Tuesday, July 23, 2024
Homeरिपोर्टअंतरराष्ट्रीयकटोरा लेकर पूरी दुनिया में घूम रहा पाकिस्तान, PM मोदी से बात करने को...

कटोरा लेकर पूरी दुनिया में घूम रहा पाकिस्तान, PM मोदी से बात करने को गिड़गिड़ाया: बोले शहबाज शरीफ- भारत के साथ 3 युद्ध लड़े, सबक सीख लिया

पाकिस्तान के पीएम कहते हैं, "मैं यही संदेश प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को देना चाहता हूँ कि चलिए बैठते हैं और बात करते हैं। हम परमाणु शक्ति संपन्न देश हैं। अब कोई जंग हुई तो कोई नहीं जानता कौन बचेगा। मैं कश्मीर सहित सभी मुद्दों पर ईमानदार, गंभीर और संवेदनशील बातचीत करना चाहता हूँ।"

कंगाल पाकिस्तान (Pakistan) अपनी अर्थव्यवस्था बचाने के लिए भीख माँग रहा है। पाकिस्तानी जनता रोटी के लिए बेहाल है। वहाँ के प्रधानमंत्री शहबाज शरीफ दुनिया से आर्थिक मदद की गुहार लगा रहे हैं। अब शरीफ ने भारतीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ बातचीत की इच्छा जताई है। कहा है कि भारत से तीन युद्ध लड़कर पाकिस्तान ने सबक सीख लिया है। इससे हमें केवल कंगाली, गरीबी और बेरोजगारी ही मिली है।

शहबाज शरीफ (Pakistan PM Shehbaz Sharif) ने यह बात अल अरेबिया न्यूज चैनल को दिए इंटरव्यू में कही है। उन्होंने कहा, “भारत और पाकिस्तान पड़ोसी हैं। हमने भारत के साथ तीन युद्ध लड़े। हमें केवल कंगाली, गरीबी और बेरोजगारी ही मिली। हमने सबक सीख लिया है और अब हम शांति के साथ रहना चाहते हैं।”

शरीफ ने अपनी बात जारी रखते हुए आगे कहा, “शांति और तरक्की के लिए जरूरी है कि हम अपने मसलों का निपटारा करें। हम गरीबी को खत्म करना चाहते हैं। खुशहाली और तरक्की चाहते हैं। अपने लोगों को शिक्षा, स्वास्थ्य और रोजगार देना चाहते हैं। हम अपने संसाधन गोला-बारूद और हथियारों पर बर्बाद नहीं करना चाहते।”

प्रधानमंत्री मोदी से बातचीत के इच्छुक पाकिस्तान के पीएम कहते हैं, “मैं यही संदेश प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को देना चाहता हूँ कि चलिए बैठते हैं और बात करते हैं। हम परमाणु शक्ति संपन्न देश हैं। अब कोई जंग हुई तो कोई नहीं जानता कौन बचेगा। मैं कश्मीर सहित सभी मुद्दों पर ईमानदार, गंभीर और संवेदनशील बातचीत करना चाहता हूँ।”

शरीफ मानवाधिकारों के उल्लंघन के आरोपों को सिरे से खारिज करते हुए कहते हैं कि इसे नजरअंदाज नहीं किया जा सकता है। इंटरव्यू में उन्होंने बताया, “हमारे पास इंजीनियर, डॉक्टर और कुशल मजदूर हैं। हम इनका उपयोग समृद्धि और देश में शांति लाने के लिए करना चाहते हैं ताकि दोनों देश विकसित हो सकें। अब यह हमारे ऊपर है कि हम शांति से रहें और प्रगति करें, या फिर एक दूसरे के साथ झगड़ा करें। समय और संसाधनों को बर्बाद करें।”

मालूम हो कि इन दिनों पाकिस्तान में आटे के लिए हाहाकार मचा हुआ है। लोग रोटी के लिए तरस रहे हैं। सब्सिडी वाले आटे के लिए मची भगदड़ में कई लोगों की जानें जा चुकी हैं। सोशल मीडिया पर पाकिस्तान के कई वीडियो वायरल हो रहे हैं, जिनमें वहाँ के लोग अपनी झोली फैलाकर 1 किलो आटे के लिए लाइनों में लगे हुए दिखाई दे रहे हैं। वहीं, हथेलियों से नाप-नाप के उनकी झोली में आटा डाला जा रहा है।

यही नहीं आटे के लिए लोग एक दूसरे को धक्का मारकर नाले में गिराते हुए भी दिखाई दिए। इसके अलावा बीते दिनों पाकिस्तान में सुरक्षा गार्ड AK-47 लेकर ट्रक से लोगों को आटा बाँटने के लिए जाते हैं, ताकि वे आटे की रक्षा कर सकें। इस दौरान उन्हें आटा बचाने के लिए गोलाबारी करते हुए भी देखा गया।

गौरतलब है कि पाकिस्तान के कराची में इस समय आटे का भाव 140-160 किलोग्राम है, जबकि इस्लामाबाद और पेशावर में 10 किलो का आटे का बैग 1500 किलो में बिक रहा है। वहीं 20 किलो आटे का बैग 2800 का मिल रहा है। खैबर पख्तूख्वा में भी आटे के दाम आसमान छू रहे हैं। वहाँ 20 किलो आटे का बोरी 3100 में बिक रही है। सरकार बिगड़ते हालातों को स्थिर करने में असमर्थ है।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

राक्षस के नाम पर शहर, जिसे आज भी हर दिन चाहिए एक लाश! इंदौर की महारानी ने बनवाया, जयपुर के कारीगरों ने बनाया: बिहार...

गयासुर ने भगवान विष्णु से प्रतिदिन एक मुंड और एक पिंड का वरदान माँगा है। कोरोना महामारी के दौरान भी ये सुनिश्चित किया गया कि ये प्रथा टूटने न पाए। पितरों के पिंडदान के लिए लोकप्रिय गया के इस मंदिर का पुनर्निर्माण महारानी अहिल्याबाई होल्कर ने करवाया था, जयपुर के गौड़ शिल्पकारों की मेहनत का नतीजा है ये।

मार्तंड सूर्य मंदिर = शैतान की गुफा: विद्यार्थियों को पढ़ाने वाला Unacademy का जहरीला वामपंथी पाठ, जानिए क्या है इतिहास

मार्तंड सूर्य मंदिर को 8वीं शताब्दी ईस्वी में बनाया गया था और यह हिंदू धर्म के प्रमुख सूर्य देवता सूर्य को समर्पित है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -