Thursday, July 25, 2024
Homeराजनीतिमहिला नेता ने उत्पीड़न पर उठाई आवाज, कॉन्ग्रेस ने पार्टी से निकाल दियाः असम...

महिला नेता ने उत्पीड़न पर उठाई आवाज, कॉन्ग्रेस ने पार्टी से निकाल दियाः असम आए राहुल गाँधी से पूछा- मुझे कब मिलेगा न्याय

"मुझे पार्टी से निकाले हुए 10 महीने होने को आए हैं। बगैर मेरा पक्ष सुने मुझे निष्कासित कर दिया गया, क्योंकि मैंने एक उत्पीड़क के खिलाफ, एक ऐसे शख्स के खिलाफ न्याय की माँग की थी जो पावर में था।"

कॉन्ग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गाँधी की ‘भारत जोड़ो न्याय यात्रा’ असम में प्रवेश कर गई है। कभी असम यूथ कॉन्ग्रेस की अध्यक्ष रहीं अंगकिता दत्ता ने उनसे न्याय माँगा है। यूथ कॉन्ग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष बीवी श्रीनिवास के उत्पीड़न और प्रताड़ना के खिलाफ आवाज उठाने पर पार्टी ने अंगकिता को निष्कासित कर दिया था।

अंगकिता दत्ता के नेतृत्व में शिवसागर में राहुल गाँधी की यात्रा के विरोध में धरना दिया गया। इस दौरान अंगकिता दत्ता ने कहा, “मुझे पार्टी से निकाले हुए 10 महीने होने को आए हैं। बगैर मेरा पक्ष सुने मुझे निष्कासित कर दिया गया, क्योंकि मैंने एक उत्पीड़क के खिलाफ, एक ऐसे शख्स के खिलाफ न्याय की माँग की थी जो पावर में था।”

उन्होंने कहा, “बीते 10 महीने में मैंने किसी भी राजनीतिक पार्टी का हाथ नहीं थामा। मैं अपने लोगों के साथ बैठी हूँ जो मुझे अपने परिवार का सदस्य मानते हैं जो न्याय चाहते हैं। राहुल गाँधी असम आए हैं। मुझे पक्का विश्वास है कि वह मुझे और असम की महिलाओं को न्याय देंगे। जो लोग दमनकारी है और अपनी ताकत का बेजा इस्तेमाल कर रहे हैं उन पर एक्शन लेंगे। ये मेरा घर है, मेरा परिवार है, मेरे पिता कई बार इस निर्वाचन क्षेत्र का प्रतिनिधित्व कर चुके हैं। अपने आखिरी दम तक वो कॉन्ग्रेस का झंडा उठाए रहे।”

बताते चलें कि काॅन्ग्रेस ने अप्रैल 2023 में डॉ अंगकिता दत्ता (Angkita Dutta) को 6 साल के लिए पार्टी से निकाल दिया था। उन्हें पार्टी विरोधी गतिविधियों में शामिल होने का आरोप लगा उन पर ये एक्शन लिया गया।

असम युवा काॅन्ग्रेस की अध्यक्ष रहीं अंगकिता ने यूथ काॅन्ग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष बीवी श्रीनिवास (Srinivas BV) और यूथ कॉन्ग्रेस के सेक्रेटरी इंचार्ज वर्धन यादव पर लैंगिक भेदभाव तथा बदजुबानी का आरोप लगाया था। कहा था कि राहुल गाँधी ने भी उनकी शिकायतों पर गौर नहीं किया और प्रताड़ना का सिलसिला चलता रहा। उन्होंने कहा था, “श्रीनिवास पिछले छह महीनों से उन्हें परेशान और प्रताड़ित कर रहे हैं। लैंगिक टिप्पणी करते हैं। अपशब्दों का इस्तेमाल करते हैं। पार्टी के वरिष्ठ पदाधिकारियों से इसकी शिकायत करने पर उन्हें गंभीर परिणाम भुगतने की धमकी दे रहे हैं।”

अंगकिता दत्ता ने बताया था कि उन्हें करीब छह महीने से प्रताड़ित किया जा रहा था। ‘भारत जोड़ो यात्रा’ के दौरान राहुल गाँधी को भी उन्होंने इसकी जानकारी दी, लेकिन कोई कार्रवाई नहीं हुई। उनका आरोप था कि स्त्री होने के कारण उनके साथ भेदभाव हुआ। इसके बाद अंगकिता ने 19 अप्रैल को गुवाहाटी के दिसपुर पुलिस स्टेशन में शिकायत दर्ज कराई थी।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘तुमलोग वापस भारत भागो’: कनाडा में अब सांसद को ही धमकी दे रहा खालिस्तानी पन्नू, हिन्दू मंदिर पर हमले का विरोध करने पर भड़का

आर्य ने कहा है कि हमारे कनाडाई चार्टर ऑफ राइट्स में दी गई स्वतंत्रता का गलत इस्तेमाल करते हुए खालिस्तानी कनाडा की धरती में जहर बोते हुए इसे गंदा कर रहे हैं।

मुजफ्फरनगर में नेम-प्लेट लगाने वाले आदेश के समर्थन में काँवड़िए, सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद बोले – ‘हमारा तो धर्म भ्रष्ट हो गया...

एक कावँड़िए ने कहा कि अगर नेम-प्लेट होता तो कम से कम ये तो साफ हो जाता कि जो भोजन वो कर रहे हैं, वो शाका हारी है या माँसाहारी।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -