Sunday, July 21, 2024
Homeराजनीति'50 साल का शख्स... तू क्या है फिर, जिन्न?': ओवैसी ने 'मैंने राहुल गाँधी...

’50 साल का शख्स… तू क्या है फिर, जिन्न?’: ओवैसी ने ‘मैंने राहुल गाँधी को मार दिया’ वाले बयान पर ली चुटकी, कहा – मैं बोलता तो सब कहते दौरे पड़ रहे

"कॉन्ग्रेस का यह हाल है। एक 50 साल का शख्स कहता है मैंने सर्दी को मार दिया। फिर अपना नाम ले कर कहते हैं कि मैंने उसको मार दिया, मैं वो है ही नहीं… तो क्या है फिर?"

AIMIM के मुखिया असदुद्दीन ओवैसी ने कॉन्ग्रेस सांसद राहुल गाँधी के बयानों का मजाक उड़ाया है। राहुल गाँधी ने ‘भारत जोड़ो यात्रा’ के दौरान एक प्रेस कॉन्फ्रेंस में सर्दी से न डरने वाला बयान दिया था। उन्होंने अपने एक दूसरे बयान में ‘पुराने राहुल गाँधी को मार देने’ की बात कही थी। इन्हीं दोनों बयानों को लेकर असदुद्दीन ओवैसी ने राहुल गाँधी का मजाक उड़ाया।

हैदराबाद के बहादुरपुर में एक सभा को संबोधित करते हुए ओवैसी कॉन्ग्रेस पर हमला बोल रहे थे। इस दौरान उन्होंने कहा, “कॉन्ग्रेस का यह हाल है। एक 50 साल का शख्स कहता है मैंने सर्दी को मार दिया। फिर अपना नाम ले कर कहते हैं कि मैंने उसको मार दिया, मैं वो है ही नहीं… तो क्या है फिर? जिन्न है? अगर आपने खुद को मार डाला है तो यह शख्स कौन है? यदि मैंने ऐसा कुछ कहा होता तो लोग कहते मुझे दौरे पड़ रहे हैं।”

बता दें कि भारत जोड़ो यात्रा के दौरान 8 जनवरी, 2022 को हरियाणा के समाना में राहुल गाँधी ने अपने इमेज को लेकर पूछे गए सवाल के जवाब में कहा था कि राहुल गाँधी जो आपके दिमाग में है, उसे मैंने मार दिया है। वह मेरे दिमाग में है ही नहीं, वह चला गया। आप जिस आदमी को देख रहे हैं वो राहुल गाँधी है ही नहीं। वह सिर्फ आपको दिख रहा है। उन्होंने आगे कहा था कि आपको यकीन नहीं होता तो आप हिंदू धर्म को पढ़िए, शिवजी को पढ़िए। उन्होंने कहा कि राहुल गाँधी बस आपके और भाजपा के दिमाग में है मेरे दिमाग में नहीं है।

इसके पहले साल 2022 के आखिर में राहुल गाँधी ने ठंड को लेकर पत्रकार द्वारा पूछे गए सवाल का अजीब सा जवाब दिया था। राहुल गाँधी ने कहा था कि आपको ठंड इसलिए लगती है क्योंकि आप सर्दी से डरते हैं। उन्होंने कहा था, “मैं सर्दी से नहीं डरता इसलिए मुझे ठंड नहीं लगती।” उन्होंने कहा था कि जब मुझे सर्दी का एहसास होगा मैं स्वेटर पहन लूँगा।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

बांग्लादेश में आरक्षण खत्म: सुप्रीम कोर्ट ने कोटा व्यवस्था को रद्द किया, दंगों की आग में जल रहा है मुल्क

प्रदर्शनकारी लोहे के रॉड हाथों में लेकर सेन्ट्रल डिस्ट्रिक्ट जेल पहुँच गए और 800 कैदियों को रिहा कर दिया। साथ ही जेल को आग के हवाले कर दिया गया।

‘कमाल का है PM मोदी का एनर्जी लेवल, अनुच्छेद-370 हटाने के लिए चाहिए था दम’: बोले ‘दृष्टि’ वाले विकास दिव्यकीर्ति – आर्य समाज और...

विकास दिव्यकीर्ति ने बताया कि कॉलेज के दिनों में कई मुस्लिम दोस्त उनसे झगड़ा करते थे, क्योंकि उन्हें RSS के पक्ष से बहस करने वाला माना जाता था।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -