदलने में मदद करेगा। इसके माध्यम से पहली बार देश में एंटीग्रेटेड मल्टी मॉडल कार्गो हब की कल्पना भी साकार हो रही है। इससे इस पूरे क्षेत्र के विकास को एक नई गति मिलेगी। एक नई उड़ान मिलेगी।”

बता दें कि इस एयरपोर्ट के शुरू हो जाने के बाद उत्तर प्रदेश पाँच अंतरराष्ट्रीय एयरपोर्ट वाला देश का पहला राज्य बन जाएगा।

गौरतलब है कि 2012 से पहले प्रदेश में लखनऊ और वाराणसी दो ही इंटरनेशनल एयरपोर्ट थे। पिछले महीने ही PM मोदी ने कुशीनगर में अंतरराष्ट्रीय एयरपोर्ट का लोकार्पण किया था। वहीं राम नगरी अयोध्या इंटरनेशनल एयरपोर्ट का काम भी तेजी से चल रहा है। जिसे अगले साल की शुरुआत तक लोगों के लिए खोल दिए जाने की संभावना है। प्रधानमंत्री मोदी के मिशन गति शक्ति को धरातल पर उतारने के लिए योगी सरकार संकल्पबद्ध है। यही वजह है कि सड़क से लेकर हवाई यात्रा तक का इंफ्रास्ट्रक्चर डेवलप किया जा रहा है।

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ और केंद्रीय नागरिक उड्डयन मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया की मौजूदगी में होने वाले एयरपोर्ट के शिलान्यास का पहला चरण 2023-24 में पूरा होगा। इस अवसर पर CM योगी ने भी जनता को सम्बोधित किया।

शिलान्यास के पूरे कार्यक्रम को आप यहाँ देख सकते हैं।

इस अवसर पर केंद्रीय मंत्री ज्‍योतिरादित्‍य सिंधिया ने अपने संबोधन में कहा कि यहाँ के युवाओं की आँखों में उनका सपना पूरा होने की चमक दिखाई दे रही है। उन्‍होंने कहा कि पीएम मोदी ने यहाँ के उत्‍थान का जो संकल्‍प लिया था वो आज पूरा हो रहा है। जो जिम्‍मेदारी यूपी के सीएम और केंद्रीय उड्डयन मंत्रालय को दी गई थी वो भी आज पूरी होने जा रही है।

नोएडा अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे की सीईओ किरण जैन ने कहा है कि हवाई अड्डे का डिजाइन यात्रियों की सुविधा के आधार पर तैयार किया गया है। हवाई अड्डे पर प्रक्रियाओं को डिजिटल रूप से सक्षम बनाया जाएगा। सितंबर / अक्टूबर 2024 तक परिचालन शुरू करने का लक्ष्य है।

बता दें कि मौजूदा समय में उत्तर प्रदेश में आठ एयरपोर्ट्स संचालित हो रहे हैं, जबकि 13 एयरपोर्ट्स और सात एयर स्ट्रिप्स निर्माणाधीन हैं। जिन एयरपोर्ट्स से कमर्शियल फ्लाइट्स उड़ान भर रही हैं उनमें लखनऊ, वाराणसी, कुशीनगर, गोरखपुर, आगरा, कानपुर, प्रयागराज और गाजियाबाद का हिंडन शामिल है।

बताया जा रहा है कि जेवर एयरपोर्ट की परियोजना का पहला चरण वर्ष 2024 तक 10,050 करोड़ रुपए से अधिक की अनुमानित लागत से पूरा किया जाना है। 1300 हेक्टेयर से अधिक जमीन पर फैली यह परियोजना प्रति वर्ष 1.2 करोड़ यात्रियों को अपनी सेवा देगी। पीएमओ ने कहा कि पहले चरण के लिए भूमि अधिग्रहण से संबंधित और प्रभावित परिवारों के पुनर्वास का काम पूरा कर लिया गया है।

साभार-इंडिया टीवी

जेवर एयरपोर्ट का टर्मिनल व परिसर को भारतीय संस्कृति से ओतप्रोत होकर डिजाइन किया गया है। इसमें वाराणसी व हरिद्वार में कलकल करती गंगा किनारे के घाट का अनुभव होगा। नोडल अफसर, नियाल शैलेंद्र भाटिया ने मीडिया को बताया कि नोएडा इंटरनेशनल एयरपोर्ट के टर्मिनल प्रांगण को वाराणसी के गंगा घाट की तर्ज पर डिजायन किया गया है। जबकि, टर्मिनल बिल्डिंग की छत को गंगा में उठती लहरों की तर्ज पर डिजायन किया गया है। एयरपोर्ट को प्रदूषण मुक्त रखने के लिए डिजाइन किया गया है। सफेद रंग की छत से सूर्य की रोशनी दिन भर टर्मिनल बिल्डिंग को रोशन रखेगी। मिनरल बिल्डिंग का मध्य भाग पुरानी हवेलियों के आँगन की झलक देगा।

वहीं मीडिया रिपोर्ट के अनुसार, नोएडा में बन रहा एयरपोर्ट, दिल्ली-एनसीआर क्षेत्र में दूसरा अंतरराष्ट्रीय एयरपोर्ट होगा और इससे इंदिरा गाँधी अंतरराष्ट्रीय एयरपोर्ट का दबाव कम होगा। रणनीतिक दृष्टि से नोएडा अंतरराष्ट्रीय एयरपोर्ट का अलग महत्व होगा और इससे दिल्ली, नोएडा और गाजियाबाद के अलावा अलीगढ़, आगरा, फरीदाबाद और पड़ोसी क्षेत्र के लोगों की जरूरतें पूरी होंगी।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

भिंडरांवाले को इंदिरा गाँधी ने पहले मजबूत किया, फिर मारने के ऑर्डर दिए: जिस जनरल ने किया ‘ऑपरेशन ब्लूस्टार’, उसने उजागर किया कॉन्ग्रेस का...

ऑपरेशन ब्लू स्टार का नेतृत्व करने वाले जनरल कुलदीप बराड़ ने बताया है कि कैसे इंदिरा गाँधी की शह से जरनैल सिंह भिंडरांवाले मजबूत होता गया था।

23 दलों को बुलाया, पहुँचे सिर्फ 8: विपक्ष को एकजुट करने में नाकाम हुई राहुल गाँधी की ‘भारत जोड़ो यात्रा’, AAP को तो न्योता...

कॉन्ग्रेस को उम्मीद थी कि 'भारत जोड़ो यात्रा' के समापन समारोह में आमंत्रित राजनीतिक दल कम से कम अपना प्रतिनिधि तो जरूर भेजेंगे। 15 दल नहीं पहुँचे।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
243,344FollowersFollow
417,000SubscribersSubscribe