कॉन्ग्रेस-BBC गठजोड़ ने किया अभिनन्दन का अपमान, दिखाया Pak झंडे के साथ

प्रियंका चतुर्वेदी द्वारा भारतीय विंग कमांडर का अपमान किए जाने के बाद लोगों ने उनकी जम कर क्लास लगाई। अंकित जैन ने प्रियंका से पूछा कि क्या यह किस तरह का मज़ाक है?

कॉन्ग्रेस पार्टी ने पाकिस्तान द्वारा हिरासत में लिए गए भारतीय पायलट विंग कमांडर अभिनन्दन वर्तमान का अपमान करते हुए उन्हें पाकिस्तानी झंडे के साथ दिखाया। दरअसल, समाचार एजेंसी बीबीसी ने भारतीय पायलट अभिनन्दन को लेकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर कटाक्ष करते हुए एक कार्टून बनाया। इस कार्टून में एक तरफ़ विंग कमांडर अभिनन्दन हैं तो दूसरी तरफ पीएम मोदी। मोदी के पीछे भाजपा का झंडा लगा है जबकि अभिनन्दन के पीछे पाकिस्तान का झंडा लगा है। कॉन्ग्रेस नेता और विवादों की मलिका प्रियंका चतुर्वेदी ने अभिनन्दन का अपमान करते हुए इस कार्टून को शेयर किया।

भाजपा के प्रवक्ता संबित पात्रा ने कहा कि कॉन्ग्रेस पार्टी पाकिस्तानी झंडे और इमरान ख़ान का प्रचार-प्रसार करने में व्यस्त हैं। प्रियंका चतुर्वेदी पहले भी ऐसे ट्वीट्स कर चुकी हैं। कुछ दिनों पहले उन्होंने प्रियंका गाँधी की रैली में आसमान से भीड़ उतार दी थी। हाल ही में उन्होंने चंद्रशेखर आजाद की पुण्यतिथि पर उनके नाम के साथ भगत सिंह की फोटो शेयर की थी।

प्रियंका चतुर्वेदी द्वारा भारतीय विंग कमांडर का अपमान किए जाने के बाद लोगों ने उनकी जम कर क्लास लगाई। अंकित जैन ने प्रियंका से पूछा कि क्या यह किस तरह का मज़ाक है?

- विज्ञापन - - लेख आगे पढ़ें -

यो यो फनी सिंह ने प्रियंका को फटकार लगाते हुए कहा कि यह ट्वीट मोदी के प्रति नहीं बल्कि देश के प्रति उनकी घृणा को दिखाता है। उसने कहा कि पाकिस्तान इस ट्वीट को ज़ल्द ही लपक लेगा। ज्ञात हो कि हाल ही में पाकिस्तान ने राहुल गाँधी सहित अन्य विपक्षी नेताओं द्वारा मोदी के ख़िलाफ़ दिए गए बयान का अपने पक्ष में इस्तेमाल किया था

सन्देश नायक नामक यूजर ने प्रियंका को याद दिलाया कि अभी अगर कॉन्ग्रेस की सरकार होती तो अभिनन्दन की रिहाई कराना उनके बूते की बात नहीं थी।

शेयर करें, मदद करें:
Support OpIndia by making a monetary contribution

बड़ी ख़बर

"ज्ञानवापी मस्जिद पहले भगवान शिव का मंदिर था जिसे मुगल आक्रमणकारियों ने ध्वस्त कर मस्जिद बना दिया था, इसलिए हम हिंदुओं को उनके धार्मिक आस्था एवं राग भोग, पूजा-पाठ, दर्शन, परिक्रमा, इतिहास, अधिकारों को संरक्षित करने हेतु अनुमति दी जाए।"

सबसे ज़्यादा पढ़ी गईं ख़बरें

ताज़ा ख़बरें

हमसे जुड़ें

154,683फैंसलाइक करें
42,923फॉलोवर्सफॉलो करें
179,000सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें

ज़रूर पढ़ें

Advertisements
शेयर करें, मदद करें: