Monday, July 15, 2024
Homeरिपोर्टअंतरराष्ट्रीय10 साल की कैंसर पीड़ित ने बचपन के प्यार से की शादी, 'ड्रीम वेडिंग'...

10 साल की कैंसर पीड़ित ने बचपन के प्यार से की शादी, ‘ड्रीम वेडिंग’ के 12 दिन बाद हो गई मौत

एमा की माँ ने कहा, "वह पहले कभी बीमार नहीं थी। अचानक, उसे उल्टी होने लगी। एक बार वह गिर गई थी। इसलिए डॉक्टर्स ने उसके पैरों की जाँच की और पता चला कि कैंसर उसकी हड्डियों में छेद कर रहा था और उसे कमजोर बना रहा था।"

अमेरिका के उत्तरी कैरोलाइना में 10 साल की बच्ची एमा एडवर्ड्स हमेशा से ही शादी करने का सपना देखा करती थी। उसने अपने चाइल्डहुड स्वीटहार्ट, डैनियल मार्शल क्रिस्टोफर ‘डीजे’ विलियम्स जूनियर ने अपने प्राइमरी स्कूल में शादी समारोह करने की कोशिश की, लेकिन टीचर्स ने उन्हें कहा कि वे स्कूल में शादी नहीं कर सकते हैं।

एमा चाहती थी कि शादी के बाद वो तीन बच्चों की माँ बने, लेकिन उनकी किस्मत को शायद कुछ और ही मंजूर था। उसके पेरेंट्स उत्तरी कैरोलिना के रहने वाले वॉलनट कोव के एलीना और आरोन एडवर्ड्स को साल 2022 में अपनी बेटी के लिम्फोब्लास्टिक ल्यूकेमिया नाम के कैंसर का पता चला था। उसके पेरेंट्स एलीना और आरोन एडवर्ड्स को उम्मीद थी कि उनकी बेटी कैंसर को हरा देगी, लेकिन जून 2023 में उन्हें बुरी खबर मिली की कि उनकी बेटी के पास जिंदा रहने के लिए कुछ ही दिन बचे हैं।

एमा के सपने को पूरा करने के लिए उसके पेरेंट्स ने परिवार और दोस्तों की मदद से 29 जून 2023 को उसकी शादी उसकी तीसरी क्लास सहपाठी एवं दो साल पुराने दोस्त डेनियल मार्शल क्रिस्टोफर विलियम्स जूनियर से करवा दी। वेडिंग सेरेमनी उसकी नानी के घर में की गई। इसमें 100 मेहमान सहित डॉक्टर और नर्स भी शामिल हुए। हालाँकि, अपनी शादी के 12 दिन बाद एमा दुनिया को अलविदा कह गई।

जब डॉक्टर्स ने कहा वो एमा के लिए कुछ नहीं कर सकते

न्यूयार्क पोस्ट की रिपोर्ट के अनुसार, एलीना और आरोन एडवर्ड्स को साल 2022 में अपनी बेटी के कैंसर होने का पता चला था। मायो क्लिनिक के मुताबिक, लिम्फोब्लास्टिक ल्यूकेमिया बच्चों में होने वाला आम तरह का कैंसर हैं। इससे ब्लड और बोन मैरो पर असर पड़ता है। इस साल जून में एमा के माता-पिता को खबर मिली कि उसका कैंसर लाइलाज है और उसके पास जीने के लिए केवल कुछ ही दिन बचे हैं।

एमा और डैनियल (साभार: कैनेडी न्यूज)

एमा की 39 साल की माँ एलीना ने कैनेडी न्यूज और मीडिया को बताया, “हम दूसरे तरह के इलाज के लिए जा रहे थे और उन्होंने हमें बताया कि एमा के पास जीने के लिए शायद कुछ दिन या एक हफ्ते हैं।” एलीना ने आगे कहा, “हम ऐसा सुनने की बिल्कुल भी उम्मीद नहीं करते थे। हमने सोचा कि हम दूसरे तरह के इलाज के लिए जाएँगे और यह काम करेगा। आप कल्पना नहीं कर सकते कि उस वक्त हमने क्या महसूस किया, जब डॉक्टरों ने उन्हें कहा कि वे उसके लिए और कुछ नहीं कर सकते।”

एमा और डीजे विलियम्स ने स्कूल में की थी शादी करने की कोशिश

मिरर की रिपोर्ट के मुताबिक, एमा के टीचर्स ने माँ एलीना को बताया कि एमा और डीजे विलियम्स ने स्कूल में रिसेस के दौरान शादी करने की कोशिश की थी। उन्होंने ब्राइड और ग्रूम मेड भी बनाए थे और सभी बच्चे क्लास में टाई लगाए आए थे। ये बहुत क्यूट था, लेकिन क्लास में वेडिंग नहीं हो सकती थी।

एमा की जिंदगी के कुछ दिन बचे होने और क्लास में शादी रचाने की बात पता चलने के बाद एलीना और एमा के दोस्त डीजे विलियम की माँ एक ‘शादी’ का प्लान बनाने लगीं। एमा की माँ शादी की तैयारी के बारे में बताती हैं, “हमें यह सब कुछ बहुत जल्दी करना था। हमने इसे दो दिनों से भी कम वक्त में किया। सब कुछ डोनेट कर दिया गया।”

यह बहुत अनमोल पल थे

एलीना ने कहा, “उसके पिता को उसे उसके जीवनसाथी को सौंपने का मौका मिला। यह बहुत अनमोल पल था और बहुत अच्छी तरह से हुआ। हमारी एक दोस्त ने आधिकारिक तौर पर शादी करवाई। एक दोस्त ने बाइबल से एक वर्स पढ़ा और एमा की सबसे अच्छी दोस्त उसकी मेड ऑफ ऑनर बनी थी।”

एमा की माँ आगे कहती हैं, “जब आपको कैंसर होता है तो आप एकांत में रहते हैं, लेकिन हर किसी को उसे देखने का मौका मिला। एमा एक सोशल बटरफ्लाई थी, इसलिए उसके लिए सभी से दूर रहना मुश्किल था। उसके डॉक्टर, नर्स, शिक्षक, परिवार, दोस्त हर कोई आया।”

एलीना के पास अपने नए दामाद के लिए अच्छे शब्दों के अलावा कहने को कुछ नहीं था। उन्होंने कहा, “डीजे सबसे प्यारा बच्चा है। उसका दिल सोने जैसा खालिस है और वह वास्तव में एमा से प्यार करता है। ”

एमा और डैनियल (साभार: कैनेडी न्यूज)

एलीना ने बताया, “एमा हमेशा से एक हेल्दी बच्ची थी। पिछले साल तक वे उसे गिरने के बाद अस्पताल ले गए थे, जिस समय डॉक्टरों को उसके पैर की हड्डियों में कैंसर का पता चला था। उन्होंने कहा, “वह पहले कभी बीमार नहीं थी। अचानक, उसे उल्टी होने लगी। एक बार वह गिर गई थी। इसलिए डॉक्टर्स ने उसके पैरों की जाँच की और पता चला कि कैंसर उसकी हड्डियों में छेद कर रहा था और उसे कमजोर बना रहा था।”

उत्तरी कैरोलाइना के पास विंस्टन-सलेम में बोमन ग्रे स्टेडियम में रेस कार चालकों ने जुलाई रेसिंग इवेंट में अपनी कारों पर “एमा आर्मी” स्टिकर लगाए थे। विंस्टन-सलेम जर्नल की रिपोर्ट के अनुसार, एडवर्ड्स परिवार की मदद के लिए धन जुटाने के प्रयास के तहत यह किया गया था। जून में परिवार को मेडिकल मदद करने के लिए एक और फंडिंग कार्यक्रम हुआ, जिसमें कई ड्राइवर शामिल हुए थे।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

IAS बेटी ऑडी पर बत्ती लगाकर बनाती थी भौकाल, माँ-बाप FIR के बाद फरार: पूजा खेडकर को जाँच के बाद डॉक्टरों ने नहीं माना...

पूजा खेडकर का मामला मीडिया में उठने के बाद उनके माता-पिता से जुड़ी कई वीडियो सामने आई है। ऐसे में पुलिस ने उनकी माँ के खिलाफ एफआईआर की है।

शूटिंग क्लब का सदस्य था डोनाल्ड ट्रम्प पर गोली चलाने वाला, शिकारी वाली वेशभूषा थी पसंद: रिपब्लिकन पार्टी ने बुलाया राष्ट्रीय सम्मेलन, पूर्व राष्ट्रपति...

वो लगभग 1 साल से पास में ही स्थित 'क्लेयरटन स्पोर्ट्समेन क्लब' का सदस्य भी था। इसमें कई शूटिंग रेंज हैं। पहले से कोई भी आपराधिक या ट्रैफिक चालान का मामला दर्ज नहीं।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -