Monday, July 26, 2021
Homeराजनीतिराहुल गाँधी ने हीरो बनने के लिए समर्थकों के सामने किए झूठे दावे, स्वास्थ्य...

राहुल गाँधी ने हीरो बनने के लिए समर्थकों के सामने किए झूठे दावे, स्वास्थ्य मंत्रालय ने बताई वायनाड की हकीकत

स्वास्थ्य मंत्रालय के अनुसार, वायनाड उन राज्यों में से है जिन्हें कोरोना वायरस के हॉट्सपॉट में क्लस्टर सूची में रखा गया है। जो कि रेड जोन से सिर्फ एक पायदान नीचे की श्रेणी है। अब रही बात इसकी की जब वायनाड के हालत कोरोना मामले में बहुत सुधरे हुए नहीं है तो राहुल गाँधी किन आधारों पर मिया मिठ्ठू बने?

राहुल गाँधी की वाह-वाही कराने के लिए कॉन्ग्रेस का आईटी सेल नित नए प्रयोग करता रहता है। ऐसे में कई बार उसका झूठ पकड़ा जाता है। लेकिन बावजूद इसके वो बाज नहीं आता। अब इसी क्रम में एक बार फिर कोरोना महामारी के बीच उन्होंने ये कारनामा किया है। दरअसल, बुधवार को कॉन्ग्रेस आईटी सेल ने राहुल गाँधी को शुभकामनाएँ देते हुए एक ट्वीट किया और ट्वीट में बताया गया कि स्वास्थ्य मंत्रालय ने वायनाड में कोरोना वायरस रोकने के प्रयासों व तरीकों की प्रशंसा की है। 

इसके बाद राहुल गाँधी ने भी इस मौक़े पर अपनी तारीफ अपने मुँह से करने का मौका नहीं छोड़ा। उन्होंने खुद भी इस खबर को आगे बढ़ाया और लिखा यहाँ 16 दिन से कोई नया मामला नहीं है। इसलिए वे सभी अधिकारियों के कड़े प्रयासों व प्रतिबद्धता को सराहते हैं। उन्होंने ये भी कहा कि उन्हें गर्व महसूस हो रहा है कि उनके क्षेत्र की तारीफ स्वास्थ्य मंत्रालय ने की। जिसे पढ़कर राहुल गाँधी के फॉलोवर्स फूले नहीं समाए। उन्होेंने भी इस आधार पर अपने युवा नेता की तारीफों के पुलिंदे बाँधने शुरू कर दिए और कहने लगे कि न नरेंद्र मोदी के वाराणसी में न स्मृति के अमेठी में ऐसा कमाल हुआ है। बल्कि राहुल गाँधी ने अपने नेतृत्व में ये कर दिखाया है।

ट्वीटर पर राहुल गाँधी के समर्थकों द्वारा किए गए ट्वीट्स के भरमार को देखकर यकीन होता है कि राहुल गाँधी के फॉलोवर उन्हीं की तरह हैं। जो बिना तथ्यों की जाँच परख किए समाज में झूठ फैलाने में लग जाते हैं और अपने नेता की छवि निर्माण करने की होड़ में ये भी नहीं जानते हैं कि जिस जानकारी को वो फैला रहे हैं वो सच है या नहीं।

इसलिए, सभी भ्रमों को दूर करते हुए आपको बता दें, कि जिस वायनाड को लेकर राहुल गाँधी व उनके समर्थक इतनी उत्साहित हो रहे हैं। उसकी हकीकत वास्तविकता में बहुत ज्यादा अलग है। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने वायनाड में कोरोना वायरस को रोकने हेतु प्रयासों की कोई प्रशंसा नहीं की है। बल्कि अतिश्योक्ति देखिए कॉन्ग्रेस पूर्व अध्यक्ष ने जिस मंत्रालय के नाम पर झूठ फैलाया है उसी मंत्रालय ने नई सूची में वायनाड को हॉट्सपॉट चिह्नित किया है।

जी हाँ, स्वास्थ्य मंत्रालय के अनुसार, वायनाड उन राज्यों में से है जिन्हें कोरोना वायरस के हॉट्सपॉट में क्लस्टर सूची में रखा गया है। जो कि रेड जोन से सिर्फ एक पायदान नीचे की श्रेणी है। अब रही बात इसकी की जब वायनाड के हालत कोरोना मामले में बहुत सुधरे हुए नहीं है तो राहुल गाँधी किन आधारों पर मिया मिठ्ठू बने?

तो जानकारी दे दें कि केरल में 7 जिले हैं जिनमें से 6 जिले पूरी तरह कोरोना के हॉट्सपॉट हैं यानी रेड जोन जबकि वायनाड अकेला ऐसा जिला है जो हॉस्टपॉट का क्लस्टर है। बाकी सब ऐसे इलाके हैं जहाँ कोरोना तेजी से फैला। शायद इसी उपलब्धि को राहुल गाँधी अपनी तारीफ समझ बैठे और सोशल मीडिया पर आभार व्यक्त करने लगे। लेकिन बता दें, राहुल गाँधी के दावों के उलट मंत्रालय ने अभी भी जिले को रेड जोन में रखा है और उसने व्हॉइट जोन में नहीं डाला। जिले से अब तक कोरोना के तीन मामले आए हैं, जिनमें से 2 ठीक हो चुके हैं। लेकिन फिर भी सुरक्षा के लिहाज से सरकार ने इसे रेड जोन में रखा हैं। इसलिए राहुल गाँधी के दावे बिलकुल गलत हैं।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

पेगासस पर भड़के उदित राज, नंगी तस्वीरें वायरल होने की चिंता: लोगों ने पूछा – ‘फोन में ये सब रखते ही क्यों हैं?’

पूर्व सांसद और खुद को 'सबसे बड़ा दलित नेता' बताने वाले उदित राज ने आशंका जताई कि पेगासस ने कितनों की नंगी तस्वीर भेजी होगी या निजता का उल्लंघन किया होगा।

कारगिल के 22 साल: 16 की उम्र में सेना में हुए शामिल, 20 की उम्र में देश पर मर मिटे

सुनील जंग ने छलनी सीने के बावजूद युद्धभूमि में अपने हाथ से बंदूक नहीं गिरने दी और लगातार दुश्मनों पर वार करते रहे।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
111,222FollowersFollow
393,000SubscribersSubscribe