मुझे नहीं पता था कि इक़बाल मेमन ही इक़बाल मिर्ची है: प्रफुल्ल पटेल से ED ने 12 घंटे तक की पूछताछ

फ़ारूक़ ही वो व्यक्ति था, जो भारत में इक़बाल मिर्ची के सारे ज़मीनी कामकाज को देखता था। प्रफुल्ल पटेल ने स्वीकार किया है कि वो फ़ारूक़ से परिचित हैं।

एनसीपी नेता प्रफुल्ल पटेल ने प्रवर्तन निदेशालय से पूछताछ के दौरान बताया कि उन्हें इस बात की जानकारी नहीं थी कि इक़बाल मेमन ही इक़बाल मिर्ची है। ईडी ने 12 घंटे से भी अधिक समय तक उनसे पूछताछ की। पटेल ने कहा कि मिर्ची के साथ डील उनके एक रिश्तेदार द्वारा की गई थी, जिनकी कुछ वर्षों पहले मृत्यु हो चुकी है।आतंकी दाऊद इब्राहिम के क़रीबी इक़बाल मिर्ची और उसकी पत्नी से वित्तीय डील करने के मामले में एनसीपी नेता प्रफुल्ल पटेल के ख़िलाफ़ मनी लॉन्ड्रिंग का मामला चल रहा है और ईडी इसकी जाँच कर रही है।

पटेल परिवार से जुड़े मिलेनियम डेवेलपर्स और इक़बाल मिर्ची के बीच हुई उस डील को लेकर नए खुलासे के बाद इस मामले की जाँच तेज़ हो गई है। ईडी को अब एक फ़ारूक़ पटेल की तलाश है, जिसने इक़बाल मिर्ची और प्रफुल्ल पटेल के बीच डील में मध्यस्थ की भूमिका निभाई थी। इक़बाल मिर्ची के साले मुक्तार पटका से पूछताछ के दौरान ईडी को फ़ारूक़ के बारे में पता चला। फ़ारूक़ ही वो व्यक्ति था, जो भारत में इक़बाल मिर्ची के सारे ज़मीनी कामकाज को देखता था। प्रफुल्ल पटेल ने स्वीकार किया है कि वो फ़ारूक़ से परिचित हैं।

अधिकारियों का कहना है कि इक़बाल मिर्ची ने 1985 में मुंबई के वर्ली में स्थित एक ज़मीन पर अतिक्रमण कर लिया था। वो ज़मीन पटेल परिवार से जुड़ी ज़मीन का हिस्सा थी। मिर्ची यहीं से अपने ड्रग्स के कारोबार चलाने लगा था। इसके बाद वह गिरफ़्तारी से बचने के लिए भारत से भाग निकला। इसके बाद 1999 में इक़बाल मिर्ची की बीवी हाजरा के साथ मिलेनियम डेवेलपर्स की डील हुई। मिलेनियम डेवेलपर्स ने यहाँ 15 मंजिला ईमारत बनाई, जिसे सीजे हाउस नाम दिया गया। इसमें 2 फ्लोर्स इक़बाल मिर्ची और उसके दोनों बेटों को दे दिए गए। इक़बाल मिर्ची की 2013 में लंदन में मृत्यु हो गई थी।

- विज्ञापन - - लेख आगे पढ़ें -

इक़बाल मिर्ची की पत्नी हाजरा ने मिलेनियम डेवेलपर्स को 5 करोड़ रुपए ट्रांसफर किए थे। ईडी ने प्रफुल्ल पटेल से इस सम्बन्ध में पूछताछ की। हालाँकि, पूर्व केंद्रीय मंत्री प्रफुल्ल पटेल ने इसका कोई स्पष्ट उत्तर न देते हुए अनुमान लगाया कि ये मेंटेनेंस से जुड़ा कोई पेमेंट हो सकता है। इक़बाल मिर्ची और प्रफुल्ल पटेल की फोन पर बातचीत भी हुई थी, इसके डिटेल्स निकालने का प्रयास ईडी कर रही है। गृहमंत्री अमित शाह ने एक इंटरव्यू के दौरान पटेल और मिर्ची की डील को देशद्रोह करार देते हुए शरद पवार और राहुल गाँधी को ख़ुद को पाक-साफ़ साबित करने की चुनौती दी थी।

शेयर करें, मदद करें:
Support OpIndia by making a monetary contribution

बड़ी ख़बर

सोनिया गाँधी
शिवसेना हिन्दुत्व के एजेंडे से पीछे हटने को तैयार है फिर भी सोनिया दुविधा में हैं। शिवसेना को समर्थन पर कॉन्ग्रेस के भीतर भी मतभेद है। ऐसे में एनसीपी सुप्रीमो के साथ उनकी आज की बैठक निर्णायक साबित हो सकती है।

सबसे ज़्यादा पढ़ी गईं ख़बरें

ताज़ा ख़बरें

हमसे जुड़ें

114,489फैंसलाइक करें
23,092फॉलोवर्सफॉलो करें
121,000सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें

ज़रूर पढ़ें

Advertisements
शेयर करें, मदद करें: