Wednesday, December 8, 2021
Homeराजनीतिगठबंधन के नेता ने उद्धव से कहा - ध्यान से पढ़िए NPR-NRC: दिल्ली में...

गठबंधन के नेता ने उद्धव से कहा – ध्यान से पढ़िए NPR-NRC: दिल्ली में मोदी-ठाकरे मिले, मुंबई में कई दिल-जले!

"हमने नागरिकता संशोधन अधिनियम, NPR और NRC पर चर्चा की है। मैंने पहले ही इन मुद्दों पर अपना रुख साफ कर दिया है। किसी को सीएए से डरना नहीं चाहिए।"

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी से मुलाकात के बाद महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री और शिवसेना प्रमुध उद्धव ठाकरे ने सीएए को लेकर मीडिया के सामने शनिवार को अपनी राय खुलकर दी। उन्होंने कहा कि सीएए से किसी को भी डरने की जरूरत नहीं है। यह कानून किसी की नागरिकता नहीं लेगा। इसके बाद महाराष्ट्र सरकार में सहयोगी की भूमिका निभा रहे दलों ने उद्धव को फ़िर से इस कानून को पढ़ने की नसीहत दे डाली है। उद्धव ठाकरे के बयान और सहयोगी पार्टियों के द्वारा उन पर कटाक्ष को लेकर गठबंधन में रार बढ़ती ही जा रही है।

महाराष्ट्र में गठबंधन की सरकार बनने के बाद पहली बार शिवसेना प्रमुख और महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने अपने बेटे आदित्य के साथ शनिवार को प्रधानमत्री नरेन्द्र मोदी से मुलाकात की। इसके बाद उद्धव ठाकरे ने मीडिया से बात करते हुए कहा, “हमने नागरिकता संशोधन अधिनियम, NPR और NRC पर चर्चा की है। मैंने पहले ही इन मुद्दों पर अपना रुख साफ कर दिया है। किसी को सीएए से डरना नहीं चाहिए।”

महाराष्ट्र के मुख्यमत्री उद्धव ठाकरे ने साफ कहा कि यह कानून (CAA) किसी की नागरिकता लेने के लिए नहीं है। बल्कि यह कानून पड़ोसी देशों के अल्पसंख्यकों को नागरिकता देने के लिए है। इसलिए इससे किसी को भी डरने की जरूरत नहीं है।

उद्धव के इस बयान के बाद महाराष्ट्र की राजनीति में हलचल पैदा हो गई। बयान पर सबसे पहले प्रक्रिया देते हुए कॉन्ग्रेस नेता और पूर्व केंद्रीय मंत्री मनीष तिवारी ने उद्धव को इसे फिर से पढ़ने की नसीहत दे दी और ट्वीट करते हुए कहा, “जब उद्धव पूरे कानून को ध्यान से पढ़ेंगे तब उन्हें समझ आएगा कि NPR और NRC में बहुत फर्क नहीं है। एक बार आप NPR पर सहमत हुए तो NRC को नहीं रोक पाएँगे।” CAA पर तिवारी ने कहा कि सरकार को संविधान के अनुसार इसके प्रारूप में परिवर्तन करने होंगे। संविधान में स्पष्ट है कि धर्म के आधार पर नागरिकता नहीं दी जा सकती।

बता दें कि शनिवार को अपने बेटे आदित्य के साथ दिल्ली आए उद्धव ठाकरे ने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी से मुलाक़ात के बाद गृहमंत्री अमित शाह, बीजेपी नेता लालकृष्ण आडवाणी और कॉन्ग्रेस अध्यक्ष सोनिया गाँधी से भी मुलाक़ात की थी। गौरतलब है कि उद्धव ठाकरे महाराष्ट्र में राष्ट्रवादी कॉन्ग्रेस पार्टी (NCP) और कॉन्ग्रेस के समर्थन से मिली-जुली सरकार चला रहे हैं। एक ओर जहाँ NCP और कॉन्ग्रेस नागरिकता संशोधन कानून का विरोध कर रहे हैं तो दूसरी ओर शिवसेना इसके समर्थन में दिखाई दे रही है। ऐसे में महाराष्ट्र गठबंधन सरकार में कहीं न कहीं आपसी मतभेद की स्थिति बनी हुई है।

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

कोरोना काल में ₹42 लाख का क्रिकेट मैच… खिलाड़ी झारखंड के ‘माननीय’ MLA लोग, मैन ऑफ द मैच खुद CM सोरेन

कोरोना महामारी के दौरान 42 लाख रुपए का क्रिकेट मैच खेल लिया झारखंड के विधायकों ने। मैन ऑफ द मैच खुद बने मुख्यमंत्री सोरेन।

‘वसीम रिजवी का सिर कलम करने वाले को 25 लाख रुपए का इनाम’: कॉन्ग्रेस नेता ने खुलेआम किया दोबारा ऐलान

कॉन्ग्रेस विधायक राशिद खान ने मंगलवार को कहा कि वह शिया वक्‍फ बोर्ड के पूर्व अध्यक्ष वसीम रिजवी का सिर काटने वाले को 25 लाख रुपए का इनाम देने की बात पर अभी भी कायम हैं।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
142,284FollowersFollow
412,000SubscribersSubscribe