Sunday, July 14, 2024
Homeरिपोर्टअंतरराष्ट्रीयकलमा पढ़ने से मना किया तो पादरी को मार दी गोली: पाकिस्तान में जहाँ...

कलमा पढ़ने से मना किया तो पादरी को मार दी गोली: पाकिस्तान में जहाँ जलाए गए थे चर्च, वहाँ अब ‘लब्बैक या रसूल अल्लाह’ चिल्लाते हुए पादरी पर हमला

पादरी एलियाजर सिद्धू ने कहा है, "मुझ पर आतंकी संगठन तहरीक-ए-लब्बैक पाकिस्तान के आतंकियों ने हमला किया। मैं बाइक से जा रहा था।

पाकिस्तान में अल्पसंख्यक समुदाय पर हमले की घटनाएँ बढ़ती जा रही हैं। अब पंजाब प्रांत के फैसलाबाद जिले में ईसाई पादरी को गोली मारने की घटना सामने आई है। पीड़ित की पहचान एलियाजर सिद्धू के रूप में हुई। आरोप है कि कट्टरपंथी संगठन तहरीक-ए-लब्बैक पाकिस्तान के सदस्य पादरी पर इस्लाम कबूलने का दबाव बना रहे थे। मना करने पर उन लोगों ने पादरी को गोली मार दी।

डॉन की रिपोर्ट के अनुसार, मामला पाकिस्तान के पंजाब प्रांत में फैसलाबाद जिले की जरानवाला तहसील का है। यहाँ के म्योंग-सांग-नोसेर्थ चर्च में पादरी एलियाजर सिद्धू 2 सितंबर, 2023 की रात करीब 9:30 बजे घर लौट रहा था। इसी दौरान उस पर हमला हो गया। हमले में गोली उसके कंधे पर जा लगी। इससे वह जमीन पर गिर गया। गोली की आवाज सुनकर आसपास के लोग मौके पर पहुँचे और उसे को हॉस्पिटल में भर्ती कराया। फिलहाल पादरी की हालत स्थिर है और उसे हॉस्पिटल से छुट्टी मिल गई है।

बीएसीएस से बातचीत में पादरी एलियाजर सिद्धू ने कहा है, “मुझ पर आतंकी संगठन तहरीक-ए-लब्बैक पाकिस्तान के आतंकियों ने हमला किया। मैं बाइक से जा रहा था। तभी दो लोगों ने बीच रास्ते में बाइक खड़ी कर मुझे जबरन रोक दिया। इसके बाद हमलावरों ने मुझे कलमा पढ़ने के लिए कहा। लेकिन मैंने मना कर दिया। इस पर उन्होंने ‘लब्बैक या रसूल अल्लाह’ का नारा लगाते हुए गोली चला दी। गोली कंधे पर लगी इससे मैं गिर गया।”

पादरी ने यह भी कहा है कि इस हमले से कुछ दिन पहले वह अपने बेटे को स्कूल छोड़ने जा रहा था। इसी दौरान दाढ़ी वाले कुछ लोगों ने उसे धमकी देते हुए कहा था, “जिस तरह से चर्च की दीवार लिखे नारे हटा दिए गए हैं। उसी तरह तुम्हें भी जल्द ही हटा दिया जाएगा।”

गौरतलब है कि गत माह 16 अगस्त को फैसलाबाद के जरानवाला तहसील में ही इस्लामिक कट्टरपंथियों की भीड़ ने ईसाइयों को निशाना बनाकर हमले किए थे। इस हमले में 21 चर्चों में आगजनी और तोड़फोड़ की गई थी। वहीं ईसाइयों के कई दर्जन घरों पर हमला हुआ था। इस मामले में पुलिस ने कार्रवाई करते हुए 135 से अधिक लोगों को गिरफ्तार किया है। वहीं करीब 600 लोगों के खिलाफ मुकदमा दर्ज हुआ है। गिरफ्तार किए गए लोगों में तहरीक-ए-लब्बैक पाकिस्तान के सदस्य भी शामिल हैं।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

NITI आयोग की रिपोर्ट में टॉप पर उत्तराखंड, यूपी ने भी लगाई बड़ी छलाँग: 9 साल में 24 करोड़ भारतीय गरीबी से बाहर निकले

NITI आयोग ने सस्टेनेबल डेवलपमेंट गोल्स (SDG) इंडेक्स 2023-24 जारी की है। देश में विकास का स्तर बताने वाली इस रिपोर्ट में उत्तराखंड टॉप पर है।

लैंड जिहाद की जिस ‘मासूमियत’ को देख आगे बढ़ जाते हैं हम, उससे रोज लड़ते हैं प्रीत सिंह सिरोही: दिल्ली को 2000+ मजार-मस्जिद जैसी...

प्रीत सिरोही का कहना है कि वह इन अवैध इमारतों को खाली करवाएँगे। इन खाली हुई जमीनों पर वह स्कूल और अस्पताल बनाने का प्रयास करेंगे।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -