Thursday, July 18, 2024
Homeराजनीति'हेलो की जगह अब से बोलें वंदे मातरम': महाराष्ट्र में शिंदे सरकार ने जारी...

‘हेलो की जगह अब से बोलें वंदे मातरम’: महाराष्ट्र में शिंदे सरकार ने जारी किया सर्कुलर, सरकारी अधिकारियों और स्कूल-कॉलेजों पर लागू होगा

सरकार के इस आदेश का समाजवादी पार्टी और AIMIM ने निंदा की है। सपा नेता अबू आज़मी ने कहा कि दिवंगत बालासाहेब ठाकरे फोन पर जवाब देते समय हमेशा 'जय महाराष्ट्र' कहते थे, न कि 'वंदे मातरम'।

महाराष्ट्र (Maharashtra) की एकनाथ शिंदे की सरकार (Eknath Shinde Government) ने राज्य में ‘हेलो’ की जगह कर्मचारियों को ‘वंदे मातरम’ कहने का सरकारी संकल्प (Government Resolution) जारी किया है। इससे पहले अगस्त में राज्य के संस्कृति मंत्री सुधीर मुनगंटीवार ने सरकारी कर्मचारियों को फोन कॉल पर ‘हेलो’ के बजाय ‘वंदे मातरम’ बोलने के लिए कहा था।

सरकार के इस आदेश के बाद अब सरकारी कर्मचारी और अधिकारी मोबाइल या लैंड लाइन पर फोन करते या रिसीव करते वक्त सामने वाले व्यक्ति को हेलो की जगह वंदे मातरम से संबोधित करेंगे। इसके साथ ही मिलने वालों भी इसी शब्द से संबोधन करेंगे।

इससे संबंधित सर्कुलर महाराष्ट्र सरकार के सामान्य प्रशासन विभाग (GAD) द्वारा जारी किया गया है। सर्कुलर का यह आदेश सरकारी, अर्ध-सरकारी, स्थानीय नागरिक निकायों, सरकारी सहायता प्राप्त स्कूलों, कॉलेजों और अन्य प्रतिष्ठानों पर लागू होता है।

राज्य सरकार के जीआर में कहा गया है कि अधिकारी मिलने आने वाले लोगों से भी वंदे मातरम कहकर अभिवादन करेंगे। इसके लिए जागरूकता पैदा करने की भी बात कही गई है। जीआर में ‘हेलो’ को पश्चिमी संस्कृति की नकल बताया गया है और कहा गया है कि यह ‘बिना किसी विशिष्ट अर्थ का अभिवादन है और इससे कोई स्नेह नहीं दिखता।’

सर्कुलर में आगे कहा गया है, “भारतीय स्वतंत्रता के 75 वर्ष पूरे होने के अवसर पर राज्य में ‘आजादी का अमृत महोत्सव’ मनाया जा रहा है। उसी को चिह्नित करने के लिए माननीय मंत्री (सांस्कृतिक मामलों) ने सभी से आगंतुकों या साथी अधिकारियों के साथ बैठक शुरू करने की अपील की है और सरकारी कार्यालयों में कर्मचारियों को ‘हेलो’ के बजाय ‘वंदे मातरम’ की बधाई दी जाती है।”

बता दें राज्य में उद्धव ठाकरे की सरकार बदलने के तुरंत बाद एकनाथ शिंदे की सरकार बनी थी। इस सरकार के शपथ ग्रहण के बाद महाराष्ट्र के मंत्री सुधीर मुनगंटीवार ने यह प्रस्ताव पेश किया था। हालाँकि बाद में उन्होंने कहा था कि इसकी जगह पर राष्ट्रवाद को दर्शाने वाले किसी भी शब्द का प्रयोग किया जा सकता है।

सरकार के इस आदेश का समाजवादी पार्टी और AIMIM ने निंदा की है। सपा ने कहा कि यह भाजपा द्वारा लोगों को विभाजित करने का एक और प्रयास है। सपा ने सीएम एकनाथ शिंदे पर भाजपा के दबाव में आने का आरोप लगाया गया है। सपा नेता अबू आज़मी ने कहा कि दिवंगत बालासाहेब ठाकरे फोन पर जवाब देते समय हमेशा ‘जय महाराष्ट्र’ कहते थे, न कि ‘वंदे मातरम’।

वहीं, AIMIM के नेता वारिस पठान ने कहा, “बीजेपी के पास मुद्दे नहीं बचे हैं। वे कभी शहर के नाम बदलने की बात करते हैं तो कभी कुछ। इनसे महंगाई, बेरोजगारी पर सवाल पूछ दो तो चीते से भी तेज भाग जाते है। वंदे मातरम बोल दिया तो क्या बेरोजगारी कम हो जाएगी, महंगाई कम हो जाएगी। इनका काम ध्यान भटकाना है।”

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

3 आतंकियों को घर में रखा, खाना-पानी दिया, Wi-Fi से पाकिस्तान करवाई बात: शौकत अली हुआ गिरफ्तार, हमलों के बाद OGW नेटवर्क पर डोडा...

शौकत अली पर आरोप है कि उसने सेना के जवानों पर हमला करने वाले आतंकियों को कुछ दिन अपने घर में रखा था और वाई-फाई भी दिया था।

नई नहीं है दुकानों पर नाम लिखने की व्यवस्था, मुजफ्फरनगर पुलिस ने काँवड़िया रूट पर मजहबी भेदभाव के दावों को किया खारिज: जारी की...

उत्तर प्रदेश के मुजफ्फरनगर में पुलिस ने ताजी एडवायजरी जारी की है, जिसमें दुकानों और होटलों पर मालिकों के नाम लिखने को ऐच्छिक कर दिया है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -