Saturday, March 6, 2021
Home रिपोर्ट अंतरराष्ट्रीय J&K पर दुष्प्रचार को लेकर अमेरिका में ही घिरा वाशिंगटन पोस्ट, कश्मीरी पंडितों ने...

J&K पर दुष्प्रचार को लेकर अमेरिका में ही घिरा वाशिंगटन पोस्ट, कश्मीरी पंडितों ने किया प्रदर्शन

अमेरिका के विभिन्न हिस्सों से वाशिंगटन में एकत्रित हुए कश्मीरी पंडितों ने कश्मीर पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा लिए गए फैसले को साहसिक और ऐतिहासिक कदम बताते हुए उनके समर्थन में नारे लगाए।

जम्मू-कश्मीर को लेकर विदेश मीडिया की भ्रामक रिपोर्टिंग को सरकार कई बार खारिज कर चुकी है। अब इस कारण से अमेरिका में वाशिंगटन पोस्ट के खिलाफ आवाज उठने लगी है। कश्मीरी पंडितों के एक समूह ने अमेरिकी दैनिक द वाशिंगटन पोस्ट में पिछले कुछ दिनों से प्रकाशित होने वाली खबरों का विरोध किया है। दुनियाभर में समुदाय का प्रतिनिधित्व करने वाली संस्था ग्लोबल कश्मीरी पंडित डायस्पोरा (जीकेपीडी) ने इसके विरोध में आमेरिका में द वाशिंगटन पोस्ट के कार्यालय के सामने प्रदर्शन किया।

उनका कहना है कि जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 और अनुच्छेद 35ए के निष्क्रिय हो जाने के बाद से अखबार लगातार एकतरफा और भेदभावपूर्ण खबरें प्रकाशित कर रहा है। उन्होंने अखबार पर पक्षपातपूर्ण रिपोर्टिंग करने का आरोप लगाते हुए कहा, “वाशिंगटन पोस्ट मीडिया की खबरों में कहीं यह जिक्र नहीं है कि इस अराजक राज्य में कश्मीरी पंडितों के खिलाफ सबसे जघन्य नरसंहार हुआ जिससे उन्हें निर्वासित होना पड़ा।”

कश्मीरी पंडितों ने वाशिंगटन पोस्ट को दिए एक ज्ञापन में कहा कि उनकी खबरों में जम्मू-कश्मीर में अनुच्छेद 370 और अनुच्छेद 35ए से हुई कानूनी अराजकता का कोई जिक्र नहीं किया गया है। अमेरिका के विभिन्न हिस्सों से वाशिंगटन में एकत्रित हुए कश्मीरी पंडितों ने कश्मीर पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा लिए गए फैसले को साहसिक और ऐतिहासिक कदम बताते हुए उनके समर्थन में नारे लगाए और प्रदर्शन के आयोजक ने अखबार पर आरोप लगाया कि वाशिंगटन पोस्ट मीडिया की खबरों में कहीं इसकी बात का उल्लेख नहीं किया गया है कि इस राज्य में कश्मीरी पंडितों के खिलाफ सबसे जघन्य नरसंहार हुआ था, जिसकी वजह से उन्हें निर्वासित होना पड़ा था।

रैली के मुख्य संयोजक मोहन सप्रू ने कहा, “वॉशिंगटन पोस्ट की पक्षपातपूर्ण रिपोर्टिंग में इस सच को नजरअंदाज किया गया कि अनुच्छेद 370 और 35ए के कारण अल्पसंख्यक, महिलाएँ और समाज के कमजोर वर्ग के लोग लोकतांत्रिक अधिकारों से वंचित रहे जबकि कश्मीर घाटी काबू से बाहर भ्रष्टाचार, अलगावववाद की जमीन बन गई।”

वहीं, वाशिंगटन पोस्ट की खबरों को न्यायसंगत ठहराते हुए विदेशी खबरों के संपादक डगलस जेह्ल ने कश्मीर पर फैसले के बाद अखबार में छपी खबरों को निष्पक्ष, सटीक और व्यापक बताया। बता दें कि, कश्मीरी पंडित के प्रदर्शन के विरोध और वाशिंगटन पोस्ट के समर्थन में पाकिस्तानी अमेरिकियों, अलगाववादी कश्मीरियों और अलगाववादी खालिस्तानियों के एक समूह ने मूक प्रदर्शन किया। कुछ पाकिस्तानी समर्थक प्रदर्शनकारियों ने भारतीय पत्रकारों को उनके प्रदर्शन को कवर करने से भी रोका। साथ ही अमेरिकी मुस्लिमों के एक समूह ने वाशिंगटन में भारतीय दूतावास के सामने प्रदर्शन किए। 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

नंदीग्राम में ममता और शुभेंदु के बीच महामुकाबला: बीजेपी ने पहले और दूसरे फेज के लिए 57 कैंडिडेट्स के नामों का किया ऐलान

पश्चिम बंगाल विधान सभा चुनाव को लेकर भारतीय जनता पार्टी (BJP) ने 57 सीटों पर कैंडिडेट्स की लिस्ट जारी कर दी है। नंदीग्राम सीट से ममता के अपोजिट शुभेंदु अधिकारी को टिकट दिया गया है।

‘एक बेटा तो चला गया, कोर्ट-कचहरी में फँसेंगे तो वो बाकियों को भी मार देंगे’: बंगाल पुलिस की क्रूरता के शिकार एक परिवार का...

पश्चिम बंगाल में राजनीतिक हिंसा आम बात है। इसी तरह की एक घटना बैरकपुर थाना क्षेत्र के भाटपाड़ा में जून 25, 2019 को भी हुई थी, जब रिलायंस जूट मिल पर कुछ गुंडों ने बम फेंके थे।

‘40 साल के मोहम्मद इंतजार से नाबालिग हिंदू का हो रहा था निकाह’: दिल्ली पुलिस ने हिंदू संगठनों के आरोपों को नकारा

दिल्ली के अमन विहार में 'लव जिहाद' के आरोपों के बाद धारा-144 लागू कर दी गई है। भारी पुलिस बल की तैनाती है।

मनसुख हिरेन का शव लेने से परिजनों का इनकार, कहा- पोस्टमार्टम रिपोर्ट सार्वजनिक हो, मौत का कारण बताएँ: रिपोर्ट

मनसुख हिरेन का शव लेने से परिजनों ने इनकार कर दिया है। उनका कहना है कि पोस्टमार्टम रिपोर्ट सार्वजनिक किए जाने के बाद ही वे शव लेंगे।

राकेश टिकैत से सवाल पूछने पर ‘किसानों’ ने युवती को धमकाया, किसी ने नाम पूछा तो किसी ने छीन ली माइक: देखें वीडियो

नए कृषि कानूनों को लेकर मोदी सरकार का विरोध करने के लिए धनसा राजमार्ग पर डेरा डाले तथाकथित किसानों ने एक युवा महिला के सवाल करने पर इस कदर तिलमिला गए कि कोई उसका नाम पूछने लगा तो किसी ने माइक ही छीन ली।

‘वे पेरिस वाले बँगले की चाभी खोज रहे थे, क्योंकि गर्मी की छुट्टियाँ आने वाली हैं’: IT रेड के बाद तापसी ने कहा- अब...

आयकर छापों पर चुप्पी तोड़ते हुए तापसी पन्नू ने बताया है कि मुख्य रूप से तीन चीजों की खोज की गई।

प्रचलित ख़बरें

माँ-बाप-भाई एक-एक कर मर गए, अंतिम संस्कार में शामिल नहीं होने दिया: 20 साल विष्णु को किस जुर्म की सजा?

20 साल जेल में बिताने के बाद बरी किए गए विष्णु तिवारी के मामले में NHRC ने स्वत: संज्ञान लिया है।

‘शिवलिंग पर कंडोम’ से विवादों में आई सायानी घोष TMC कैंडिडेट, ममता बनर्जी ने आसनसोल से उतारा

बंगाल विधानसभा चुनाव के लिए टीएमसी ने उम्मीदवारों का ऐलान कर दिया है। इसमें हिंदूफोबिक ट्वीट के कारण विवादों में रही सायानी घोष का भी नाम है।

16 महीने तक मौलवी ‘रोशन’ ने चेलों के साथ किया गैंगरेप: बेटे की कुर्बानी और 3 करोड़ के सोने से महिला का टूटा भ्रम

मौलवी पर आरोप है कि 16 माह तक इसने और इसके चेले ने एक महिला के साथ दुष्कर्म किया। उससे 45 लाख रुपए लूटे और उसके 10 साल के बेटे को...

‘मैं 25 की हूँ पर कभी सेक्स नहीं किया’: योग शिक्षिका से रेप की आरोपित LGBT एक्टिविस्ट ने खुद को बताया था असमर्थ

LGBT एक्टिविस्ट दिव्या दुरेजा पर हाल ही में एक योग शिक्षिका ने बलात्कार का आरोप लगाया है। दिव्या ने एक टेड टॉक के पेनिट्रेटिव सेक्स में असमर्थ बताया था।

‘जाकर मर, मौत की वीडियो भेज दियो’ – 70 मिनट की रिकॉर्डिंग, आत्महत्या से ठीक पहले आरिफ ने आयशा को ऐसे किया था मजबूर

अहमदाबाद पुलिस ने आयशा और आरिफ के बीच हुई बातचीत की कॉल रिकॉर्ड्स को एक्सेस किया। नदी में कूदने से पहले आरिफ से...

‘वे पेरिस वाले बँगले की चाभी खोज रहे थे, क्योंकि गर्मी की छुट्टियाँ आने वाली हैं’: IT रेड के बाद तापसी ने कहा- अब...

आयकर छापों पर चुप्पी तोड़ते हुए तापसी पन्नू ने बताया है कि मुख्य रूप से तीन चीजों की खोज की गई।
- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

292,301FansLike
81,963FollowersFollow
393,000SubscribersSubscribe