Friday, July 19, 2024
Homeरिपोर्टअंतरराष्ट्रीयट्विटर के बाद अब फेसबुक की पैरेंट कंपनी Meta 11000 कर्मचारियों की करेगी छुट्टी,...

ट्विटर के बाद अब फेसबुक की पैरेंट कंपनी Meta 11000 कर्मचारियों की करेगी छुट्टी, मार्क जुकरबर्ग बोले- सॉरी: मंदी और कम कमाई को बताया कारण

इससे पहले ट्विटर का अधिग्रहण करने के बाद टेस्ला और स्पेसएक्स के मालिक एलन मस्क ने बड़े पैमाने पर छँटनी की है। उन्होंने कंपनी के 7,500 हजार कर्मचारियों में से आधे से अधिक को निकाल दिया। इसके अलावा, महामारी के दौरान तेजी से से भर्ती करने वाली कई अन्य तकनीकी कंपनियों में भी छँटनी हुई है।

सोशल मीडिया साइट ट्विटर (Twitter) के बाद अब फेसबुक (Facebook) की पैरेंट कंपनी मेटा (Meta) ने अपने 11,000 कर्मचारियों की छँटनी का नोटिस दिया है। कंपनी के मालिक मार्क जुकरबर्ग (Mark Zuckerberg) ने कहा कि मेटा के इतिहास में किए गए सबसे कठिन बदलावों के बाद यह निर्णय लिया गया है। इसके साथ ही उन्होंने हायरिंग को जून 2023 तक के स्थगित कर दिया है।

कंपनी के सीईओ मार्क जुकरबर्ग ने बुधवार (9 नवंबर 2022) को अपने कर्मचारियों को लिखे पत्र में कहा कि फेसबुक की पैरेंट मेटा अपने कर्मचारियों की संख्या का लगभग 13% यानी 11,000 लोगों की छँटनी कर रहा है। पत्र में उन्होंने कहा कि मेटा के राजस्व में गिरावट आई है और यह तकनीकी उद्योग के संकट से जूझ रहा है।

उन्होंने कहा कि कोरोना महामारी खत्म होने के बाद भी ग्रोथ में तेज वृद्धि को देखते हुए आक्रामक तरीके से लोगों को नियुक्ति पर जोर दिया गया था। जुकरबर्ग ने कहा, “दुर्भाग्य से यह मेरी अपेक्षा के अनुरूप नहीं रहा। न केवल ऑनलाइन व्यापार पहले के रुझानों की ओर लौट आया है, बल्कि व्यापक आर्थिक मंदी, बढ़ी हुई प्रतिस्पर्धा और विज्ञापन में हानि के कारण हमारा राजस्व अपेक्षा से बहुत कम हो गया है। इस गलती की मैं इसकी जिम्मेदारी लेता हूँ।”

बता दें कि ट्विटर का अधिग्रहण करने के बाद टेस्ला (Tesla) और स्पेसएक्स (SpaceX) के मालिक और अरबपति एलन मस्क (Elon Musk) ने कुछ दिन पहले ही बड़े पैमाने पर छँटनी की है। उन्होंने कंपनी के 7,500 हजार कर्मचारियों में से आधे से अधिक को निकाल दिया। इसके अलावा, महामारी के दौरान तेजी से से भर्ती करने वाली कई अन्य तकनीकी कंपनियों में भी छँटनी हुई है।

कोरोना महामारी के दौरान सोशल मीडिया कंपनियों के ग्रोथ और लाभ में जबरदस्त तेजी देखी गई थी। उस दौरान लॉकडाउन के कारण लोग घरों में रहे और अपने फोन एवं कंप्यूटर पर सोशल मीडिया साइट का खूब उपयोग किया। हालाँकि, जब हालात बेहतर हुए और लोग घरों से बाहर निकलने लगे तो इन कंपनियों की राजस्व वृद्धि डगमगाने लगी।

जुकरबर्ग ने कहा, “हमने अपने व्यवसाय की लागत में कटौती की है, जिसमें बजट को कम करना, भत्तों को कम करना और हमारे रियल एस्टेट को कम करना शामिल है। हम अपनी दक्षता बढ़ाने के लिए टीमों का पुनर्गठन कर रहे हैं, लेकिन अकेले ये उपाय हमारे खर्चों को हमारी राजस्व वृद्धि के अनुरूप नहीं लाएँगे। इसलिए मैंने लोगों को निकालने का कठिन निर्णय भी लिया है।”

अंतरराष्ट्रीय न्यूज एजेंसी AFP के अनुसार, मेटा ने सोशल मीडिया से अपना ध्यान हटाकर ‘मेटावर्स’ (Metaverse) में प्रति वर्ष $10 बिलियन (81,404 करोड़ रुपए) से अधिक का निवेश किया है। जुकरबर्ग का मानना है कि मेटावर्स भविष्य की तकनीक है और यह स्मार्टफोन यूजर के के उपयोग के तरीके को बदल देगा। यही निवेशकों की चिंता की चिंता का सबसे बड़ा कारण है।

डरे हुए निवेशकों ने वर्ष की शुरुआत से कंपनी के शेयरों में 71 प्रतिशत से अधिक की गिरावट देखी है। यह स्टॉक अब साल 2015 के स्तर पर कारोबार कर रहा है। मेटा और उसके विज्ञापनदाता आर्थिक मंदी को लेकर आशंकित हैं और इसका असर कंपनी पर दिख रहा है।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

पुरी के जगन्नाथ मंदिर का 46 साल बाद खुला रत्न भंडार: 7 अलमारी-संदूकों में भरे मिले सोने-चाँदी, जानिए कहाँ से आए इतने रत्न एवं...

ओडिशा के पुरी स्थित महाप्रभु जगन्नाथ मंदिर के भीतरी रत्न भंडार में रखा खजाना गुरुवार (18 जुलाई) को महाराजा गजपति की निगरानी में निकाल गया।

1 साल में बढ़े 80 हजार वोटर, जिनमें 70 हजार का मजहब ‘इस्लाम’, क्या याद है आपको मंगलदोई? डेमोग्राफी चेंज के खिलाफ असम के...

असम के मुख्यमंत्री हिमंता बिस्वा सरमा ने तथ्यों को आधार बनाते हुए चिंता जाहिर की है कि राज्य 2044 नहीं तो 2051 तक मुस्लिम बहुल हो जाएगा।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -