Tuesday, July 23, 2024
Homeदेश-समाज2001 में लोकतंत्र और देश की आत्मा पर हुआ था हमला... पुराने संसद भवन...

2001 में लोकतंत्र और देश की आत्मा पर हुआ था हमला… पुराने संसद भवन में अंतिम दिन, बोले विशेष सत्र में PM मोदी – कई लोगों का स्वभाव बन गया है भारत पर शक करना

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि चंद्रयान-3 की सफलता से पूरा भारत ही नहीं बल्कि विश्व अभिभूत है। उन्होंने सदन के माध्यम से देश के वैज्ञानिकों और उनके साथियों को बधाई दी और उनका अभिनन्दन किया।

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने पुराने संसद भवन में कार्यवाही के अंतिम दिन लोकसभा को संबोधित किया। उन्होंने कहा कि हम भले ही नए भवन में जा रहे हैं, लेकिन पुराना भवन पीढ़ियों को प्रेरणा देता रहेगा। उन्होंने इस पुराने भवन के निर्माण के सम्बन्ध में कहा कि इसको बनाने का निर्णय विदेशियों का था लेकिन इसको बनाने में लगा परिश्रम, पसीना और पैसा भारत के लोगों का था।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि चंद्रयान-3 की सफलता से पूरा भारत ही नहीं बल्कि विश्व अभिभूत है। उन्होंने सदन के माध्यम से देश के वैज्ञानिकों और उनके साथियों को बधाई दी और उनका अभिनन्दन किया। प्रधानमंत्री मोदी ने गुटनिरपेक्षता आंदोलन समिट के बाद सर्वसम्मति से प्रशंसा प्रस्ताव पास होने की याद दिलाते हुए उसे G-20 से जोड़ा।

प्रधानमंत्री ने इसकी सफलता को देश को समर्पित किया और कहा कि यह कोई एक व्यक्ति या पार्टी की सफलता नहीं है। उन्होंने पूरे देश में होने वाले आयोजन को गौरव बढ़ाने वाला बताया। उन्होंने अफ्रीकन यूनियन के G20 में शामिल होने को लेकर भी बात की। प्रधानमंत्री ने विपक्ष और विदेशी आलोचकों पर हमला बोलते हुए कहा कि भारत के प्रति शक करने का स्वभाव बहुत से लोगों का बना हुआ है और वह कह रहे थे कि कोई घोषणा पत्र नहीं आएगा लेकिन भारत के नेतृत्व में यह सम्भव हुआ है।

उन्होंने कहा कि भारत में पूरा विश्व अपना मित्र खोज रहा है यह हमारे संस्कारों का परिणाम है जो कि हमें विवेकानंद और वेदों से मिला है। उन्होंने पुराने संसद भवन को छोड़ने वाले पल को काफी भावुक करने वाला बताया। उन्होंने कहा कि यहाँ हमारे खट्टे-मीठे अनुभव रहे हैं। उन्होंने कहा कि संघर्ष और गौरव का माहौल रहा है जो कि हमारी साझी विरासत है।

वर्ष 2014 में संसद को प्रणाम करके उसमें प्रवेश करने वाले पल को भी प्रधानमंत्री ने याद किया। उन्होंने कहा कि यह देश के सामान्य मानव की लोकतंत्र के प्रति श्रद्धा है कि एक चाय बेचने वाला बच्चा पार्लियामेंट पहुँच गया। प्रधानमंत्री ने कहा कि सदन की संरचना समय के साथ बदली है और इसमें सभी वर्गों के लोग आज शामिल हैं और यहाँ पूर्ण रूप से समावेशी वातावरण है।

प्रधानमंत्री ने महिला सदस्यों के योगदान को गिनाया। उन्होंने लोकसभा के सबसे बुजुर्ग सदस्य शफीकुर्रहमान बर्क और सबसे कम उम्र की सदस्य चंद्रानी मुर्मू का जिक्र भी किया। उन्होंने कोरोना के दौरान सांसदों की मेहनत का उल्लेख भी किया।

प्रधानमंत्री ने कहा कि आजादी के बाद भारत के प्रति जताई गई आशंकाओं को गलत सिद्ध करने का कार्य इस संसद भवन ने किया है। उन्होंने इसी संसद भवन के भीतर संविधान निर्माण का उल्लेख भी किया। प्रधानमंत्री ने संसद के स्टाफ की प्रशंसा भी की। संसद भवन पर वर्ष 2001 में हुए आतंकी हमले को प्रधानमंत्री ने लोकतंत्र और देश की आत्मा पर हमला करार दिया, उन्होंने इस हमले में बलिदान हुए जवानों को भी याद किया और श्रद्धांजलि दी।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘कोई भी कार्रवाई हो तो हमारे पास आइए’: हाईकोर्ट ने 6 संपत्तियों को लेकर वक्फ बोर्ड को दी राहत, सेन्ट्रल विस्टा के तहत इन्हें...

दिसंबर 2021 में सॉलिसिटर जनरल तुषार मेहता ने हाईकोर्ट को आश्वासन दिया था कि वक्फ बोर्ड की संपत्तियों को कोई नुकसान नहीं पहुँचाया जाएगा।

‘कागज़ पर नहीं, UCC को जमीन पर उतारिए’: हाईकोर्ट ने ‘तीन तलाक’ को बताया अंधविश्वास, कहा – ऐसी रूढ़िवादी प्रथाओं पर लगे लगाम

मध्य प्रदेश हाई कोर्ट ने कहा है कि समान नागरिक संहिता (UCC) को कागजों की जगह अब जमीन पर उतारने की जरूरत है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -